Raj Express
www.rajexpress.co
वर्ष 2019 में आईपीएल की ब्रांड वैल्यू बढ़ी
वर्ष 2019 में आईपीएल की ब्रांड वैल्यू बढ़ी|Social Media
खेल

मंदी के बावजूद वर्ष 2019 में आईपीएल की ब्रांड वैल्यू बढ़ी

पिछले वर्ष की तुलना में वर्तमान साल 2019 में आईपीएल की ब्रांड वैल्यू 7% बढ़कर 47,500 करोड़ रुपये हो गई है। लेकिन सन 2018 आईपीएल की ब्रांड वैल्यू 19% बढ़ी थी

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। विश्व कप की समयबद्धता और सुस्त कारोबारी माहौल ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के ब्रांड वैल्यू को प्रभावित किया है। विश्व की प्रसिद्ध T-20 इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) देश की अर्थव्यवस्था में सुस्ती के बावजूद, IPL की लोकप्रियता अपने चरम पर है और पिछले वर्ष की तुलना में वर्तमान साल 2019 में आईपीएल की ब्रांड वैल्यू 7% बढ़कर 47,500 करोड़ रुपये हो गई है। लेकिन सन् 2018 आईपीएल की ब्रांड वैल्यू 19% बढ़ी थी इस लिहाज से इस बार आईपीएल में कम बढ़ाेत्तरी दर्ज की गई है, इसकी वजह रुपये के अवमूल्यन से जुड़ी भी हो सकती है हालांकि, लीग का मूल्यांकन इस साल 2018 में 41,800 करोड़ रुपये से बढ़कर 47,500 करोड़ रुपये हो गया।

आईपीएल की ब्रैंड वैल्यू 7% बढ़ी

इंग्लैंड में आयोजित हुए ICC वनडे वर्ल्ड कप के बावजूद साल 2019 में लीग की ब्रांड वैल्यू 7% बढ़ गई है, जिसके बाद IPL की ब्रांड वैल्यू गत वर्ष की तुलना में मौजूदा वर्ष 2019 में IPL ब्रांड वैल्यू सात फीसदी बढ़कर 47,500 करोड़ रुपए पहुंच गई, वैश्विक सलाहकार कंपनी डफ एंड फेल्प्स रिपोर्ट के अनुसार यह वृद्धि तब दर्ज की गई है जब देश की अर्थव्यवस्था में मंदी का दौर है। वर्ष 2017 में लीग की ब्रांड वैल्यू 36,000 करोड़ रुपए थी और 2018 में भारत में खेली गई T-20 लीग का ब्रांड वैल्यू 41,800 करोड़ रुपये थी इस साल (2019) में लीग की ब्रांड वैल्यू 47,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गई।

मुंबई इंडियंस टॉप पर :

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने वर्ष 2008 में प्रीमियर टी 20 क्रिकेट लीग की शुरुआत की थी, जिसमें कॉर्पोरेट जगत की आठ टीमों ने हिस्सा लिया था। आईपीएल की सफलता को देखकर दो और टीमों को शामिल किया था लेकिन बाद में फिर यह संख्या 8 सीमित हो गई है। मुकेश अंबानी की मुंबई इंडियंस चार सीजन की विजेता है, आईपीएल फ्रेंचाइजीज़ को भी इस वृद्धि और इसकी सबसे सफल टीम से लाभ हुआ है जिससे इसके ब्रांड मूल्य में 8.5 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 809 करोड़ रुपये हो गई हैं। इस वर्ष मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के ब्रांड मूल्यों में वृद्धि हुई।

  • पिछले साल मुंबई इंडियंस का मूल्य 746 करोड़ रुपये था। इस वर्ष यह मूल्य 809 करोड़ रुपये है।

  • इसी तरह 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स का मूल्य 647 करोड़ रुपये था। इस वर्ष यह मूल्य में 732 करोड़ रुपये है ।

वहीं कोलकाता नाइटराइडर्स और लीग की फिसड्डी टीम विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू की ब्रांड वैल्यू 8-8 फीसदी बढ़ी है जो 630 करोड़ रुपए और क्रमश: 595 करोड़ रुपए है। हालांकि अन्य टीमों मुंबई, चेन्नई और अपने प्रदर्शन से चौंकाने वाली दिल्ली कैपिटल्स की तुलना में यह कम है। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई की ब्रांड वैल्यू 13.1 फीसदी बढ़ी है जिससे यह 732 करोड़ रुपए पहुंच गयी है। दो वर्ष केनिलंबन के कारण हालांकि चेन्नई की ब्रांड वैल्यू में कुछ कमी आयी थी लेकिन इस सत्र में वापसी कर रही चेन्नई ने काफी जल्दी ट्रैक पर वापसी कर ली है। IPL की सबसे युवा टीम सनराइजर्स हैदराबाद ने भी बढ़ोत्तरी दर्ज की है जबकि दिल्ली कैपिटल्स के नए नाम से उतरी दिल्ली फ्रेंचाइजी की ब्रांड वैल्यू में नौ फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है।

प्रबंध निदेशक वरुण गुप्ता के अनुसार-

एशिया पैसिफिक लीडर फॉर वैल्यूएशन सर्विसेज के प्रबंध निदेशक वरुण गुप्ता के अनुसार- वर्ष 2022 में ग्रैबर्स के लिए प्रायोजन अधिकार प्राप्त होने पर आईपीएल एक और बड़े पैमाने पर वेतन वृद्धि की तलाश करेगा।

जाने इंडियन प्रीमियर लीग 2020 से जुड़े कुछ नए नियम