राजस्थान रॉयल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को हराकर रचा इतिहास, संजू फिर चैंपियन

RR के अंकित किफायती, तेवातिया महंगे, KXIP के कॉटरेल महंगे विश्नोई टीम में दूसरों के मुकाबले किफायती गेंदबाज रहे पेसर, स्पिनर सबकी धुनाई हुई।
राजस्थान रॉयल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को हराकर रचा इतिहास, संजू फिर चैंपियन
संजू सैमसन ने टीम की जीत का लगातार दूसरी बार आधार रखा।Syed Dabeer Hussain - RE

हाइलाइट्स –

  • RR ने टॉस जीता, चुनी गेंदबाजी

  • संजू ने फिर रखा जीतने का आधार

  • तेवातिया ने लगातार मारे 5 छक्के

  • काम नहीं आया अग्रवाल का शतक

राज एक्सप्रेस। शारजाह की छोटी बाउंड्री वाले स्टेडियम में हुआ आईपीएल 2020 का नौंवा मैच श्वासरोधक रहा। किंग्स इलेवन पंजाब और राजस्थान रॉयल्स के बल्लेबाजों ने मैच में जमकर रन बटोरे जिससे आईपीएल में सबसे ज्यादा रनों का पीछा कर जीतने का भी रिकॉर्ड कायम हो गया।

पांच धाम पचास –

पहले बल्लेबाजी करने उतरे किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के ओपनर्स मयंक अग्रवाल और कप्तान लोकेश राहुल के बीच 5.3 ओवरों में ही पांच धाम पचास यानी अर्धशतकीय साझेदारी पूरी हो गई। दोनों बल्लेबाज 10 रन प्रति ओवर से भी तेज गति से खेल रहे थे।

छठवें ओवर तक टीम का स्कोर बगैर कोई विकेट खोए छह धाम साठ हो चुका था। लोकेश राहुल 18 गेंदों पर 26 जबकि मयंक अग्रवाल 19 गेंदों पर 29 रन बनाकर खेल रहे थे। आईपीएल 2020 के पॉवर प्ले के इतिहास में यह अब तक का सबसे बड़ा स्कोर दर्ज हुआ।

IPL 2020 का सौंवा सिक्सर -

तीसरे ओवर की पांचवी गेंद पर यह कारनामा मयंक अग्रवाल ने किया। उनके बल्ले से निकला सिक्सर इंडियन प्रीमियर लीग 2020 में अब तक हुए मैचों के रिकॉर्ड्स में सौवें सिक्सर के तौर पर दर्ज हो गया।

मात्र 9वें मैच में ही टूर्नामेंट का सौंवा सिक्सर लग गया। अग्रवाल ने उदानकट की शॉर्ट बॉल को डीप स्क्वेयर लेग के ऊपर से पुल कर क्लीन छक्का जड़ा तो उदानकट के पास बस निहारने के अलावा कोई और चारा नहीं था।

अग्रवाल की फिफ्टी/रिकॉर्ड साझेदारी -

तेजी से खेल रहे मयंक अग्रवाल ने 9वें ओवर की दूसरी गेंद पर छक्का मारकर फिफ्टी पूरी कर ली। मयंक ने 26 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया।

श्रेयस गोपाल के इसी ओवर की चौथी गेंद पर अग्रवाल के सिक्सर जड़ते ही ओपनिंग पेयर के बीच शतकीय साझेदारी का भी रिकॉर्ड पूरा हो गया।

दरअसल आईपीएल के इस सत्र में अब तक ओपनिंग साझेदारी का रिकॉर्ड पृथ्वी शॉ और शिखर धवन के बीच हुई 94 रनों की साझेदारी का था। यह रिकॉर्ड दोनों ने चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ दुबई में खेले गए मैच में कायम किया था।

10 ओवर में 110 रन

दोनों बल्लेबाजों ने मिलकर 10 ओवरों तक 110 रन बना लिए थे। KXIP का स्कोर 11वें ओवर तक 120 रन था। दोनों बल्लेबाजों के बीच 67 गेंद पर 119 रनों की साझेदारी हो चुकी थी। इस समय कप्तान लोकेश राहुल 31 गेंद पर 38 रन जबकि मयंक अग्रवाल 36 गेंद पर 76 रन बनाकर खेल रहे थे।

