Chinese soldiers killed in Galvan valley dispute
Chinese soldiers killed in Galvan valley dispute|Social Media
दुनिया

गलवान घाटी विवाद में चीनी सैनिकों की मौत पर अमेरिकी मैगजीन का बड़ा दावा

भारत की सीमा पर हुई बड़ी कार्यवाही के दौरान भारत के जवानों से ज्यादा चीनी सैनिक मारे गए थे। इस बात का खुलासा अमेरिकी मैगजीन 'न्यूजवीक' ने किया है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

अमेरिका। बीते कुछ समय से भारत और चीन के बीच LAC की गलवान घाटी पर हुए विवाद के चलते तनाव बढ़ता हुआ ही नजर आया है। इस बड़ी कार्यवाही में भारत के जवानों के शहीद होने की खबर तो सामने आई थी, लेकिन चीन यह दवा कलर रहा था कि, उनका एक भी जवान इस कार्यवाही के दौरान नहीं मारा गया है, परंतु अब अमेरिका की एक मैगजीन 'न्यूजवीक' (The Newsweek) ने दावा करते हुए बहुत बड़ा खुलासा किया है।

अमेरिका की मैगजीन ने दावा :

दरअसल, भारत की सीमा की गई कार्यवाही के दौरान भारत के जवानों के साथ ही 60 से भी ज्यादा चीनी सैनिक मारे गए थे। इस बात का खुलासा करते हुए अमेरिका की मैगजीन 'न्यूजवीक' ने दावा किया है कि, 'भारत के सामने सामने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सभी साजिशें नाकाम रही है, खासकर चीनी सेना की आक्रामक गतिविधियों के दम पर भारतीय जमीन पर कब्जे की चाल क्योंकि, भारत की सेना के जवानों ने बहुत ही बहादुरी के साथ चीन की सेना का सामना किया था और उन्हें आगे बढ़ने से रोक दिया था।'

मैगजीन के अनुसार :

मैगजीन में आगे कहा गया है कि, गलवान घाटी में दोनों देशों के जवानों के बीच हुई इस बड़ी कार्यवाही की सच्चाई भले चीन सबसे छुपा रहा हो, लेकिन सच यह है कि, इस विवाद के दौरान चीन की सेना के 60 से भी ज्यादा सैनिक मारे गए थे। मैगजीन न्यूजवीक ने शी जिनपिंग को भारत-चीन के बीच तनाव की मुख्य वजह बताते हुए कहा कि, 'वो 'पीपल्स लिबरेशन आर्मी' (PLA) की कार्रवाईयों के पीछे के मुख्य रणनीतिकार हैं। इसके अलावा भारत के खिलाफ बदला लेने के लिए शी जिनपिंग पर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी दबाव बना रही। इस दावे में यह भी कहा गया है कि, हो सकता है चीनी सेना जिनपिंग के आदेश मिलते ही दोवारा भारत में घुसपैठ की कोशिश करे और यह सब करने का मकसद चीनी सेना की विफलता के को गलत साबित करना है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co