महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह कोरोना से हारे जिंदगी की जंग
महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह कोरोना से हारे जिंदगी की जंगSocial Media

महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह कोरोना से हारे जिंदगी की जंग

महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह अपनी पत्नी निर्मल कौर के कोरोना वायरस संक्रमण के कारण निधन होने के 5 दिन बाद खुद भी कोरोना से अपनी जिंदगी की जंग हार गए।

राज एक्सप्रेस। महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह अपनी पत्नी निर्मल कौर के कोरोना वायरस संक्रमण के कारण निधन होने के 5 दिन बाद खुद भी कोरोना से अपनी जिंदगी की जंग हार गए। मिल्खा सिंह 91 वर्ष के थे। मिल्खा सिंह की गुरुवार शाम से ही हालत काफी गंभीर हो गयी थी। उनको अचानक बुखार आ गया और उनका ऑक्सीजन लेवल भी गिरने लगा था।

मिल्खा सिंह के कोरोना से संक्रमित पाए जाने के बाद उन्होंने ने कहा था कि, 'एक दिन पहले तक उन्होंने जॉगिंग की है। उन्हें कोई लक्षण भी नहीं हैं, ऐसें में कोरोना होना हैरान करने वाला है, लेकिन अगले कुछ दिन में उनकी तबीयत बिगड़ने लगी थी यहां तक की उन्होंने खाना छोड़ दिया था। हालात में सुधार न होने के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था।

उनके पत्नी निर्मल कौर ने मोहाली के एक निजी अस्पताल में 13 जून को अंतिम सांस ली। वह 85 वर्ष की थीं। वह कोरोना निमोनिया से पीड़ित थी और चार जून से हाई फ्लो नेजल कैनुला (एचएफएनसी) और नॉन इनवेसिव वेंटिलेशन (एनआईवी) सपोर्ट पर थी। उनके परिवार में तीन बेटी डॉ. मोना सिंह , अलीजा ग्रोवर, सोनिया सनवल्का और पुत्र जीव मिल्खा सिंह हैं।

महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह चार बार के एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक जीता तथा 1958 के राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियन रहे लेकिन उनका सबसे बड़ा प्रदर्शन रोम ओलंपिक में था। उन्होंने 1956 और 1964 के ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया। सन 1959 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.