अभी कुछ वर्षों तक कप्तानी छोड़ने के मूड में बिल्कुल नहीं हूं : फिंच
अभी कुछ वर्षों तक कप्तानी छोड़ने के मूड में बिल्कुल नहीं हूं : फिंचSocial Media

अभी कुछ वर्षों तक कप्तानी छोड़ने के मूड में बिल्कुल नहीं हूं : फिंच

आरोन फिंच ने घोषणा की है कि वह घरेलू पिचों पर टी 20 विश्व कप खिताब की रक्षा का नेतृत्व करना चाहते हैं और 2023 के 50 ओवर विश्व कप में भी टीम की कमान संभालना चाहते हैं।

मेलबोर्न। अपनी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया को पहली बार टी 20 का विश्व चैंपियन बनाने वाले आरोन फिंच ने घोषणा की है कि वह घरेलू पिचों पर टी 20 विश्व कप खिताब की रक्षा का नेतृत्व करना चाहते हैं और 2023 के 50 ओवर विश्व कप में भी टीम की कमान संभालना चाहते हैं।

फिंच ने हाल ही में टी 20 विश्व कप में अपने देश का नेतृत्व करने के लिए घुटने की सर्जरी के बाद वापसी की थी। फिंच, ग्लेन मैक्सवेल, मैथ्यू वेड और मार्कस स्टॉयनिस गुरुवार को एमसीजी में टी20 विश्व कप में मिली जीत का जश्न मनाने के लिए इकठ्ठा हुए थे। कप्तान ने खुलासा किया कि वह अपने घुटने की चिकित्सा कराने के बाद पूरे विश्व कप के दौरान मैदान में संघर्ष कर रहे थे और बिग बैश लीग में 7 दिसंबर को मेलबोर्न रेनेगेड्स के पहले गेम में उनके टीम शामिल होने को लेकर अभी भी संदेह बना हुआ है।

फिंच ने कहा, मुझे शायद अभी अपना घुटना ठीक करने के लिए थोड़ा अतिरिक्त समय चाहिए। मैंने पुनर्वासन को वास्तव में कठिन बना दिया और शायद पूरे टूर्नामेंट में इसके लिए थोड़ी सी कीमत चुकाई।

ऑस्ट्रेलिया की सीमित ओवरों की कप्तानी के बार में उन्होंने चयनकर्ताओं के अध्यक्ष जॉर्ज बेली के साथ अनौपचारिक चर्चा की है। फिंच ने कहा, मैंने पिछले छह महीनों में इसके बारे में काफ़ी कुछ सोचा है और बेली से बात भी की है। अगले दो या तीन वर्षों में निश्चित रूप से एक बड़ी अवधि होने जा रही है, यह एक गहन बातचीत नहीं थी। हालांकि अगले कुछ महीनों में हम इसके बारे जरूर सोचेंगे फिंच का मानना है कि उप कप्तान पैट कमिंस ने इंग्लैंड से मिली हार के बाद टीम के नेतृत्व में काफ़ी मदद की।

फिंच ने कहा, मुझे लगता है कि पैट कमिंस पहले इंसान थे जिन्होंने इंग्लैंड के साथ हुए मैच के बाद आक्रामक होने के इरादे के बारे में सबसे पहले पहले बात की थी। एक टीम के रूप में वास्तव में आक्रामक बने रहने के लिए हमने जो प्रतिबद्धता बनाई थी, वह सबसे महत्वपूर्ण बात थी। और विशेष रूप से इंग्लैंड के खेल के बाद, हमें लगा जैसे हम थोड़े डरे हुए थे और जल्दी आउट हो गए। इसलिए तथ्य यह है कि हम अपने तरीके से खेलने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी निराश थे कि उनका विश्व कप समारोह इस तथ्य से खराब हो गया था कि उनके टेस्ट टीम को अगली सुबह 8 बजे घर के लिए प्रस्थान करना पड़ा, जबकि बाकी समूह अलग-अलग घर गए। लेकिन दस्ते ने एक साथ रहने और अगले साल घर पर अपने खिताब की रक्षा करने के लिए एक तरह का समझौता करने की कोशिश की।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co