क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया में हो रही है जमकर राजनीति : जस्टिन लैंगर
क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया में हो रही है जमकर राजनीति : जस्टिन लैंगरSocial Media

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया में हो रही है जमकर राजनीति : जस्टिन लैंगर

जस्टिन लैंगर ने ऑस्ट्रेलिया के कोच पद से हटने के लगभग तीन महीने बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) में चल रही जघन्य पॉलिटिक्स की निंदा की है।

मेलबोर्न। जस्टिन लैंगर ने ऑस्ट्रेलिया के कोच पद से हटने के लगभग तीन महीने बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) में चल रही जघन्य पॉलिटिक्स की निंदा की है। उन्होंने सीए के अंतरिम अध्यक्ष रिचर्ड फ़्रॉयडेंस्टाइन पर निशाना साधा है। लैंगर ने टी20 विश्व कप और एशेज दोनों में ऑस्ट्रेलिया की जीत सुनिश्चित करने के बावजूद अपने अनुबंध में केवल छह महीने की वृद्धि पाने पर फरवरी में इस्तीफा दिया था।

उस दौरान यह अफवाह भी उड़ी थी कि टीम के वरिष्ठ खिलाड़ियों और लैंगर में बातचीत की कमी होने लगी है। लैंगर के साथ हुए व्यवहार पर मार्क वॉ, एडम गिलक्रिस्ट, रिकी पोंटिंग, स्टीव वॉ, मैथ्यू हेडन और शेन वॉर्न जैसे पूर्व खिलाड़ियों ने भी नाराजगी जताई थी।

लैंगर ने कोच पद से हटने के एक दिन बाद फ़्रॉयडेंस्टाइन के साथ हुई बातचीत के बारे में बताते हुए कहा, उन्होंने पहली बात जो मुझसे बोली वह थी, 'आप को तो बड़ा मजा आ रहा होगा कि आपके सारे पुराने दोस्त मीडिया में आपका समर्थन कर रहे हैं 'मैंने कहा,' जी हां लेकिन ये मेरे दोस्त होने के अलावा ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में भी शुमार हैं। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट इन सब से ही बना है। यह पूरी दुनिया में इस खेल में काम करते आए हैं। जाहिर सी बात है मैं खुश हूं मेरे दोस्त मेरे समर्थक हैं। काश आप भी ऐसा कह पाते।'

इसके बाद लैंगर का नाम इंग्लैंड के कोचिंग पद से भी जोड़ा गया। हालांकि लैंगर ने स्पष्ट किया कि उनके जैसे ऑस्ट्रेलिया प्रेमी के लिए चिर प्रतिद्वंदी इंग्लैंड खेमे का हिस्सा होना असंभव था।

कोच के कार्यकाल से मिली सीख पर लैंगर बोले, तीन साल तक मैं पॉलिटिक्स से जूझता रहा। इससे आप थक जाते हैं। यह काम आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। एक चीज जो मैंने सीखr वह यह थrकि अगर आप अपने डेस्क से सब कुछ हटा दें तो आपको बस दो ही चीजें नजर आएंगी। एक है सब कुछ जीतना और दूसरा अपने लोगों के साथ सही व्यवहार रखना।

उन्होंने आगे कहा, अगर आपके साथ लोगों का समर्थन रहे तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं। अगर नहीं तो एक अकेलापन आ जाता है। नेतृत्व बड़ी एकाकी चीज है,लेकिन इसे आसान लोगों का समर्थन बनाता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co