करीबी मैच में हारने वाला पक्ष बनना आसान नहीं : मोर्गन
करीबी मैच में हारने वाला पक्ष बनना आसान नहीं : मोर्गनSocial Media

करीबी मैच में हारने वाला पक्ष बनना आसान नहीं : मोर्गन

इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने कहा हमारे गेंदबाजों की बुरी तरह पिटाई हुई है। एक करीबी मैच में पराजित टीम बनना आसान नहीं है।

अबू धाबी। इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने यहां टी-20 विश्व कप 2021 के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हार के बाद कहा कि करीबी मैच में हारने वाली टीम बनना आसान नहीं है। मोर्गन ने कहा, '' जिमी नीशम की 11 गेंदों में 27 रन की खेल बदलने वाली पारी ही जीत और हार का कारण बनी।

हमारे गेंदबाजों की बुरी तरह पिटाई हुई है। एक करीबी मैच में पराजित टीम बनना आसान नहीं है। मुझे लगता है कि हम एक ऐसे विकेट पर लड़े जो हमारी बल्लेबाजी के अनुकूल नहीं था, लेकिन हम चुनौतीपूर्ण स्कोर के आसपास पहुंचने में सफल रहे। हम गेंद के साथ शानदार थे और खेल में सही थे, जब तक जिमी नीशम विकेट पर नहीं आए थे। मुझे लगता है कि दोनों पारियों में हर किसी ने दोनों तरफ से बाउंड्री लगाने के लिए संघर्ष किया, क्योंकि यह पिच ही ऐसी थी, हालांकि आपको पूरा श्रेय केन विलियम्सन और उनकी टीम को देना होगा जो सच में अच्छा खेली और हमें खेल से बाहर कर दिया।"

कप्तान ने कहा, '' मुझे लगता है कि शायद जिमी नीशम एकमात्र ऐसे खिलाड़ी थे जो मैदान पर आए और पहली गेंद से ही साफ-सुथरी हिटिंग करने की क्षमता दिखाई। विकेट थोड़ा मुश्किल था। हम सिक्स हिटिंग टीम हैं, लेकिन हमें छक्के जड़ने में मुश्किल हुई। हमारे खिलाड़ियों ने यह महसूस नहीं किया कि वह पिच की स्थिति के हिसाब से छक्के जड़ सकते हैं। स्पिनरों को मदद मिल रही थी। गेंद को सीमा रेखा के बाहर मारना मुश्किल था, लेकिन मुझे लगता है कि न्यूजीलैंड की पारी के दौरान उनके खिलाड़ियों के क्रीज पर आने से लेकर अंत तक हिटिंग जारी रही।"

इंग्लैंड के कप्तान ने कहा, '' जब आप शुरुआत में दो बड़े विकेट लेते हैं, जैसे हमने लिए तो आप खेल में आगे महसूस करते हैं। मुझे लगता है कि दो विकेट गिरने के बाद न्यूजीलैंड के खिलाड़ी पारी को स्थिर करने की कोशिश कर रहे थे। मुझे लगता है कि हम उन्हें कुछ समय तक दबाव और नियंत्रण में रखने में कामयाब रहे, लेकिन उन्होंने पारी को गति देने के लिए अच्छा प्रदर्शन किया और फिर वह निश्चित रूप से अच्छी स्थिति में आ गए।"

उल्लेखनीय है कि 167 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड की टीम नीशम के क्रीज पर आने के वक्त आवश्यक रन रेट से बहुत पीछे थी। इस समय न्यूजीलैंड को जीत के लिए 29 गेंदों पर 60 रन चाहिए थे, लेकिन नीशम की विस्फोटक पारी और डेरिल मिचेल द्वारा दबाव बनाए गए 47 गेंदों 72 रन की बदौलत न्यूजीलैंड एक ओवर शेष रहते हुए जीत हासिल करने में सफल रहा। यह इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच एक और रोमांचक मुकाबला था और इस बार विलियम्सन की टीम अबू धाबी में विजयी होकर लगातार तीसरी बार आईसीसी प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंची।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co