Raj Express
www.rajexpress.co
UNESCO General Conference
UNESCO General Conference|Priyanka Sahu -RE
दुनिया

UNESCO मंच पर कश्मीर-अयोध्या मुद्दे पर भारत ने पाक का बजाया बैंड

पेरिस में UNESCO सम्मेलन में पाकिस्‍तान ने कश्मीर और अयोध्या का मुद्दा उठाया, जिसपर भारत ने पाक पर कड़ी प्रतिक्रिया कर कहा- यह हमारे आंतरिक मामलों का दुष्प्रचार है एवं पाक के DNA में आतंकवाद है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। पेरिस में 40वीं यूनेस्को सामान्य सम्मेलन (UNESCO General Conference) में सामान्य नीति चर्चा के दौरान पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ झूठ फैलाने की कोशिश की, जिसपर भारत ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई।

क्‍या बोला पाकिस्‍तान ?

UNESCO जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान के शिक्षा मंत्री शफकत महमूद द्वारा अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश और जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने का मुद्दा उठाया।

40th UNESCO General Conference
40th UNESCO General Conference
Social Media
बाबरी मस्जिद पर भारत के सुप्रीम कोर्ट का आदेश यूनेस्को के धार्मिक मूल्यों के खिलाफ है। हम ये देखकर हैरान हैं कि, भारत की सबसे बड़ी अदालत ने मुसलमानों के लिए पवित्र सैंकड़ों साल पुरानी मस्जिद को गिराने की घटना की वास्तव में अनदेखी की। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इस अन्याय पर गौर करना चाहिए।
शफकत महमूद

पाक को भारतीय महिला अफसर ने यूँ जवाब दिया-

यूनेस्को की जनरल कॉन्फ्रेंस में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने वाली महिला अफसर अनन्या अग्रवाल ने कहा- ‘‘हम भारत की सर्वोच्च अदालत पर पाकिस्तान की टिप्पणी की निंदा करते हैं। भारत के लिए सबसे महत्वपूर्ण मौलिक अधिकार और जीवन जीने का अधिकार है। वैश्विक तौर पर इससे सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद से है। यह दु:खद सच्चाई है कि दुनिया में इस बुराई का सबसे बड़ा निर्यातक पाकिस्तान है। पाकिस्तान की राजनीतिक जड़ें आतंकी हिंसा में डूबी हैं।’’

यह मुद्दा पाकिस्तान के स्वभाव में नहीं :

उन्‍होंने आगे ये भी कहा- ''सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश कानून और सभी धर्मों के प्रति समान भाव के साथ सुनाया, जो पाकिस्तान के स्वभाव में नहीं है। पाकिस्तान भारत के आंतरिक मामलों को लेकर बचकाना दुष्प्रचार कर रहा है, हम इस मंच से उसका खंडन करते हैं।''

यूनेस्को में भारत की प्रतिनिधि अनन्या अग्रवाल ने ये भी कहा कि, ”पाक को हमारे अंदरूनी मामलों में टांग अड़ाने की मानसिक बीमारी है, पाकिस्तान के प्रायोजित आतंकवाद से दुनिया परेशान है।”

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग :

पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के मुद्दे पर भारतीय महिला अधिकारी ने भी यह जवाब दिया कि, ‘‘केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख हमेशा भारत का अभिन्न अंग रहा है और रहेगा। इसमें वह क्षेत्र भी शामिल है जिस पर पाकिस्तान ने अवैध कब्जा कर रखा है।’’

इसके साथ ही भारतीय महिला अफसर ने यह सवाल भी पूछा- किस देश में 9/11 और 26/11 के दोषी मिले? ओसाम बिन लादेन और मुल्ला उमर कहां मिले? कौन से देश में अमेरिका द्वारा घोषित 130 आतंकवादी और 25 आतंकी संस्थान सूचीबद्ध हैं? फिर आगे कहा इन सबका जवाब पाकिस्तान है।

आतंकवाद पर भारत का पाक को तीखा जवाब :

इसी के साथ ही भारत ने जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान पर और भी तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कहा- ''पाकिस्तान के DNA में आतंकवाद गहराई तक घुसा हुआ है।''

कमजोर अर्थव्यवस्था, कट्टरपंथी समाज और आतंकवाद की गहरी जड़ों के साथ ही पाकिस्तान के विक्षिप्त व्यवहार के कारण वह गिरते हुए एक विफल राज्य की ओर गिरता चला जा रहा है। पाकिस्तान में चरमपंथी विचारधाराओं और कट्टरपंथी शक्तियों, आतंकवाद की सबसे गहरी अभिव्यक्तियों सहित हर तरह का अंधेरा मौजूद है।
भारत की प्रतिनिधि अनन्या अग्रवाल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।