लोकेश राहुल की फिफ्टी –

KXIP के कप्तान लोकेश राहुल ने 35 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। इस दौरान उन्होंने पांच चौके और एक छक्का जमाया।

150 रनों की पार्टनरशिप –

दोनों के बीच 13.2 ओवरों में 81 गेंदों पर 150 रनों की पार्टनरशिप पूरी हो गई। इसमें अग्रवाल का 91 रन जबकि कप्तान लोकेश राहुल का 53 रनों का योगदान रहा।

अग्रवाल का शतक –

पंद्रहवें ओवर में मयंक अग्रवाल का शतक पूरा हुआ। मयंक ने कुल 07 छक्के, 09 चौके की मदद से 45 गेंदों पर शतक पूरा कर लिया। इस वक्त तक दोनों सलामी बल्लेबाजों के बीच 91 गेंदों पर 171 रन की साझेदारी हो चुकी थी।

तब कप्तान लोकेश राहुल 46 गेंदों पर 64 रन के निजी स्कोर पर थे। टीम का स्कोर तब पंद्रह ओवरों में बगैर कोई विकेट खोए 172 रन था।

पहला विकेट –

KXIP का पहला विकेट 16.3 ओवर में मयंक अग्रवाल के रूप में गिरा। टॉम कर्रन की गेंद पर उनका कैच संजू सैमसन ने लपका। धमाकेदार पारी के दौरान मयंक अग्रवाल ने 10 चौके और 7 आतिशी छक्कों की मदद से 50 गेंदों पर 106 रन बनाए। उनका विकेट टीम के कुल योग 183 रनों पर गिरा।

दूसरा विकेट –

18वें ओवर की आखिरी गेंद पर टीम के कुल योग 192 रनों पर दूसरा विकेट कप्तान लोकेश राहुल के रूप में गिरा। कप्तान लोकेश राहुल ने 54 गेंदों पर 69 रन बनाए। पारी में उन्होंने 7 चौके एवं 1 सिक्सर लगाया।

किंग्स इलेवन पंजाब ने अपनी पारी में 20 ओवरों में 2 विकेट के नुकसान पर 223 रन बनाए। ग्लेन मैक्सवेल 2 चौकों के सहारे 9 गेंदों पर 13 रन जबकि निकोलस पूरन 3 छक्कों एक चौके के सहारे 8 गेंदों पर ताबड़तोड़ अंदाज में 25 रन बनाकर नाबाद लौटे।

राजस्थान रॉयल्स की पारी –

राजस्थान रॉयल्स को जोस बटलर से बड़ी पारी की आस थी लेकिन उनके सस्ते में आउट होने के बाद कप्तान स्मिथ और टीम की पिछली जीत के हीरो संजू सैमसन ने पारी को संवारने का काम किया।

बटलर का जोश गायब – राजस्थान रॉयल्स को तीसरे ओवर की दूसरी गेंद पर पहला झटका लगा। बटलर 19 रनों के टीम के कुल योग पर कॉटरेल की गेंद पर सरफराज को कैच थमा बैठे। उन्होंने 7 गेंदों पर मात्र 4 रन बनाए।

कप्तान स्मिथ का साथ देने आए संजू सैमसन ने भी आते ही खुलकर हाथ दिखाए। दोनों बल्लेबाजों ने जरूरी रन औसत से ऊपर रन रेट को बरकरार रखा।

स्मिथ की फिफ्टी –

राजस्थान रॉयल के कप्तान स्टीव स्मिथ ने 9वें ओवर की चौथी गेंद पर अर्धशतक पूरा किया। कप्तान स्मिथ ने 26 गेंदों पर 7 चौकों और 2 छक्कों के सहारे अपना अर्धशतक पूरा किया और एक गेंद और खेलने के बाद आउट भी हो गए।

ओवर की आखिरी गेंद पर स्मिथ का कैच नीशम की गेंद पर शमी ने लपका। इस वक्त RR का कुल स्कोर 9 ओवर में 2 विकेट पर 100 रन था। सैमसन 20 गेंदों पर 41 बनाकर खेल रहे थे।

संजू सैमसन का अर्धशतक – संजू ने 27 गेंदों पर 4 चौकों, 3 छक्कों की मदद से पचास रन पूरे किये। वो तो युवा विश्नोई से अर्धशतक पूरा होने वाली गेंद पर कैच छूट गया वर्ना सैमसन अर्धशतक से चूक भी सकते थे।

