Ranji Trophy: रणजी ट्रॉफी में लगातार दूसरी बार फाइनल में जाने के इरादे से मैदान पर उतरेगी बंगाल
Ranji Trophy: रणजी ट्रॉफी में लगातार दूसरी बार फाइनल में जाने के इरादे से मैदान पर उतरेगी बंगालSyed Dabeer Hussain - RE

Ranji Trophy: रणजी ट्रॉफी में लगातार दूसरी बार फाइनल में जाने के इरादे से मैदान पर उतरेगी बंगाल

भारत के सबसे बड़े प्रथम श्रेणी टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी का 87वां संस्करण सेमीफाइनल के पड़ाव पर आ पहुंचा है।

बेंगलुरु। भारत के सबसे बड़े प्रथम श्रेणी टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी का 87वां संस्करण सेमीफाइनल के पड़ाव पर आ पहुंचा है। सेमीफाइनल मुकाबले मंगलवार को बेंगलुरु में प्रारंभ होंगे, जहां मध्य प्रदेश का सामना होगा बंगाल से और मुंबई की टक्कर होगी उत्तर प्रदेश के साथ। बंगाल की नजर लगातार दूसरे फाइनल पर होगी। कप्तान आदित्य श्रीवास्तव पांच साल के थे जब मध्य प्रदेश आखिरी बार रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंचा था। और तो और वर्तमान टीम का कोई भी खिलाड़ी पैदा भी नहीं हुआ था जब इस टीम ने 1945-46 में आखिरी बार खिताब अपने नाम किया था। हालांकि इस बार मध्य प्रदेश के पास चमचमाती ट्रॉफी अपने नाम करने का बढ़िया मौका है।

क्वार्टर-फाइनल में पंजाब को 10 विकेट से मात देकर आ रही मध्य प्रदेश के लिए फाइनल में जाना इतना आसान नहीं होगा। बेंगलुरु के जस्ट क्रिकेट मैदान पर उनका सामना होगा बंगाल की मजबूत टीम से। मध्य प्रदेश के पास कुमार कार्तिकेय, अक्षत रघुवंशी और रजत पाटीदार के रूप में कई मैच विनर खिलाड़ी हैं। यश दुबे, पाटीदार और शुभम शर्मा प्रत्येक ने इस सीजन चार मैचों में 400 से अधिक रन बनाए हैं। वहीं 19 विकेट लेकर कार्तिकेय अपनी टीम के सबसे सफल गेंदबाज रहे हैं। इसके अलावा तेज गेंदबाज अनुभव अग्रवाल और गौरव यादव ने आपस में 25 शिकार किए हैं, जबकि पुनीत दाते और सारांश जैन ने अपनी प्रतिभा का परिचय दिया है।

वहीं दूसरी तरफ बंगाल को परिस्थितियों की अच्छी समझ होगी, क्योंकि कुछ दिन पहले इसी मैदान पर उन्होंने क्वार्टर-फाइनल का मैच खेला था। 2019-20 सीजन के उपविजेता ने अपने तीन ग्रुप मैच जीतकर और क्वार्टर-फाइनल में पहली पारी में भारी बढ़त लेने के बाद मैच ड्रॉ कर टॉप चार में जगह बनाई है। बंगाल की उम्मीदें इशान पोरेल, मुकेश कुमार और आकाश दीप की पेस तिकड़ी पर टिकी होंगी जिसने इस सीजन 40 विकेट झटके हैं। इसके अलावा टीम में शाहबाज अहमद हैं, जिन्होंने चार मैचों में 344 रन बनाने के साथ-साथ 12 विकेट अपने नाम किए हैं।

साथ ही अनुभवी बल्लेबाज मनोज तिवारी ने झारखंड के विरुद्ध 73 और 136 रन बनाकर अपनी लय प्राप्त कर ली है। मार्च 2020 में ट्रॉफी जीतने के काफी करीब आने के बाद तिवारी, जो 2005-06 और 2007-08 में भी उपविजेता टीम का हिस्सा थे, बंगाल को चैंपियन बनाना चाहेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co