मैं झूठी प्रबलता दिखा रहा था, हर चीज की एक सीमा : विराट कोहली
मैं झूठी प्रबलता दिखा रहा था, हर चीज की एक सीमा : विराट कोहलीSocial Media

मैं झूठी प्रबलता दिखा रहा था, हर चीज की एक सीमा होती है : विराट कोहली

भारत के अनुभवी बल्लेबाज विराट कोहली ने कहा कि हर चीज की एक सीमा होती है और जब आप उसे नहीं समझते हो तो यह आपके लिये हानिकारक होता है।

दुबई। भारत के अनुभवी बल्लेबाज विराट कोहली ने अपनी फॉर्म, मानसिक स्थिति और लोगों की अपेक्षाओं के बारे में कहा है कि 10 साल में पहली बार मैंने एक महीने तक बल्ला नहीं छुआ है। मैंने बैठकर महसूस किया कि मैंने सच में 30 दिनों में एक बार भी बल्ला नहीं छुआ। ऐसा मेरे जीवन में पहले कभी नहीं हुआ था। मैंने यह महसूस किया कि मैं पिछले दिनों में झूठी प्रबलता दिखा रहा था। मैं अपने आप को लगातार बता रहा था कि मैं यह कर सकता हूं, लेकिन मेरा शरीर मुझे रुकने के लिये कह रहा था। मेरा मस्तिष्क मुझे रुककर एक कदम पीछे लेने के लिए कह रहा है।

भारतीय टीम के पूर्व कोच रवि शास्त्री ने हाल ही में कोहली की स्थिति के बारे में कहा था कि उनके ऊपर कार्यभार बहुत ज्यादा है, इसलिये उन्हें विराम लेने की आवश्यकता है। कोहली ने शास्त्री से सहमति जताते हुए कहा, मैं समझता हूं कि रवि भाई क्या कह रहे थे। वह कार्यभार के बारे में बात कर रहे थे। मैंने पिछले 10 सालों में अन्य लोगों से 40-50 प्रतिशत ज्यादा क्रिकेट खेला है। लोग मुझे मानसिक रूप से मजबूत व्यक्ति समझते हैं, जो मैं हूं भी, लेकिन हर चीज की एक सीमा होती है और जब आप उसे नहीं समझते तो यह आपके लिये हानिकारक होता है। इस ब्रेक ने मुझे बहुत कुछ सिखाया, जो बातें मैं सतह पर नहीं आने दे रहा था। जब वह बातें सामने आयीं तो मैंने उन्हें स्वीकार किया। उन्होंने कहा, जीवन में आपके पेशे के अलावा और भी बहुत कुछ है। जब आपके आस-पास का माहौल ऐसा हो कि हर कोई केवल आपकी पेशेवर पहचान को देखता है, तो कहीं न कहीं आप एक इंसान के रूप में अपना नजरिया खोने लगते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co