Raj Express
www.rajexpress.co
“बापू” के निधन पर सचिन ने ट्वीट कर जताया शोक
“बापू” के निधन पर सचिन ने ट्वीट कर जताया शोक|Social Media
खेल

“बापू” के निधन पर सचिन ने ट्वीट कर जताया शोक

“कुल 32 ओवर्स में उन्होंने पारी में 27 ओवर की मेडन गेंदबाजी कर मात्र 5 रन खर्च किए थे।”

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स :

  • लगातार 21 मेडन ओवर्स के रिकॉर्डधारी थे ऑलराउंडर

  • “बापू” ने 41 टेस्ट में झटके थे 88 विकेट

  • किसने सबसे अधिक मेडन फेंके हैं टेस्ट मैच और पारी में?

  • मांकड का इस रिकॉर्ड से क्या है नाता?

राज एक्सप्रेस। जिनके लगातार 21 ओवर मेडन फेंकने के रिकॉर्ड सुनकर सचिन तेंदुलकर बड़े हुए उन महान ऑल राउंडर-क्रिकेटर रमेशचंद्र गंगाराम ‘बापू’ नाडकर्णी के निधन पर सचिन ने ट्वीट कर शोक जाहिर किया।

सचिन ने लिखा है-

“श्री बापू नाडकर्णी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुःख हुआ। मैं एक टेस्ट में लगातार 21 मेडन ओवर गेंदबाजी करने के उनके रिकॉर्ड के बारे में सुनकर बड़ा हुआ हूं। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति मेरी संवेदना।”

पहला-आखिरी मैच-

भारत के धाकड़ ऑलराउंडर ‘बापू’ नाडकर्णी का 86 साल की उम्र में 17 जनवरी को मुंबई में निधन हुआ। उन्होंने साल 1955 में न्यूजीलैंड के खिलाफ दिल्ली इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत की और आखिरी मैच भी न्यूजीलैंड के खिलाफ ही खेला। साल 1968 में उन्होंने आखिरी मैच खेला।

अनोखे रिकॉर्ड के मालिक-

खिलाड़ियों के बीच ‘बापू’ के नाम से लोकप्रिय नाडकर्णी के नाम टेस्ट मैच में लगातार मेडन ओवर फेंकने का भी रिकॉर्ड दर्ज है। उन्होंने साल 1963-64 में इंग्लैंड के खिलाफ तब के मद्रास अब के चेन्नई में टेस्ट मैच के दौरान बगैर रन दिए लगातार 21 ओवर मेडन फेंककर इंग्लिश बल्लेबाजों की जमकर परीक्षा ली थी। कुल 32 ओवर्स में उन्होंने पारी में कुल 27 ओवर मेडन गेंदबाजी कर मात्र 5 रन खर्च किए थे।

लेफ्टहैंड ऑलराउंडर-

नाडकर्णी बाएं हाथ से बल्लेबाजी और स्पिन गेंदबाजी के लिए जाने गए। भारत की ओर से 41 टेस्ट खेलकर उन्होंने कुल 1414 रन बनाए, जबकि कुल 88 विकेट भी झटके। सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की यदि बात करें, तो उन्होंने 43 रन पर 6 विकेट लेकर अपने प्रदर्शन का लोहा मनवाया। नाडकर्णी के नाम 191 फर्स्ट क्लास मैचों में 500 विकेट दर्ज हैं।

इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्चिंग-

‘बापू’ नाडकर्णी के निधन के बाद इंटरनेट पर लोगों ने सबसे अधिक मेडन ओवर फेंकने के बारे में भी खासी पड़ताल की। दरअसल अब तक के प्रचलित दावों के मुताबिक साल 1885 में सबसे पहले यह कारनामा बॉबी पील ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया मैच में लगातार 56 मेडन ओवर फेंककर किया था।

पील भी लेफ्टआर्म ऑलराउंडर रहे। इनके नाम एक टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे ज्यादा 102 मेडन ओवर फेंकने का भी रिकॉर्ड है। इनमें से 50 फीसद ओवर्स मेडन रहे। इसके अगले साल ऑस्ट्रेलिया के टॉम गैरेट् ने इंग्लेंड के खिलाफ लगातार 55 मेडन ओवर गेंदबाजी करने का रिकॉर्ड बनाया।

वेस्टइंडियन लेफ्टआर्म स्पिनर अल्फ वेलेंटाइन ने साल 1950 में इंग्लैंड के खिलाफ पारियों में क्रमशः 49 और 47 मेडन ओवर फेंके। उनके नाम एक टेस्ट मैच में कुल 75 (28 और 47) ओवर मेडन ओवर फेंकने का भी रिकॉर्ड दर्ज है। इंग्लेंड के विलियम एटवेल ने 1885 में लगातार 47 ओवर मेडन फेंके थे।

भारत के वीनू मांकड-

माकडिंग (क्रीज से बाहर निकले बल्लेबाज को गेंदबाजी के दौरान आउट करने वाला गेंदबाज) के लिए मशहूर भारत के लेफ्ट हैंड टेस्ट ऑलराउंडर वीनू मांकड ने इंग्लैंड के खिलाफ साल 1951 में लगातार 47 ओवर तक कोई रन नहीं दिया। उन्होंने इस मैच में 76 ओवर गेंदबाजी कर 4 विकेट भी झटके थे।

लेफ्टियों का बोलबाला-

सबसे ज्यादा लगातार मेडन ओवर गेंदबाजी के रिकॉर्ड में एक बात गौर करने वाली है कि, लगभग अधिकांश क्रिकेटर लेफ्ट आर्म ऑल राउंडर स्पिनर रहे हैं। ‘बापू’ नाडकर्णी को हमारी विनम्र श्रद्धांजलि।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।