ISL : चेन्नइयन ने ओडिशा को 2-1 से हराया
ISL : चेन्नइयन ने ओडिशा को 2-1 से हरायाSocial Media

ISL : चेन्नइयन ने ओडिशा को 2-1 से हराया

पिछले मैच में पहली हार को पीछे छोड़ते हुए चेन्नइयन एफसी ने ओडिशा एफसी को 2-1 से हरा दिया।

वास्को। पिछले मैच में पहली हार को पीछे छोड़ते हुए चेन्नइयन एफसी ने ओडिशा एफसी को 2-1 से हरा दिया। शनिवार को वास्को डे गामा स्थित तिलक मैदान स्टेडियम में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) 2021-22 के लीग मुकाबले में चेन्नइयन के लिए जर्मनप्रीत सिंह और मिरलान मुर्जाएव ने दोनों हाफ में एक-एक गोल दागा। तीसरी जीत के साथ ही कोच बोजिदार बांदोविक की टीम चेन्नइयन अंक तालिका में पांचवें से तीसरे स्थान पहुच गई है। उसके छह मैचों में 11 अंक हो गए हैं। वहीं, ओडिशा तीसरी हार से एक स्थान लुढ़क कर पांचवें पायदान पर आ गई है। उसके छह मैचों में तीन जीत से नौ अंक हैं।

पहले हाफ में तेज गति की फुटबाल देखने को मिली, जिसमें दोनों टीमों की तरफ से गेंद पर नियंत्रण के लिए लगातार संघर्ष हुआ। दोनों ही तरफ से हमले बोले गए। इस दौरान चेन्नइयन एफसी न केवल गोल करने में सफल रही बल्कि उसका मिडफील्ड पर दबदबा रहा। कप्तान अनिरुद्ध थापा, जर्मनप्रीत सिंह और व्लादिमीर कोमैन की तिकड़ी ने मिडफील्ड में दमदार प्रदर्शन करके विपक्षी टीम पर दबाव बनाए रखा। चेन्नइयन की ओर से ज्यादा हमले हुए और कई शॉट लक्ष्य की तरफ लगाए गए जबकि उसके डिफेंडर हमेशा ही ओडिशा की टीम को रोकते रहे। पहले हाफ में दोनों टीमों को कुछ मौके जरूर मिले लेकिन ज्यादातर में दोनों गोलकीपरों को बहुत परेशानी हुई।

मैच का पहला गोल 23वें मिनट में जर्मनप्रीत सिंह ने दागा और चेन्नइयन एफसी को 1-0 की बढ़त मिल गई। दाहिने फ्लैंक से बने एक हमले में बॉक्स के अंदर से कप्तान अनिरुद्ध थापा के शॉट को ओडिशा एफसी के गोलकीपर कमलजीत सिंह ने डाइव लगाकर ब्लॉक किया लेकिन गेंद डिफ्लेक्ट होकर जर्मनप्रीत के पैरों के आगे गिरी और पोस्ट से छह गज की दूरी पर खड़े इस मिडफील्डर के पहले प्रयास को ओडिशा के डिफेंडर रोक दिया। लेकिन रिबाउंड पर गेंद फिर से उनके पास आ गई और उन्होंने ओडिशा के दोनों सेंट्रल डिफेंडरों के बीच से गेंद को राइट फुटर शॉट से गोलपोस्ट के अंदर पहुंचा दिया। यह जर्मनप्रीत सिंह का हीरो आईएसएल में पहला गोल है। उनको 2015 में हीरो आईएसएल में अपनी शुरुआत के बाद यह गोल करने में छह साल लग गए।

मध्यांतर के बाद 63वें मिनट में मिरलान मुर्जाएव के बेहतरीन गोल की मदद से चेन्नइयन एफसी की बढ़त 2-0 हो गई। बायीं तरफ से लालिआनजुआला चांग्टे ने उन्हें गेंद पास की। उनको ओडिशा का कोई भी खिलाड़ी मार्क नहीं कर रहा था। इसका फायदा उठाकर कीर्गिस्तानी विंगर ने बड़े ही इत्मीनान से गेंद को नियंत्रित करने के बाद बॉक्स के काफी बाहर से राइट फुटर शॉट लगाया। गेंद सीधे गोलपोस्ट के अंदर चली गई और ओडिशा के गोलकीपर कमलजीत सिंह ने अपनी दाहिनी तरफ डाइव लगाई लेकिन उनके पास इस शॉट को रोकने का कोई मौका नहीं था। इस गोल का जश्न मिरलान ने एक्रोबैटिक अंदाज में मनाया।

85वें मिनट में चेन्नइयन एफसी को तीसरा गोल करने का सुनहरा मौका पेनल्टी किक के रूप में मिला। लेकिन लुकास गिकिएविक्ज के राइट फुटर शॉट को गोलकीपर कमलजीत ने अपने दाहिने तरफ डाइव लगाते हुए बेहतरीन ढंग से रोक दिया। इस तरह ओडिशा एफसी को कुछ राहत मिली जबकि पोलिश स्ट्राइकर अपने इस प्रयास से निराश नजर आया। यह पेनल्टी उस समय मिली, जब पेनल्टी क्षेत्र के अंदर व्लादिमीर कोमन को एक गेंद मिली और सेबस्टियन थंगमुआनसांग उनको खतरनाक ढंग से गिराकर फाउल कर दिया। लिहाजा, रैफरी प्रतीक मंडल ने पेनल्टी देने में कोई हिचकिचाहट नहीं दिखाई। मैच के अंतिम क्षणों यानी पांच मिनट के स्टॉपेज टाइम में ओडिशा एफसी के लिए सांत्वना गोल जेवियर हर्नांडेज ने दागा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co