द. अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया
द. अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी टीम इंडियाSocial Media

द. अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

विराट कोहली के सूरमा वांडरर्स के अपने अभेद्य दुर्ग में सोमवार से होने वाले दूसरे टेस्ट में सीरीज में 2-0 की अपराजेय बढ़त बनाने और दक्षिण अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीतने के मजबूत इरादे से उतरेंगे।

जोहानसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के अभेद्य दुर्ग को फतह करने के बाद कप्तान विराट कोहली के सूरमा वांडरर्स के अपने अभेद्य दुर्ग में सोमवार से होने वाले दूसरे क्रिकेट टेस्ट में सीरीज में 2-0 की अपराजेय बढ़त बनाने और दक्षिण अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीतने के मजबूत इरादे से उतरेंगे। भारत ने सेंचुरियन में पहला टेस्ट पांचवें और अंतिम दिन दूसरे सत्र में 113 रन से जीत लिया था। भारतीय टीम का इरादा अब अपने अपराजेय क्रम को बरकरार रखते हुए दूसरे टेस्ट में जीत हासिल करना होगा।

वांडरर्स के मैदान में भारतीय टीम पिछले 30 वर्षों से अपराजित रही है। भारत ने 2017-18 के पिछले दौरे में दक्षिण अफ्रीका को इसी मैदान पर 63 रन से पराजित किया था। भारतीय टीम दूसरे टेस्ट में इसी लय को बरकरार रखने के इरादे से उतरेगी। टीम इंडिया ने पिछले साल का समापन जीत के साथ किया था और नए साल का आगाज भी वह जीत के साथ करना चाहेगी।

भारतीय टीम में परिवर्तन की कोई गुंजाइश नजर नहीं आती है। विराट इस मुकाबले में भी वही टीम बरकरार रखना चाहेंगे जिसने सेंचुरियन का किला फतह किया था। ओपनिंग में उपकप्तान लोकेश राहुल और मयंक अग्रवाल की जोड़ी बनी रहेगी। दोनों के बीच सेंचुरियन में पहले दिन 117 रन की ओपनिंग साझेदारी और पहले दिन बने 272 रनों ने भारत की जीत का आधार रखा था। मैच में एक पूरा दिन बारिश के कारण बेकार चला गया था इसके बावजूद भारत ने मेजबानों को दोनों पारियों में 197 और 191 रन पर समेट दिया था। भारत ने हालांकि दूसरी पारी में 174 रन ही बनाए थे लेकिन पहली पारी में मिली 130 रन की बढ़त ने उसकी जीत का मार्ग प्रशस्त किया था।

भारत के तेज गेंदबाजों खासतौर पर जसप्रीत बुमराह के शुरूआती अटैक और मोहम्मद शमी की घातक गेंदबाजी ने मेजबानों को घुटने टेकने के लिए मजबूर किया था। शमी के पहली पारी में पांच विकेट सहित मैच में कुल आठ विकेटों ने भारतीय कप्तान विराट को यह कहने के लिए मजबूर किया था कि शमी इस समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ तीन तेज गेंदबाजों में से एक हैं। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन आश्विन के लिए सेंचुरियन में करने के लिए कुछ खास नहीं था लेकिन उन्होंने लक्ष्य का पीछा कर रहे दक्षिण अफ्रीका के आखिरी दो विकेट लंच के बाद लगातार गेंदों पर निकालकर अपनी उपयोगिता साबित कर दी थी।

भारत की पहले टेस्ट में जीत में एकमात्र चिंता चेतेश्वर पुजारा की फॉर्म रही थी जो पहली पारी में शून्य और दूसरी पारी में 16 रन बनाकर आउट हो गए थे। कप्तान विराट का ऑफ स्टंप से बाहर की गेंद पर छेड़छाड़ करते हुए अपना विकेट गंवाना भारत के लिए एक और चिंता की बात है। विराट और पुजारा को देखना होगा कि वे वांडरर्स में उसी अंदाज में अपने विकेट न गंवाए। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में सीरीज फतह कर चुके भारत के पास अच्छा मौका है कि वह वांडरर्स को भी जीत कर इस फाइनल फ्रंटियर को फतह कर ले।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.