सुरजीत सिंह की मौजूदगी ही दहशत पैदा कर देती थी विपक्षी टीम मे
सुरजीत सिंह की मौजूदगी ही दहशत पैदा कर देती थी विपक्षी टीम मेSocial Media

ओलंपियन सुरजीत सिंह की मौजूदगी ही दहशत पैदा कर देती थी विपक्षी टीम के दिलों में

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान और ओलंपियन सुरजीत सिंह रंधावा ने हमेशा अपनी टीम के लिए एक लोहे की दीवार की तरह काम किया। सुरजीत सिंह को दुनिया के कुछ सबसे बड़े फुलबैक के तौर पर जाना जाता था।

जालंधर। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान और ओलंपियन सुरजीत सिंह रंधावा ने हमेशा अपनी टीम के लिए एक लोहे की दीवार की तरह काम किया। सुरजीत सिंह को दुनिया के कुछ सबसे बड़े फुलबैक के तौर पर जाना जाता था। उनकी टीम में मौजूदगी विपक्षी टीम में बेचैनी पैदा कर देती थी। ब्रिटेन के जैसे बॉब कीटल और बार्बर, वेस्ट जर्मनी के पीटर ट्रूप और माइकल पीटर, हॉलैंड के टाइस क्रूज और पॉल लिटिजेन और पाकिस्तान के अनवर ने अपनी टीम में सबसे बेहतर फुलबैक के तौर पर जगह बनायी वैसे ही भारतीय हॉकी खिलाड़ी सुरजीत सिंह ने फुलबैक के तौर पर अपना नाम कमाया था। ओलंपियन सुरजीत को पेनल्टी कार्नर का मास्टर माना जाता था। उनका पेनल्टी कॉर्नर हिट 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से जाता था। ऐसा करने के लिए उन्हें पेनल्टी कॉर्नर बादशाह कहा जाता था।

वर्ष 1978 के विश्व कप में भारतीय हॉकी टीम में ओलंपियन सुरजीत सिंह की अनुपस्थिति को देखते हुए, एक बार ऑस्ट्रेलियाई हॉकी टीम के कप्तान टिज़ क्रूज़ ने कहा था कि भारतीय टीम में ओलंपियन सुरजीत सिंह की मौजूदगी ही विरोधियों के दिलों में दहशत पैदा कर देती है। सुरजीत सिंह ने हर टीम में एक स्तंभ के रूप में काम किया है। सुरजीत सिंह ऐसे फुलबैक थे जिसके खेल पर हर कोई कभी भी भरोसा कर सकता था। ओलंपियन में सुरजीत सिंह को पेनल्टी कार्नर का मास्टर माना जाता था। उनके शरीर और उनके जोड़ों में बिजली चमक रही थी। उनका पेनल्टी कॉर्नर हिट 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहा था। ऐसा करने के लिए, उन्हें दंड कोनों का राजा कहा जाता था।

ओलंपियन सुरजीत सिंह की आज से ठीक 38 साल पहले 07 जनवरी, 1984 की जालंधर के पास बिधिपुर गांव में एक कार दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। इस दुर्घटना में उनके साथ अंतर्राष्ट्रीय बास्केटबॉल खिलाड़ी प्रसोतम पांधे की भी मृत्यु हो गई थी, इस दुर्घटना में उनके सबसे अच्छे दोस्त राम प्रताप, पूर्व एथलेटिक कोच, स्पोर्ट्स स्कूल, जालंधर इस हादसे में बाल-बाल बच गए। देश आज सुरजीत सिंह की 38वी पुण्यतिथि मना रहा है। ओलंपियन सुरजीत सिंह ने हर समय हॉकी और हॉकी खिलाड़ियों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने का हर संभव प्रयास किया। वह चाहते थे कि हर भारतीय हॉकी खिलाड़ी एक क्रिकेटर की तरह जीवन जिए। वह चाहते थे कि हॉकी खिलाड़ियों को क्रिकेटरों और हर हॉकी खिलाड़ियों को हर मैच के लिए क्रिकेट के समान पैसा मिले। उन्होंने हॉकी के मानक को उठाया और खिलाड़ियों के उज्ज्वल भविष्य के लिए अंतिम समय तक लड़ाई लड़ी।

