Raj Express
www.rajexpress.co
कौन हैं पथिराना जिनसे ब्रेटली, अख़्तर, मलिंगा को मिली चुनौती?
कौन हैं पथिराना जिनसे ब्रेटली, अख़्तर, मलिंगा को मिली चुनौती?|Social Media
खेल

कौन हैं पथिराना जिनसे ब्रेटली, अख़्तर, मलिंगा को मिली चुनौती?

“अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा सरगर्म है कि, यदि पथिराना की यही रफ्तार कायम रही तो जल्द ही वो श्रीलंका की अंतरराष्ट्रीय टीम ही नहीं बल्कि विश्व का चमकता सितारा गेंदबाज भी बन सकते हैं।“

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स :

  • श्रीलंका क्रिकेट को मिलेगी रफ्तार!

  • तेज गेंद जिसकी हो रही जमकर चर्चा!

  • स्पीड गन पर उठ रहे इस गेंद के बाद सवाल!

राज एक्सप्रेस। आम तौर पर क्रिकेट को गेंद और बल्ले के खेल के तौर पर जाना जाता है। स्पिनर से फिरकी जबकि पेस बॉलर से फास्टेस्ट गेंद की दरकार क्रिकेट फैंस को रहती है। सबसे तेज गेंद फेंकने के मामले में इस अंडर 19 क्रिकेटर ने अपनी गेंद से स्पीड गन तक को चुनौती दे डाली है।

पुराना दौर-

डेनिस लिली, इयान बॉथम, कपिल देव के युग फिर ग्लैन मैक्ग्राथ, शोएब अख्तर, ब्रेटली, शॉन टेट के दौर के बाद मौजूदा समय में श्रीलंकाई पेस बॉलर लसिथ मलिंगा अपनी तेज गेंदबाजी से क्रिकेट जगत में तहलका मचा रहे थे, लेकिन अंडर नाइंटीन क्रिकेट टूर्नामेंट में जब एक गेंदबाज ने अपनी रफ्तार दिखाई तो सभी अचंभित हो गए। इस युवा गेंदबाज की रफ्तार इतनी थी कि, कहा जा रहा है कि, शायद उस दिन स्पीड गन ही खराब थी?

मथीशा पथीराना-

क्रिकेट जगत में सवाल किया जा रहा है कि 19 साल से कम 17 साल के श्रीलंकाई पेस बॉलर मथीशा पथिराना ने U19 World Cup में क्रिकेट इतिहास की अब तक की सबसे तेज गेंद फेंकी भी है या नहीं? खबरों के मुताबिक श्रीलंकाई युवा सनसनी पथिराना ने रविवार को भारत के खिलाफ मैच में 175 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंकी। लेकिन हवाला ये भी दिया जा रहा है कि, इस गेंद की रफ्तार को रिकॉर्ड करने में आयोजकों से चूक हो गई।

मलिंगा की कॉपी-

क्रिकेट कमेंटेटर्स को आप कहते सुन सकते हैं कि, पथिराना की गेंदबाजी का अंदाज बहुत कुछ उनके हम वतन सीनियर बॉलर लसिथ मलिंगा के ही माफिक है। पथिराना ने भारत के खिलाफ अंडर नाइन्टीन वर्ल्ड कप के मैच में जब चौथे ओवर में 175 kph की रफ्तार से गेंद फेंकी तो यह बहस छिड़ गई कि, कौन गेंदबाज इस रफ्तार का मुकाबला कर पाएगा? हालांकि इस बहस को भी रफ्तार मिली कि गेंद इतनी तेज नहीं थी, बल्कि तकनीकि गलती के कारण पथिराना की फेंकी गई गेंद 175kph की रफ्तार बता रही थी।

कब कहां?-

रविवार को ब्लूमफोन्टेन में भले ही श्रीलंका भारत के खिलाफ अंडर 19 क्रिकेट मैच हार गया हो लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा यदि हुई तो वो थी पथीराना की तेज रफ्तार गेंद की। दरअसल भारतीय पारी के चौथे ओवर में मथीशा पथिराना ने एक वाइड गेंद भारतीय बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल को फेंकी थी, जिसकी रफ्तार 175kph (108mph) आंकी गई। इंटरनेशनल क्रिकेट में खेल के सभी स्तरों पर फेंकी गई ये गेंद अब तक की सबसे तेज रफ्तार की गेंद बताई जा रही है।

