Raj Express
www.rajexpress.co
पंत को ना खिलाने से खफा सहवाग ने धोनी और कोहली पर साधा निशाना
पंत को ना खिलाने से खफा सहवाग ने धोनी और कोहली पर साधा निशाना|Social Media
खेल

पंत को ना खिलाने से खफा सहवाग ने धोनी और कोहली पर साधा निशाना

पूर्व भारतीय ताबड़तोड़ बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने ऋषभ पंत को ना खिलाने को लेकर बड़ा बयान दे दिया है।धोनी और कोहली पर साधा निशाना।

Ankit Dubey

राज एक्सप्रेस। भारत और न्यूजीलैंड के बीच पांच T-20 मैचों की सीरीज जारी है, आखिरी मुकाबला रविवार को खेला जाना है, इसी बीच पूर्व भारतीय ताबड़तोड़ बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को ना खिलाने को लेकर बड़ा बयान दे दिया। उनका मानना है कि अगर ऋषभ पंत को टीम में मौका ही नहीं मिलेगा, तो वह मैच कैसे जीता पाएंगे। उन्होंने यह बयान देते हुए टीम मैनेजमेंट पर निशाना साधा है।

ऋषभ पंत को जब चौथे टी-20 मुकाबले में भी मौका नहीं दिया गया, तो वीरेंद्र सहवाग ने क्रिकेट वेबसाइट क्रिकबज से बातचीत में बताया कि सचिन तेंदुलकर को भी अगर आप बाहर बैठा देंगे, तो वह भी रन नहीं बना पाएंगे। अगर भारतीय कप्तान विराट कोहली पंत को मैच विनर कहते हैं, तो उन्हें मौका भी देना चाहिए। शायद कोहली का यह मानना है कि वह लगातार रन बनाने वाले खिलाड़ी नहीं है।

खिलाड़ियों से बात करना जरूरी

ऋषभ पंत तीनों प्रारूपों में क्रिकेट खेलते हैं और कोई भी खिलाड़ी तीनों प्रारूपों में रन नहीं बना सकता वह एक प्रारूप में जरूर खराब होता है। विराट कोहली शायद खिलाड़ियों से बातचीत नहीं करते, हमारे समय में भी जो कप्तान थे, वह हमसे बात किया करते थे।

मैं मौजूदा टीम का हिस्सा नहीं हूं, तो मुझे नहीं पता है कि विराट कोहली खिलाड़ियों से बात करते हैं कि नहीं, लेकिन रोहित शर्मा जब एशिया कप के लिए गए थे, तो ऐसी बात सामने आई थी कि वह खिलाड़ियों से बातचीत जरूर करते थे, वहां रोहित शर्मा ने कहा कि खिलाड़ियों को टीम में बने रहने के लिए असुरक्षा बनी रहती है और वह तभी अच्छा महसूस करेंगे, जब उनसे बातचीत कर फैसला लिया जाए।

मीडिया में जाकर भले ही कप्तान कुछ भी कहे, लेकिन उसके बाद वह कप्तान और खिलाड़ियों से भी बातचीत करें, तो यह बड़ी और अहम बात है।

एमएस धोनी पर खड़ा किया सवाल

वीरेंद्र सहवाग ने धोनी (MS Dhoni) पर भी सवाल करते हुए कहा कि धोनी मीडिया में कुछ और कहते थे और टीम की बैठक में कुछ अलग कहते थे। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज के दौरान हुई बातचीत का उदाहरण देते हुए बताया कि, ऑस्ट्रेलिया में धोनी ने कहा था कि हमारे टॉप 3 बल्लेबाज धीमे फील्डर हैं, हमसे तो उन्होंने कभी इस बारे में कोई बातचीत नहीं की, हमें तो यह सब मीडिया के द्वारा ही पता चला। यह सब मीडिया में कहकर आ गए, लेकिन टीम से बातचीत में उन्होंने यह बात नहीं कही थी।

रोटेशन पॉलिसी की हुई शुरुआत

वीरेंद्र सहवाग ने बताया कि रोहित शर्मा को खिलाने के लिए रोटेशन पॉलिसी की शुरुआत हुई, जिसमें टॉप तीन बल्लेबाजों में से एक बल्लेबाज बाहर बैठेगा और रोहित शर्मा को मैच में खिलाया जाएगा। रोटेशन पॉलिसी के तहत रोहित शर्मा को खिलाना तो ठीक बात थी, लेकिन धोनी ने मीडिया में तीन खिलाड़ियों को धीमा फील्डर बताया था।

ऐसा मौजूदा टीम में हो रहा है तो गलत

वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि अगर मौजूदा टीम में भी कप्तान और खिलाड़ियों के बीच बातचीत नहीं हो रही है, तो यह काफी गलत है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।