Raj Express
www.rajexpress.co
साइमन टॉफेल (Simon Taufel )
साइमन टॉफेल (Simon Taufel )|Social Media
खेल

आईसीसी पैनल में भारतीय अंपायरों की कमी चिंता का विषय: साइमन टॉफेल

आईसीसी के नंबर 1 अंपायरों में से एक साइमन टॉफेल (Simon Taufel ) ने आईसीसी से अंपायरों की एलीट पैनल की कार्यप्रणाली को सुधारने की बात कही है।

Ankit Dubey

राज एक्सप्रेस। आईसीसी के नंबर 1 अंपायरों में से एक साइमन टॉफेल (Simon Taufel ) ने आईसीसी से अंपायरों की एलीट पैनल की कार्यप्रणाली के ढांचे को सुधारने की बात कही है। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने कहा है कि इस एलीट पैनल में एक भी भारतीय अंपायर मौजूद नहीं है और उन्हें इस बात की भी उम्मीद नहीं है कि आने वाले भविष्य में इस पैनल में भारतीय अंपायर होगा या नहीं। इस बात का कारण यह है कि विश्वस्तरीय अंपायर तैयार करने में कम से कम 10 से ज्यादा साल लग जाते हैं, इसलिए अंपायर चयन प्रक्रिया में सही सुधार होने चाहिए।

सुंदरम रवि थे एकमात्र भारतीय अंपायर

आईसीसी के एलीट पैनल में भारत की ओर से एकमात्र भारतीय अंपायर थे सुंदरम रवि, उन्होंने 33 टेस्ट 48 वनडे और 18 अंतर्राष्ट्रीय T-20 में अंपायरिंग की थी, लेकिन उन्हें इसी साल इस पैनल से निकाल दिया गया। एस वेंकटराघवन के बाद 53 साल के रवि एलीट पैनल में शामिल होने वाले दूसरे भारतीय थे।

सुंदरम रवि (Sundaram Ravi)
सुंदरम रवि (Sundaram Ravi)
Social Media

साइमन टॉफेल की बीसीसीआई को सलाह

साइमन टॉफेल ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि, मुझे याद है हमने भारत में 2006 से 2016 तक एक प्रोग्राम चलाया था, तब सिर्फ एक अंपायर एस रवि को तैयार कर एलीट पैनल में शामिल करने में 10 साल लगे, इसलिए बीसीसीआई को इस बारे में सोचना चहिए। उन्हें अंपायर की जरूरत है, सौरव गांगुली के अध्यक्ष बनने के बाद बीसीसीआई सही दिशा पर है। जब वे घरेलू क्रिकेट को मजबूत करने की बात करते हैं तो मुझे लगता है कि बड़े अंपायर को बनाने पर भी प्रोग्राम होना चाहिए।

इस जगह साइमन टॉफेल ने बताया कि, यह सिर्फ अंपायरिंग की बात नहीं है यह व्यवस्था और ढांचे की बात है यह उस माहौल को तैयार करने की बात है जहां अंपायर प्रगति करें इसका सही मतलब यह है कि, आपके पास समर्पित संसाधन होने चाहिए, आपके पास अंपायर मैनेजर, अंपायर कोच, अंपायर ट्रेनर भी होने चाहिए।

साइमन टॉफेल थे बेस्ट अंपायर

ऑस्ट्रेलिया के इस पूर्व अंपायर की बात करें तो यह बेस्ट अंपायर के रूप में जाने जाते हैं, उन्हें पूर्व में 5 बार आईसीसी अंपायर ऑफ द ईयर का अवार्ड दिया जा चुका है, टॉफेल ने 74 टेस्ट 174 वनडे और 34 T20 में अंपारिंग की है। उन्होंने 2012 में अंपायरिंग से संन्यास ले लिया था और 1999 से अंपायरिंग की शुरुआत की थी। 2012 में अपने संन्यास के बाद 2015 तक टॉफेल ने आईसीसी को अंपायर परफॉर्मेंस एवं ट्रेनिंग मैनेजर की सेवाएं भी प्रदान की हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।