संजू के अर्धशतक के वक्त टीम का स्कोर 11.4 ओवर में दो विकेट के नुकसान पर 117 रन था। संजू के नाम इस सत्र की यह दूसरी फिफ्टी रही।

तेवातिया की सुस्ती –

मुख्य रूप से बल्लेबाजी ऑलराउंडर के रूप में चुने गए राहुल तेवातिया शुरुआत में रन गति बरकरार नहीं रख पा रहे थे। तेवातिया को रॉबिन उथप्पा, टॉम कर्रन के मुकाबले पहले उतारना टीम को भारी पड़ रहा था।

अहम समय तेवातिया ने 13 गेंदों पर टुक-टुक कर मात्र 5 रन ही जोड़े। सारा जिम्मा जैसे उन्होंने सैमसन के सिर डाल दिया था। इस दौरान ऑन लाइन कमेंट्स में तेवातिया को कोसने वाले कमेंट्स की बाढ़ आ चुकी थी।

सैमसन जहां बाउंड्री मारकर गाड़ी पटरी पर लाते तेवातिया एक रन को भी तरसा देते। आखिर अपनी पारी की 20वीं पर उन्होंने पहला छक्का जमाया।

सैमसन-तेवातिया की साझेदारी -

सैमसन और तेवातिया के बीच 38 गेंदों पर जब 52 रनों की पार्टनरशिप पूरी हुई। इस साझेदारी में तेवातिया का योगदान 14 रन था।

सोलहवें ओवर में सैमसन ने मैक्सवेल की जमकर धुनाई की। कुल तीन छक्कों के सहारे सैमसन ने मैक्सवेल के ओवर में 21 रन बनाए।

इस ओवर के पहले तक राजस्थान रॉयल्स को जीतने के लिए 30 गेंदों पर 84 रनों की जरूरत थी। मैक्सवेल ने 2 ओवरों में मात्र 8 रन खर्च किए थे। लेकिन उनके तीसरे ओवर में सैमसन ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की तो मैक्सवेल का गेंदबाजी विश्लेषण 3 ओवरों में 29 रन जा पहुंचा।

सैमसन आउट –

गेंदबाजी में बदलाव के बाद आए शमी ने 17वें ओवर की पहली ही गेंद पर पंजाब के खेमे में खुशियां ला दीं। दरअसल संजू सैमसन का कैच शमी की गेंद पर लोकेश राहुल ने लपक लिया।

सैमसन ने 42 गेंदों पर 4 चौकों और 7 छक्कों की बेहतरीन पारी में 85 रन बनाए। सैमसन का विकेट 161 रनों के योग पर गिरा।

सैमसन के आउट होने के बाद उतरे रॉबिन उथप्पा ने मात्र 3 गेंदों पर 9 रन बटोरकर तेवातिया के सामने अपनी उपयोगिता साबित की जो अब तक रन बनाने में असहाय दिख रहे थे।

फिर मारे ओवर में 5 छक्के -

तेवातिया ने 18वें ओवर में वो रंग दिखाया जिसकी कॉटरेल को शायद ही उम्मीद हो। तेवातिया ने लगातार 4 गेंदों पर 4 छक्के मारे तो कॉटरेल को तारे नजर आने लगे।

दूसरा छक्का तो मैदान से बाहर पहुंचा दिया। पांचवी गेंद डॉट खेली फिर छठवीं गेंद को भी बॉउंड्री के बाहर पहुंचा कर कॉटरेल के ओवर में पांच छक्के जमा डाले। मतलब तेवातिया ने इस ओवर में पूरे 30 रन बटोरे।

फिर उथप्पा आउट –

तेवातिया ने मैच में रोमांच लाया ही था कि 19वें ओवर की पहली ही गेंद पर शमी ने फिर से राजस्थान को दूसरा झटका दिया। इस बार रॉबिन उथप्पा को उन्होंने पूरन के हाथों कैच आउट करा दिया। उथप्पा ने 4 गेंदों पर 9 रनों की संक्षिप्त लेकिन उपयोगी पारी खेली।

आर्चर का टॉर्चर –

उथप्पा के आउट होने के बाद बल्लेबाजी करने उतरे जोफ्रा आर्चर ने शमी की लगातार दो गेंदों पर दो छक्के जमाकर पंजाब के सफल गेंदबाज शमी को जैसे टॉर्चर कर दिया।

