शाहिद अफरीदी को कहा गया भिखारी, बलूचिस्तान का समर्थन करना पड़ा भारी
शाहिद अफरीदी को कहा गया भिखारी बलूचिस्तान का समर्थन करना पड़ा भारीSocial Media

शाहिद अफरीदी को कहा गया भिखारी, बलूचिस्तान का समर्थन करना पड़ा भारी

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी एक बार फिर सोशल मीडिया पर निशाना बन गए हैं।कहा गया भिखारी...

राज एक्सप्रेस। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी एक बार फिर सोशल मीडिया पर प्रशंसकों का निशाना बन गए हैं। हाल ही में शाहिद अफरीदी बलूचिस्तान के दौरे पर थे, जहां उन्होंने बलूचिस्तान के क्रिकेट खिलाड़ियों को लेकर समर्थन किया था। शाहिद अफरीदी का कहना था कि बलूचिस्तान में क्रिकेट एकेडमी खोली जाएगी, जिससे यहां के प्रतिभाशाली क्रिकेटरों को कराची भेजा जाएगा। सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के पत्रकार द्वारा एक वीडियो साझा किया गया है, जिसमें शाहिद अफरीदी कह रहे हैं कि वह बलूचिस्तान के लोगों की मदद करेंगे।

शाहिद अफरीदी को कहा भिखारी, जानें क्या है कारण

शाहिद अफरीदी का कहना था कि बलूचिस्तान के लोगों में काफी प्रतिभा है, चाहे वह फुटबॉल हो या क्रिकेट, लेकिन समस्या यह है कि यहां के लोगों को पाकिस्तान टीम में जगह नहीं मिलती, जिसका कारण यह है कि यहां सुविधाओं में काफी कमी है। उन्होंने कहा कि वह बलूचिस्तान के लोगों की मदद के लिए राजी हैं और वह प्रतिभावान खिलाड़ियों को कराची ले जाएंगे, साथ ही उन्हें पढ़ाई में भी मदद करेंगे। शाहिद अफरीदी के इस तरह बलूचिस्तान पर बयान देने पर सोशल मीडिया पर प्रशंसक उन पर भड़क गए और उन्हें भिखारी कहा डाला।

एक यूज़र द्वारा ट्विटर पर लिखा गया कि बलूचिस्तान तुम्हारे और तुम्हारे पीएम की तरह किसी भिखारी के लिए नहीं खेलना चाहता, वह आजादी चाहते हैं और जल्द ही उन्हें आजादी मिलेगी।

शाहिद अफरीदी को कहा गया भिखारी
शाहिद अफरीदी को कहा गया भिखारीSocial Media

एक अन्य ट्विटर यूजर द्वारा लिखा गया कि, हम सिर्फ आजादी चाहते हैं और हमें जल्द ही मिलेगी।

जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले शाहिद अफरीदी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से भी गुहार लगा चुके हैं कि पाकिस्तान सुपर लीग में कश्मीर के नाम से एक टीम शुरू की जाए, जिसमें वह मदद पेश करेंगे और उस टीम की कप्तानी भी संभालेंगे। शाहिद अफरीदी विवादों से घिरे रहते हैं, इससे पहले वह भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी टिप्पणी कर चुके हैं, जिसके बाद पूरे देश से उन्हें विरोध झेलना पड़ा था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co