फाइनल में चोटिल डेवन कॉन्वे का स्थान ले सकते हैं टिम सिफर्ट : स्टेड
फाइनल में चोटिल डेवन कॉन्वे का स्थान ले सकते हैं टिम सिफर्ट : स्टेडSocial Media

फाइनल में चोटिल डेवन कॉन्वे का स्थान ले सकते हैं टिम सिफर्ट : स्टेड

न्यूजीलैंड के प्रमुख कोच गैरी स्टेड ने कहा, कॉन्वे अब चोट की वजह से टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं और उनकी जगह बेंच पर बैठे टिम सिफर्ट ले सकते हैं।

दुबई। न्यूजीलैंड को सेमीफ़ाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ जीत दिलाने में कई मैच विनर का अहम योगदान रहा। टिम साउदी ने जहां टेस्ट की लाइन और लेंथ से इंग्लिश बल्लेबाजों को बांधे रखा, तो एडम मिल्न ने जॉनी बेयरस्टो का मिड ऑफ़ पर शानदार कैच लपका। लेकिन न्यूजीलैंड को पहली बार टी20 विश्वकप के फाइनल में पहुंचाने में एक बड़ा किरदार रहा जिमी नीशम की अंतिम समय में आतिशी पारी और डैरिल मिचेल की सूझ बूझ वाली बल्लेबाजी का।

न्यूजीलैंड के प्रमुख कोच गैरी स्टेड ने खासतौर से अबू धाबी में विपरित परिस्थितियों में अपनी टीम के जुझारूपन और हार न मानने वाली जज्बे की जमकर तारीफ़ की। स्टेड ने कहा, ''मुझे लगता है कि सबसे अहम था हमारा हार न मानने वाला जज्बा और आखिरी दम तक लडना। जिमी नीशम ने जो पारी खेली वह बेहद लाजवाब थी, उसी ने हमें मैच में वापस लाया। मिचेल ने भी अंत तक खड़े रहते हुए हमारी जीत सुनिश्चित कर दी, और ये देखना बेहद सुखद था। सेमीफ़ाइनल में कॉन्वे ने भी एक असरदार पारी खेली थी, जब शुरुआती झटकों के बाद उन्होंने पारी को संवारा और एक नीव रखी थी। हालांकि कॉन्वे अब चोट की वजह से टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं और उनकी जगह बेंच पर बैठे टिम सिफर्ट ले सकते हैं।

स्टेड ने कहा, हर कोई ओस की बात कर रहा है लेकिन अब ये उतना फ़र्क नहीं पैदा कर रही जितना कुछ दिनों पहले तक देखने को मिल रहा था। हालांकि ग्लेन फिलिप्स भी विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं लेकिन उनके कमर को देखते हुए हम ये जोखिम नहीं लेना चाहते, और उन्हें आउटफ़ील्ड में ही रखना बेहतर होगा। लिहाजा विकेट के पीछे सिफर्ट नजर आ सकते हैं। दुबई में टॉस भी बेहद अहम किरदार निभाता है, जहां अब तक 12 में से 11 बार चेज करती हुई टीमों को जीत मिली है। इस मैदान पर टी20 विश्वकप 2021 में सिर्फ एक मुक़ाबला डिफ़ेंड करने वाली टीम ने जीता था, और वह भी दिन के मैच में न्यूजीलैंड ने ही स्कॉटलैंड को हराया था।

स्टेड ने कहा,असल में टॉस बड़ा दिलचस्प हो सकता है। सभी लोग ओस को लेकर बात कर रहे हैं लेकिन पिछले कुछ दिनों से ये उतना फ़र्क पैदा नहीं कर रही। लिहाजा मुझे लगता है कि अगर हम पहले भी बल्लेबाजी करते हैं और स्कोर बोर्ड पर एक बड़ा स्कोर खड़ा कर देते हैं तो फिर फ़ाइनल में ये सामने वाली टीम पर दबाव बना सकता है। हालांकि मैं ये मानता हूं कि अगर टॉस हमारे पक्ष में गया तो फिर 50 प्रतिशत मैच भी हमारी ओर झुक सकता है। लेकिन जरूरी नहीं कि आप टॉस जीत जाएं, इसलिए हमें दोनों ही चीजों के लिए तैयार रहना होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.