फुटबाल खेल के विकास के लिये प्लेटफार्म लॉन्च
फुटबाल खेल के विकास के लिये प्लेटफार्म लॉन्चSocial Media

फुटबाल खेल के विकास के लिये प्लेटफार्म लॉन्च

भारत में फुटबाल की सर्वोच्च नियामक संस्था अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) ने खेल के चौमुखी विकास की खातिर सुझाव और रचनात्मक आलोचना आमंत्रित करते हुए एक डिजीटल प्लेटफार्म लॉन्च किया है।

कोलकाता। भारत में फुटबाल की सर्वोच्च नियामक संस्था अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) ने खेल के चौमुखी विकास की खातिर सुझाव और रचनात्मक आलोचना आमंत्रित करते हुए एक डिजीटल प्लेटफार्म लॉन्च किया है। महासंघ के अध्यक्ष कल्याण चौबे ने गुरुवार को पत्रकारों से कहा, '' हम फुटबाल की तरक्की चाहते हैं और इसके लिये हम मीडिया सहित सभी हितधारकों से अपनी कमियां जानने को आतुर हैं। हमने इसके लिये सजेशन एट द-एआईएफएफ डॉट काम' वेबसाइट बनायी है, जिसमें जाकर लोग अपने सुझाव और शिकायतें हमें भेज सकते हैं। ''

भारतीय टीम के पूर्व गोलकीपर ने कहा कि लॉन्च किये गये प्लेटफार्म में मिलने वाली शिकायतें और सुझाव अगर तर्कसंगत हुए तो उन पर गंभीरता से विचार कर त्वरित निर्णय लिया जायेगा। चौबे ने कहा कि एआईएफएफ के लिये पिछले 19 महीने बेहद कठिन रहे हैं। इस दौरान फेडरेशन ने मुकदमों में करीब तीन करो़ड़ रुपये खर्च किये जबकि, 19 लाख रुपये ज्योतिषविदों को दिये गये। आखिरकार फीफा ने पिछले महीने भारतीय फुटबाल संघ पर प्रतिबंध लगाया, हालांकि 10 दिन बाद इसे हटा भी लिया।

चौबे ने प्रदेश फुटबाल संघों की एकता और केन्द्र सरकार के प्रयास की सराहना की जिसके चलते फीफा को प्रतिबंध वापस लेने के लिये मजबूर होना पड़ा। उन्होंने समाज के सभी वर्गों और फुटबाल संघों से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि एआईएफएफ राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर फेडरेशन कप और संतोष ट्रॉफी जैसे कुछ फुटबॉल टूर्नामेंट फिर से शुरू करने का प्रयास करेगा। चौबे ने कहा, '' हमारा उद्देश्य फुटबाल को देश के हर स्कूल तक ले जाना है। देश में 16 लाख सरकारी स्कूलों में करीब 25 करोड़ बच्चे पढ़ते हैं। इनमें से अधिकांश स्कूलों में एक फुटबॉल मैदान होना चाहिए। अगर हम प्रशिक्षकों को स्कूल में कार्यरत ट्रेनर के साथ जोड़ पाने में सफल होते हैं तो ऊर्जा और संसाधनों की बर्बादी के बिना बहुत कुछ किया जा सकता है। ''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co