ओलंपियन सुरजीत सिंह ने हॉकी खिलाड़ियों की मदद के लिए एक ‘स्पोर्ट्समेन बेनिफिट समिति’ की स्थापना की थी। उनका विचार था कि हॉकी में खिलाड़ियों के लिए क्रिकेट की तरह, समर्थन मैच आयोजित किए जाने चाहिए। वह नहीं चाहते थे कि खिलाड़ी उनके संन्यास के बाद हीनता की जिंदगी जीएं, जैसा कि हमारे ओलंपियन कप्तान रूप सिंह ने किया। ओलंपियन रूप सिंह के पास बीमारी के इलाज के लिए पैसे भी नहीं थे और आखिरकार वह अल्लाह को प्यारे हो गए । इसीलिए ओलंपियन सुरजीत सिंह ने इस समिति का गठन किया था।

समिति ने पहले ओलंपियन सुरजीत सिंह के समर्थन में एक बेनिफिट मैच आयोजित करने का फैसला किया। यह मैच भारत और पाकिस्तान के बीच 04 जनवरी, 1984 को जालंधर के गुरु गोबिंद सिंह स्टेडियम में खेला जाना था । शहर अच्छा और सचित्र पोस्टरों से भरा गया था । हर जगह मैच की चर्चा चल रही थी । सुरजीत को चार मैचों की श्रृंखला में खेलना था। दूसरी ओर, सुरजीत अपने हॉकी अभ्यास में अधिक मेहनत कर रहे थे, क्योंकि वह इन दिनों मैच की भी तैयारी कर रहे थे। सुरजीत सिंह कहते थे कि वह इस मैच में अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाएंगे लेकिन शायद भगवान को यह मंजूर नहीं था और सुरजीत इस मैच को नहीं खेल सके। यह सुरजीत बेनिफिट मैच किसी कारण से मैच को 04 जनवरी को स्थगित कर दिया गया था और 06 जनवरी को ओलंपियन सुरजीत सिंह, राम प्रताप, पूर्व एथलेटिक कोच, स्पोर्ट्स स्कूल, जालंधर तथा प्रुशोतम पांथे जो बेनिफिट समिति के सचिव भी थे, वाघा सीमा पर पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ मिलकर मैच की एक नई तिथि निर्धारित कर जब तीनों आधी रात को लौट रहे थे, तो मौत के क्रूर पंजे ने ओलंपियन सुरजीत सिंह को नहीं छोड़ा और हमेशा के लिए हमसे भारतीय हॉकी का कीमती हीरा छीन लिया। अगर यह मैच होता तो ओलंपियन सुरजीत सिंह भारत के पहले ऐसे हॉकी खिलाड़ी होते, जिनकी मदद के लिए बेनिफिट मैच आयोजित होता।

ओलंपियन सुरजीत सिंह का जन्म ग्राम दखलन दाखलां (अब सुरजीत सिंह वाला), तहसील बटाला, जिला गुरदासपुर में मग्घर सिंह रंधावा के घर 10 अक्टूबर 1951 को जन्म हुआ था। सुरजीत सिंह ने अपनी स्कूली शिक्षा गुरु नानक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, बटाला से प्राप्त की । वैसे तो उन्होंने स्कूल टाइम से ही हॉकी खेलना शुरू कर दिया था, लेकिन उनके पिता मग्घर सिंह रंधावा के अनुसार सुरजीत ने एक उच्च स्तरीय हॉकी स्पोर्ट्स कॉलेज में प्रवेश करने के बाद ही खेलना शुरू किया। जब उनके पिता ने स्कूल में देखा कि सुरजीत को हॉकी खेलने का बहुत शौक था, तो उन्होंने उन्हें स्पोर्ट्स कॉलेज, जालंधर में दाखिला दिलाया । वह जब 17 साल के थे तो उन्होंने स्पोर्ट्स कॉलेज में दाखिला लिया। उन्होंने तत्कालीन कोच मनमोहन सिंह से हॉकी का प्रशिक्षण प्राप्त किया और पहले साल में सुरजीत सिंह की संयुक्त विश्वविद्यालय की टीम में चुने गए। यह वह टीम थी जिसने 1971 में ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था। सुरजीत सिंह ने पहली बार 1972 और फिर 1978 के एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1979 में, सुरजीत सिंह ने चैंपियन ट्रॉफी भी जीती जो पाकिस्तान में आयोजित की गई थी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co