मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली। (फाईल इमेज)
मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली। (फाईल इमेज)|- Social Media
खेल

तेंदुलकर को ट्विटरातियों ने क्यों दी गलती सुधारने की सलाह?

"पहले जहां अंपायर बकनर मैदान में गलत फैसला देने के कारण प्रशंसकों के निशाने पर थे, वहीं इस बार बारी ट्विटर की है।"

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स –

  • Twitter पर सचिन ने दी बधाई

  • तो प्रशंसकों को गलती नहीं भायी

  • फैंस का मिला साथ पर कुछ ने की खिंचाई

राज एक्सप्रेस। भारत के भूतपूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को ओणम पर बधाई संदेश देना भारी पड़ गया है। प्रशंसकों का कहना है कि 'ट्विटर को गलतियों को ठीक करना चाहिए।' खैर जो भी हो मास्टर ब्लास्टर की पहली बार सोशल वर्ल्ड में खिंचाई जरूर हो रही है।

ट्विटर की गलती -

बधाई संदेश में गलती पकड़ में आने के बाद ट्विटरातियों की पौ बारह हो गई और उन्होंने ट्रांसलेटर्स की बड़ी गलती पर जमकर मजे लिये।

ये रहा पूरा मामला -

भारत में सोमवार को ओणम का त्योहार मनाया गया। भारत और भारत के बाहर रहने वाले मलयाली लोगों के लिए यह खास मायने रखता है।

ओणम का उत्सव राजा महाबलि के स्वागत में प्रति वर्ष आयोजित होता है। पर्व के महत्व को देखते हुए क्रिकेटर्स और ख्यात वर्ग से लेकर छोटे-बड़े सभी लोगों ने इस मौके पर सोशल मीडिया के जरिये बधाई संदेश दिये।

तेंदुलकर से हो गई चूक -

सचिन तेंदुलकर ने भी ओणम पर भारतीय नागरिकों को ट्विटर पर बधाई दी थी। दिलचस्प बात यह रही कि; उन्होंने अपने प्रशंसकों को आश्चर्यचकित करने के लिए मलयालम भाषा में संदेश जारी किया। आप भी देखें-समझें मास्टर ब्लास्टर का ट्वीट –

ऐसे पकड़ी गलती –

अब बात चहेते सचिन तेंदुलकर की थी तो हिंदी भाषियों ने भी मलयालम भाषा में लिखे संदेश को समझने भरसक कोशिश की। जब लोगों ने ट्वीट का अनुवाद किया तो उसका अर्थ कुछ और ही निकल रहा था।

ट्विटर के अनुवाद पर सवाल - सचिन के मलयालम भाषा में लिखे संदेश से पता चला कि ट्विटर का अनुवाद ठीक से काम नहीं कर रहा। सचिन के फैंस के मुताबिक तेंदुलकर के ट्वीट का अनुवाद 'कौन परवाह करता है सभी को हैप्पी ओणम।' बताया जा रहा है।

ट्विटरातियों की मौज -

ट्विटर पर खिंचाई का दौर वैसे ही चल रहा है। ऐसे में जब इतनी बड़ी मशहूर हस्ती के बधाई संदेश में खामी मिल जाए तो फिर क्या कहना। गलती ट्विटरातियों की पकड़ में आते ही स्क्रीन शॉट्स का जो दौर शुरू हुआ वो आप भी देखिये, पढ़िये और समझिये बात को-

ट्रांसलेशन – ट्विटर यूजर वत्सल (@IamTheVatsal) ने जो स्क्रीन शॉट साझा किया है उसमें उन्होंने सचिन के बजाय ट्विटर को उसकी गलती सुधारने की ताकीद दी है।

बाइज्जत खिंचाई –

कौ_सिक नाम के यूजर ने लीपापोती न करने की सलाह दी है तो मुफद्दल वोहरा ने ट्वीट किया है कि सर अनुवाद ठीक नहीं है। जबकि वोहरा के ट्वीट के जवाब में सचिन के प्रशंसकों ने तेंदुलकर का ही पक्ष लिया है।

समर्थकों की राय –

सचिन के एक प्रशंसक कुनाल ने सचिन का पक्ष लिया और लिखा है “इसमें उन्होंने क्या लिखा है? क्योंकि मुझे नहीं लगता कि इसका सही अनुवाद है।”

सचिन के फैन प्रांजल श्रीवास्तव लिखते हैं कम से कम आप यह समझने के लिए पर्याप्त स्मार्ट हैं कि यह Google अनुवादक की कुछ त्रुटि थी। इसलिए प्रतिक्रिया करना बंद करें जैसे आप वास्तव में सोचते हैं कि वह जान बूझकर ऐसा कुछ लिखेंगे।

हालांकि गलती सचिन की हो, ट्विटर की या फिर ट्रांसलेटर की इससे सचिन की लोकप्रियता के ग्राफ पर कोई असर नहीं पड़ा। उनके ट्वीट पर महज 10 घंटों के भीतर 313 कमेंट्स आए तो वहीं एक हजार से ज्यादा बार इसे रीट्वीट किया गया। इतना ही नहीं 11.9 हजार लोगों ने अपने लोकप्रिय बल्लेबाज तक लाइक के जरिये अपना प्यार भी पहुंचाया।

कहना गलत नहीं होगा सचिन तेंदुलकर ने अपने अचूक खेल से सभी को कायल किया है। पहले जहां अंपायर बकनर मैदान में गलत फैसला देने के कारण प्रशंसकों के निशाने पर थे, वहीं इस बार बारी ट्विटर की है। दोनों बार सचिन तेंदुलकर को गलत तरह से आउट करने की कोशिश की गई, जिसकी भर्त्सना अभी तक जारी है।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co