कैसे हुआ?-

भले ही गेंद को यशस्वी ने खेले बगैर जाने दिया और विकेटकीपर ने अपने दस्तानों में किसी तरह गेंद को कैद किया हो और अंपायर ने इस गेंद को वाइड करार दिया हो, लेकिन इसके बाद जब गेंद की रफ्तार पर विश्लेषकों की नजर गई, तो सभी चौंक गए। दरअसल गेंद की रफ्तार को दर्ज करने वाली स्पीड गन ने इस गेंद की रफ्तार 175kph (108mph) बताई थी।

पुराना रिकॉर्ड-

इससे पहले, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज रिकॉर्ड की गई डिलीवरी पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर के नाम दर्ज हुई थी। उन्होंने भी विश्व कप 2003 के दौरान एक दिवसीय मैच में इंग्लैंड के विरुद्ध जो गेंद फेंकी थी उसकी रफ्तार 161.3kph (100mph) दर्ज की गई थी। हालांकि जैसा कि, कहा जा रहा है कि, गेंद की रफ्तार आंकने वाली मशीन में गड़बड़ी थी इसलिए फिलहाल, तो अख्तर को ही इस रिकॉर्ड का मालिक कहा जा सकता है, नहीं तो यह रिकॉर्ड अधिकृत तौर पर पथिराना के नाम दर्ज हो चुका होता।

चर्चा ये भी-

जब गेंद की ये रफ्तार गेंद क्रिकेट फैंस की नजरों में पड़ी तो फिर चर्चा होना भी लाज़िमी थी। ट्विटर पर चहचहाट में इस गेंद की रफ्तार के बारे में लगातार चर्चा जारी है। माहिरात लिखते हैं, "श्रीलंकाई अंडर नाइंटीन पेसर पथिराना ने #U19CWC मैच में वाइड गेंद पर भारत के विरुद्ध स्पीड गन पर 175kph की रफ्तार को छुआ। दाईं ओर स्क्रीन पर गेंद की रफ्तार 108 mph दिख रही है।"

वहीं एक ट्विटराती का @ICC से सवाल है कि, क्या यह रफ्तार सही है?

इतिहास कहता है-

यदि दुनिया की तीन सबसे तेज गेंदों की बात की जाए तो इतिहास में सीनियर इंटरनेशनल क्रिकेट में रफ्तार का सौदागर इनको कहा जा सकता है।

  • 161.3kph: शोएब अख्तर पाकिस्तान विरुद्ध इंग्लैंड वर्ष 2003 न्यूलैंड्स में-

  • 161.1kph: शॉन टैट ऑस्ट्रेलिया विरुद्ध इंग्लैंड वर्ष 2010 क्रिकेट के मक्का लॉर्ड्स में-

  • 161.1kph: ब्रेट ली ऑस्ट्रेलिया विरुद्ध न्यूज़ीलैंड वर्ष 2005 नैपियर में-

पथिराना बनेंगे इतिहास?-

हालांकि पथिराना का यह पहला मौका नहीं है, जब उन्होंने अपनी कातिलाना गेंदबाजी से लोगों को चौंकाया हो। लसिथ मलिंगा टाइप गेंदबाजी के लिए मशहूर हो रहे पथिराना ने सितंबर 2019 में 7 रनों पर 6 विकेट लेकर श्रीलंकाई क्रिकेट फैंस का ध्यान आकृष्ट किया था। तब वो कैंडी में ट्रिनिटी कॉलेज की ओर से खेल रहे थे और उनकी यॉर्कर के बारे में लोगों ने जमकर चर्चा की थी। यह उनका कॉलेज के लिए पदार्पण मैच था जिसमें उनको जमकर सराहा गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा सरगर्म है कि, यदि पथिराना की यही रफ्तार कायम रही, तो जल्द ही वो श्रीलंका की अंतरराष्ट्रीय टीम ही नहीं बल्कि विश्व का चमकता सितारा गेंदबाज हो सकते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।