पांचवी गेंद पर तेवातिया ने भी सिक्सर मारा लेकिन शमी के ओवर की आखिरी गेंद पर अग्रवाल के हाथों कैच आउट हो गए।

तेवातिया ने 7 छक्कों के सहारे 31 गेंदों पर 53 रन बनाए। 19वें ओवर में टीम का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 222 रन था।

आखिरी ओवर का ट्विस्ट -

राजस्थान रॉयल्स को जीतने के लिए एक ओवर में बराबरी के लिए 1 रन जबकि जीतने कि लिए 2 रनों की दरकार थी। लेकिन तेवातिया के आउट होने के बाद उतरे रियान पराग को मुरुगन अश्विन ने आखिरी ओवर की दूसरी गेंद पर खाता खोलने से पहले ही आउट कर दिया।

कर्रन का विजयी चौका -

फिर उतरे कर्रन ने वक्त न गंवाते हुए पहली ही गेंद पर चौका जड़कर मैच राजस्थान रॉयल्स के नाम कर दिया। जरूरत के वक्त 2 सिक्सर जमाने वाले आर्चर 3 गेंदों पर 13 रन बनाकर नाबाद रहे। कर्रन ने भी 1 गेंद पर 4 रनों की नाबाद पारी खेली।

गेंदबाजी –

RR के अंकित किफायती, तेवातिया महंगे, KXIP के कॉटरेल महंगे विश्नोई टीम में दूसरों के मुकाबले किफायती गेंदबाज रहे पेसर, स्पिनर सबकी धुनाई हुई।

समय पर संभले राजस्थान के गेंदबाज -

राजस्थान रॉयल्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच अंतर की यदि बात की जाए तो स्पष्ट पता चलता है कि भले ही राजस्थान के गेंदबाजों को विकेट न मिले हों लेकिन रन खर्च करने में सिवाय तेवातिया (1 ओवर 19 रन) के अन्य गेंदबाजों ने बड़े स्कोर वाले मैच में 10 से 11 के औसत से गेंदबाजी की।

उदानकट ने 4 वाइड के साथ 3 ओवरों में 30, राजपूत ने 4 ओवरों में 1 वाइड, 1 नो बॉल खर्च कर 39 रन देकर एक विकेट हासिल किया। जोफ्रा आर्चर ने 4 ओवरों में 46 रन दिये उनको कोई विकेट नहीं मिला। टॉम कर्रन ने 4 ओवरों में 44 रन देकर एक विकेट हासिल किया।

बाद में बिखरे पंजाब के बॉलर –

KXIP के गेंदबाजों ने शुरुआती स्पेल तो बढ़िया डाला लेकिन बाद के ओवरों में उनकी तबीयत से धुनाई हुई। शुरुआत में कम महंगे साबित हुए शेल्डन कॉटरेल को 3 ओवरों में 52 रन पर मात्र एक विकेट से संतोष करना पड़ा।

मोहम्मद शमी के आखिरी ओवर में 19 रन बने। शमी ने 4 ओवर में 53 रन देकर 3 विकेट लिए। कोटे के 4 ओवरों में मात्र 34 रन देने वाले रवि विश्नोई पंजाब के सबसे किफायती गेंदबाज रहे लेकिन उनको विकेट नहीं मिला।

नीशम ने 4 ओवरों में 40 रन देकर एक विकेट झटका। मुरुगन अश्विन ने 1.3 ओवरों में 16 रन देकर 1 विकेट हासिल किया जबकि ग्लेन मैक्सवेल ने 3 ओवरों में 29 रन दिये लेकिन उनको कोई विकेट नहीं मिला।

रच गया इतिहास -

आईपीएल के इतिहास में सर्वाधिक रनों का पीछा कर जीतने का रिकॉर्ड भी राजस्थान रॉयल के नाम दर्ज हो गया। राजस्थान रॉयल ने 19.3 ओवरों में 226 रन बनाकर 4 विकेट से जीत हासिल की। संजू सैमसन एक बार फिर प्लेयर ऑफ द मैच रहे।

इस जीत के साथ ही राजस्थान ने उन अटकलों पर भी विराम लगा दिया जिसमें कहा जा रहा था कि पहले बल्लेबाजी करने वाली टीमों का पलड़ा शारजाह में भारी रहता है।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co