उत्तर कोरिया रूस को हथियारों की आपूर्ति कर रहा है : अमेरिका

प्रतिबंधों के कारण रूसी सेना की आपूर्ति की क्षमता कम होने से उसे उत्तर कोरिया से सैन्य साजो-सामान खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ा है। अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है।
उत्तर कोरिया रूस को हथियारों की आपूर्ति कर रहा है : अमेरिका
उत्तर कोरिया रूस को हथियारों की आपूर्ति कर रहा है : अमेरिकाSocial Media

वॉशिंगटन। प्रतिबंधों के कारण रूसी सेना की आपूर्ति की क्षमता कम होने से उसे उत्तर कोरिया से सैन्य साजो-सामान खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ा है। अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है। 'न्यूयॉर्क टाइम्स' द्वारा प्राप्त गुप्त सूचना के अनुसार रूस ने उत्तर कोरिया से कई लाख तोपखाने के गोले और रॉकेट खरीदे हैं। एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि अगर युद्ध जारी रहा तो रूस को अतिरिक्त उत्तर कोरियाई हथियार खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले हफ्ते रूस को कथित तौर पर नए ईरानी ड्रोन का पहला ऑर्डर मिला था। फिलहाल यह नहीं पता चल सका है कि रूस की ओर से खरीदे गये हथियारों में किस तरह के हथियार शामिल है और इनकी संख्या क्या है। पश्चिमी देशों की 'आंखों की किरकिरी' बने ईरान और उत्तर कोरिया ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की ओर से फरवरी में यूक्रेन पर हमला किये जाने के बाद से श्री पुतिन से संबंधों को मजबूती देने की कोशिश में जुटे हुए हैं।

उत्तर कोरियाई शासन किम जोंग उन ने यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के लिए अमेरिका को दोषी ठहराया है और पश्चिमी देशों पर एक 'आधिपत्य नीति' का पालन करने का आरोप लगाया है। पिछले महीने उत्तर कोरिया ने पूर्वी यूक्रेन में रूस के दो प्रॉक्सी स्टेटलेट्स - डोनेटस्क और लुहान्स्क पीपुल्स रिपब्लिक - की स्वतंत्रता को मान्यता दी तथा मास्को के साथ अपनी 'कॉमरेडली दोस्ती' को गहरा करने की कसम खाई। उत्तर कोरियाई सरकारी मीडिया के अनुसार श्री पुतिन ने कहा कि दोनों देश अपने 'व्यापक और रचनात्मक द्विपक्षीय संबंधों' का विस्तार करेंगे।

फिनिश थिंक टैंक सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर के अनुसार व्यापक आर्थिक प्रतिबंधों ने ऊर्जा निर्यात से रूस की आय को नुकसान पहुंचाने को बहुत कम किया है। अमेरिका और यूरोपीय संघ का हालांकि, मानना है कि रूस की अपनी सेना को फिर से आपूर्ति करने की क्षमता क्षीण हो गई है। पिछले सप्ताह जो बाइडेन प्रशासन के अधिकारियों ने अमेरिकी मीडिया को बताया कि ईरानी निर्मित ड्रोन की पहली खेप भी रूस को दी गई है। ईरान ने आधिकारिक तौर पर संघर्ष के दोनों ओर हथियार पहुंचाने से इनकार किया है लेकिन जुलाई में अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने कहा कि ईरान यूक्रेन में युद्ध के लिए रूप से सैकड़ों ड्रोन मास्को की आपूर्ति करने की योजना बना रहा था।

बीबीसी ने मंगलवार को ब्रिटेन के रक्षा अधिकारियों के हवाले से एक दैनिक अपडेट में कहा कि रूस युद्ध के मैदान में ड्रोन की आपूर्ति को बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहा है। अपडेट में कहा गया,''यह संभावना है कि रूस यूएवी के स्टॉक को बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहा है, जो अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के परिणामस्वरूप घटक की कमी से बढ़ा है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co