टूर्नामेंट में जीवित रहने के लिए राजस्थान का चेन्नई को हराना अनिवार्य
टूर्नामेंट में जीवित रहने के लिए राजस्थान का चेन्नई को हराना अनिवार्यSocial Media

टूर्नामेंट में जीवित रहने के लिए राजस्थान का चेन्नई को हराना अनिवार्य

राजस्थान रॉयल्स को मौजूदा आईपीएल सीजन में जीवित रहने के लिए यहां शनिवार को खेले जाने वाले 49वें मैच में टूर्नामेंट की सबसे मजबूत टीम चेन्नई सुपर किंग्स को हराना अनिवार्य है जो पहले नंबर पर काबिज है।

अबू धाबी। राजस्थान रॉयल्स को मौजूदा आईपीएल सीजन में जीवित रहने के लिए यहां शनिवार को खेले जाने वाले 49वें मैच में टूर्नामेंट की सबसे मजबूत टीम चेन्नई सुपर किंग्स को हराना अनिवार्य है जो पहले नंबर पर काबिज है। चेन्नई के फॉर्म के लिहाज से राजस्थान के लिए उसे हरा पाना मुश्किल साबित हो सकता है, लेकिन ना मुमकिन नहीं। चेन्नई की टीम जहां इस मैच में बिना किसी चिंता के खेलेगी, वहीं राजस्थान की टीम प्लेऑफ की दौड़ में बने रहने के दबाव के साथ मैदान पर उतरेगी।

दोनों टीमों का इस सीजन का यह 12वां मैच होगा। चेन्नई 18 अंकों के साथ प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई कर चुका है, जबकि राजस्थान आठ अंकों के साथ सातवें स्थान पर है। चेन्नई के खिलाफ मैच में जीत के बाद उसे अपने आखिरी दोनों मैच भी जीतने होंगे, तभी उसकी टॉप चार में पहुंचने की संभावना हो सकती है, लेकिन चेन्नई से हारने के साथ ही सभी संभावनाएं भी खत्म हो जाएंगी, हालांकि बाद में नेट रन रेट कुछ भूमिका निभा सकता है।

राजस्थान को पिछले मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु से सात विकेट से बड़ी हार मिली थी। राजस्थान अच्छी शुरुआत के बावजूद 20 ओवर में नौ विकेट पर 149 रन ही बना सका था, जबकि बेंगलुरु ने 17.1 ओवर में तीन विकेट पर 153 रन बना कर मैच जीत लिया था। इस हार के बाद टीम के कप्तान संजू सैमसन और क्रिकेट निदेशक कुमार संगाकारा ने अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने की जरूरत पर जोर दिया था।

सैमसन इस सीजन, खासतौर पर दूसरे चरण में अच्छे फार्म में चल रहे हैं। उन्होंने पिछले तीन मैचों में क्रमश: 70, 82 और 19 रन बनाए हैं। वह 452 रनों के साथ ओरेंज कैप (सर्वाधिक रन) की सूची में शिखर धवन (454 रन) के बाद दूसरे नंबर पर हैं। उनके लिए सबसे बड़ी परेशानी उनकी मध्यक्रम की बल्लेबाजी का फ्लॉप रहना और गेंदबाजी में धार की कमी है।

चेन्नई की बात करें तो उसके सभी खिलाड़ी फार्म में हैं। पिछले चार मैचों में हर बार उसके नए खिलाड़ी ने मैन ऑफ द मैच पुरस्कार जीता है जो यह साबित करता है कि प्रत्येक खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दे रहा है। चेन्नई के सलामी बल्लेबाज रुतुराज गायकवाड़ और फाफ डु प्लेसिस अच्छा कर रहे हैं। हर मैच में उनके बल्ले से रन आ रहे हैं जो चेन्नई की जीत सुनिश्चित कर रहे हैं। डु प्लेसिस जहां 435 रनों के साथ सर्वाधिक रन स्कोरर की सूची में तीसरे, वहीं गायकवाड़ 407 रनों के साथ पांचवें स्थान पर हैं। गेंदबाजी में ड्वेन ब्रावो, दीपक चाहर, शार्दुल ठाकुर, जॉश हेजलवुड और रवींद्र जडेजा अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। इन बातों को ध्यान में रखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि राजस्थान को जीत के लिए जान फूंकनी होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.