Raj Express
www.rajexpress.co
Mahendra Singh Dhoni
Mahendra Singh Dhoni |Social Media
खेल

धोनी की जिंदगी के दो खूबसूरत पल, संन्यास को लेकर भी तोड़ी चुप्पी

भारत के सबसे सफल पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि, 2007 में T20 वर्ल्ड कप और 2011 में विश्वकप के वो दो पल दिल के सबसे करीब हैं।

Ankit Dubey

राज एक्सप्रेस। भारत के सबसे सफल पूर्व कप्तान और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि, 2007 में T20 वर्ल्ड कप और 2011 में विश्व कप जीतने का अनुभव सबसे बेहतरीन है। उन्होंने कहा कि, उनकी टीम का जो शानदार स्वागत हुआ, वह दिल को सुकून देता है। भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 2007 में दक्षिण अफ्रीका में हुए टी-20 विश्व कप में जीत हासिल की थी, फिर 2011 में धोनी की कप्तानी में वनडे विश्वकप का खिताब भी अपने नाम किया था।

एक कार्यक्रम के दौरान क्या बोले धोनी

महेंद्र सिंह धोनी एक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए थे, उन्होंने वहां कहा कि, मेरी जिंदगी के दो पल बहुत ही शानदार हैं, मैं उनका जिक्र करना चाहूंगा, हम 2007 में T20 विश्व कप के बाद भारत आए और हमने खुली बस में जश्न मनाया था और हम मरीन ड्राइव मुंबई में खड़े रहे, हर तरफ जाम लगा हुआ था और लोग हमारे स्वागत के लिए सभी जगह जमा हो गए थे। दर्शकों की भीड़ में हर चेहरे पर खुशी दिखी और इस खुशी को देखकर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। दर्शकों की भीड़ में बहुत से ऐसे लोग भी रहे होंगे जिनके बहुत से काम छूट गए होंगे। जिनकी उड़ाने भी छूट गई होंगी, हो सकता है किसी के कीमती काम ना भी सके हो।

वह स्वागत में कभी नहीं भूल सकता पूरी मरीन ड्राइव एक छोर से दूसरे छोर तक खचाखच भरी थी।

वहीं दूसरी तरफ 2011 विश्व कप जीतने के बाद उन्होंने कहा कि, स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था और दर्शक वंदे मातरम चिल्ला रहे थे, उन्होंने कहा कि, यह पल भी दिल के बेहद करीब है।उन्होंने कहा इस मैच में जब मैं बल्लेबाजी कर रहा था और आखिर में 15- 20 रनों की जरूरत थी तो, वहां स्टेडियम में दर्शक वंदे मातरम कह रहे थे और यह आवाज दिल को छू रही थी।

इन पलों का फिर से हो पाना नामुमकिन

महेंद्र सिंह धोनी ने कहा- "मुझे लगता कि, इन दोनों पलों को फिर से नहीं पाया जा सकता है, यह दो घटनाएं मेरे दिल के बहुत नजदीक हैं, उन्होंने कहा कि, क्रिकेट में कुछ भी हो सकता है, यह अनिश्चितताओं का खेल रहा है, जिसके कारण देश में या खेल सबसे ज्यादा मशहूर है।"

क्रिकेट की लोकप्रियता पर भी बोले धोनी

महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि क्रिकेट अनिश्चितताओं से भरा हुआ खेल है, इसलिए सबसे लोकप्रिय माना जाता है, इसमें किसी भी पल खेल बदल सकता है। अगर क्रिकेट इतना लोकप्रिय है तो, सिर्फ और सिर्फ दर्शकों की वजह से, दर्शक ही हैं जो क्रिकेट को इतना लोकप्रिय बनाते हैं।

धोनी ने सन्यास को लेकर भी चुप्पी तोड़ी

महेंद्र सिंह धोनी के सन्यास को लेकर काफी अटकलें शुरू हो गई थी, धोनी विश्वकप के बाद से ही क्रिकेट से दूरी बनाए हुए हैं, जब धोनी से सवाल किया गया कि, वह कब तक क्रिकेट से दूर रहेंगे तो, उन्होंने बहुत ही साफ शब्दों में कह दिया कि "जनवरी तक मत पूछो"।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।