ऑस्ट्रेलिया के लिए श्रीलंका में वनडे जीतते हुए टेस्ट की तैयारी करना सबसे जरूरी : मैकडोनाल्ड
ऑस्ट्रेलिया के लिए श्रीलंका में वनडे जीतते हुए टेस्ट की तैयारी करना सबसे जरूरी : मैकडोनाल्डSocial Media

ऑस्ट्रेलिया के लिए श्रीलंका में वनडे जीतते हुए टेस्ट की तैयारी करना सबसे जरूरी : मैकडोनाल्ड

फिलहाल श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज जीतने के अलावा ऑस्ट्रेलिया के लिए अगले दो हफ्तों में दो साल में पहली बार सामान्य स्थिति पर लौटने वाले दुनिया में दो बड़े लक्ष्य हैं।

कोलम्बो। फिलहाल श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज जीतने के अलावा ऑस्ट्रेलिया के लिए अगले दो हफ्तों में दो साल में पहली बार सामान्य स्थिति पर लौटने वाले दुनिया में दो बड़े लक्ष्य हैं। 2019 में इंग्लैंड दौरे के बाद पहली बार ऐसा होगा कि जब मुख्य दल पांच वनडे मैच खेल रहा होगा, तब साथ में ऑस्ट्रेलिया ए के रूप में अन्य खिलाड़ी हंबनटोटा में श्रीलंका ए के विरुद्ध दो वनडे मुकाबलों में 1-1 ड्रॉ के बाद दो चार-दिवसीय मैच खेलेंगे। उम्मीद यही है कि अगले दो हफ्तों में अधिकांश खिलाड़ी ड्रिंक्स ड्यूटी की बजाय क्रिकेट खेलने में व्यस्त होंगे। हालांकि मिचेल स्टार्क की उंगलियों में और मिचेल मार्श की पिंडली में चोटों के चलते वनडे टीम में कुछ बदलाव दिखेंगे।

सबसे बड़ा फ़ैसला था ट्रैविस हेड को ए वनडे सीरीज में 76 गेंदों पर शतक जड़ने के बाद चार-दिवसीय मैचों के लिए ए टीम में शामिल किया जाना। हाल ही में हेड पाकिस्तान में वनडे टीम के लिए असाधारण फॉर्म में थे लेकिन डेविड वॉर्नर और स्टीवन स्मिथ के टीम में लौटने से उन्हें मुख्य दल में जगह नहीं मिली थी। कोच ऐंड्रयू मैकडोनाल्ड ने हेड के बारे में कहा, वह चयन होने के लिए टीम का दरवाजा काफी जोर से खटखटा रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान में मिले मौके का बेहतरीन फायदा उठाया। डेवी अब उनकी जगह आ गए हैं और स्टीव स्मिथ भी लौट आए हैं तो अब उन्हें थोड़ा और इंतजार करना होगा। हमें लगा वह ए टीम के साथ खेलेंगे तो उपमहाद्वीप के परिस्थितियों में बेहतर होगा। एक-आध चोट के चलते हमने अपनी शुरुआती योजनाओं को थोड़ा बदल दिया है। हमारी चाह यही है कि हर खिलाड़ी को मैदान पर खेलने का अवसर हो और कोई भी बेंच पर बैठ कर वक्त जाया ना करें।

श्रीलंका ए के खिलाफ पहले वनडे में कैमरन ग्रीन एवं ऐलेक्स कैरी दोनों खेले थे और ग्रीन ने नाबाद शतक जड़ा था। पहले दो वनडे खेले जाने के बाद जब मैच कोलंबो में होंगे तब दोनों दलों में थोड़े और प्रयोग और परिवर्तन की संभावना बनी रहेगी। टेस्ट सीरीज के लिए तैयारी के तहत ग्रीन पहले दो वनडे अंतर्राष्ट्रीय मैचों में गेंदबाजी नहीं करेंगे। गॉल में टेस्ट मैचों में उनकी गेंदबाजी टीम संतुलन का एक अहम हिस्सा होगी, खास कर तब अगर ऑस्ट्रेलिया तीन स्पिनरों के साथ उतरना चाहे।

मैकडोनाल्ड ने कहा, उनकी हरफनमौला काबिलियत हमें जरूरत पड़ने पर तीन स्पिनर खिलाने का अवसर प्रदान करेगी। हमने पाकिस्तान और एशेज में देखा उनकी गेंदबाजी कितना बड़ा फर्क पैदा कर सकती है। उनका और बाकी तेज गेंदबाजों का अच्छा प्रबंधन बहुत जरूरी है ताकि सब फिट और उपलब्ध रहें। टेस्ट सीरीज से पहले लेग स्पिनर मिचेल स्वेप्सन भी लाल गेंद की क्रिकेट का अभ्यास चाहेंगे। स्वेप्सन, नेथन लायन के साथ स्पिन गेंदबाजी की कमान संभालेंगे लेकिन उससे पहले वनडे सीरीज में भी दिख सकते हैं। मैकडोनाल्ड ने कहा, हमें अपने कोचिंग स्टाफ पर यह विश्वास है कि वह खिलाड़ियों को अच्छे से तैयार करेंगे चाहे वह मैच खेलकर हो या मैदान के बाहर अभ्यास से। उन्हें [स्वेप्सन को] वनडे में मौका मिल सकता है और हमने देखा है प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना बहुत लाभदायक होता है।

मुख्य कोच भूमिका में हाल ही में नियुक्त हुए मैकडोनाल्ड की नजर 18 महीने बाद होने वाले वनडे विश्व कप पर भी है। उन्होंने कहा, हमने बहुत अधिक 50 ओवर क्रिकेट नहीं खेला है और इसलिए 2023 की तैयारी बहुत जरूरी होगी। हमने कुछ अलग-अलग प्रकार की योजनाएं बनाईं हैं लेकिन हमें पता नहीं अगले साल कौन से खिलाड़ी उपलब्ध होंगे और कौन नहीं। यह बहुत आवश्यक होगा कि आप की टीम में कोई कमी ना रहे और साथ ही जीतने की आदत को बरकरार रखना भी अनिवार्य है

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co