काबुल के मेयर से मिले अफगान हिन्दू , सिख, गुरुद्वारे के रख-रखाव का आग्रह किया
काबुल के मेयर से मिले अफगान हिन्दू , सिख, गुरुद्वारे के रख-रखाव का आग्रह कियाSocial Media

काबुल के मेयर से मिले अफगान हिन्दू , सिख, गुरुद्वारे के रख-रखाव का आग्रह किया

अफगानिस्तान के हिन्दुओं और सिखों के एक समूह ने तालिबान द्वारा नियुक्त काबुल के मेयर से मुलाकात के दौरान गुरुद्वारा कटे परवान सिंह सबहा के रख-रखाव का आग्रह किया।

काबुल। अफगानिस्तान के हिन्दुओं और सिखों के एक समूह ने तालिबान द्वारा नियुक्त काबुल के मेयर और काबुल नगर पालिका आयोग के प्रमुख हमदुल्ला नोमानी से गुरुवार को मुलाकात की और शहर से जुड़े मुद्दों और काबुल में गुरुद्वारे के रखरखाव के बारे में चर्चा की। काबुल निवासी एक अफगान हिन्दू राम शरण सिंह ने यूनीवार्ता को बताया कि लगभग 10 अफगान हिन्दुओं और सिखों के एक समूह ने काबुल के मेयर से मुलाकात की।

उन्होंने कहा ''हम लगभग 10 लोग (अफगान हिन्दू और सिख) थे और मुलाकात के दौरान हमने काबुल के मेयर से गुरुद्वारा कटे परवान सिंह सबहा के रख-रखाव का आग्रह किया। 'महापौर ने हमें आश्वासन दिया कि वह गुरुद्वारे के रखरखाव के लिए काम करेंगे और इस मामले को देखने के लिए शनिवार को कुछ लोगों को भेजेंगे। काबुल महापौर ने कहा कि हम उनके देशवासी हैं और वह हमारे लिए चीजों को बेहतर बनाने के लिए काम करेंगे।"

यह पूछे जाने पर कि अफगानिस्तान में अब भी कितने अफगान हिन्दू और सिख हैं, तो श्री सिंह ने कहा कि अगस्त में तालिबान के देश पर कब्जा करने के बाद से करीब 230-250 अभी भी देश में शेष हैं। उन्होंने कहा कि कुछ अफगान हिन्दू और सिख परिवार गुरुद्वारे में हैं, वहीं कुछ वापस जलालाबाद या काबुल के गजनी या शोर बाजार चले गए हैं। राम शरण ने कहा, ''हमने भारत जाने के लिए ऑनलाइन वीजा फॉर्म भर दिए हैं, लेकिन वाणिज्यिक उड़ानों के बिना इसका कोई फायदा नहीं है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.