श्रीलंका में बच्चों का प्रीस्कूल से पलायन
श्रीलंका में बच्चों का प्रीस्कूल से पलायनSocial Media

श्रीलंका में बच्चों का प्रीस्कूल से पलायन

श्रीलंका के प्रीस्कूलों के शिक्षकों ने चेतावनी दी है कि आर्थिक संकट के कारण प्रीस्कूल जाने वाले बच्चों की संख्या में गिरावट आयी है, जिससे ये स्कूल गहरे संकट का सामना कर रहे हैं।

कोलंबो। श्रीलंका के प्रीस्कूलों के शिक्षकों ने चेतावनी दी है कि आर्थिक संकट के कारण प्रीस्कूल जाने वाले बच्चों की संख्या में गिरावट आयी है, जिससे ये स्कूल गहरे संकट का सामना कर रहे हैं। आइसलैंड समाचार पत्र ने यह जानकारी दी है। द आइलैंड अखबार ने कहा कि देश में बड़ी संख्या में राज्य द्वारा संचालित प्रीस्कूल और संस्थान हैं जो वंचित समुदायों की पूर्ति करते हैं। उनमें पेशेवर रूप से कई योग्य शिक्षक भी हैं, जिनका भी पलायन इस प्रीस्कूलों से हो रहा है।

शिक्षकों ने कहा कि पिछले कुछ महीनों में अधिकांश बच्चे प्रीस्कूल छोड़ चुके हैं और जो आ रहे हैं, उनमें से अधिकतर बड़ी कठिनाइयों के साथ ऐसा कर रहे हैं। एक शिक्षिका के अनुसार,“ अधिकतर बच्चे कम पोषण वाला खाना अपने साथ लेकर आते हैं। कुछ बच्चों ने कई सप्ताहों से दूध नहीं पिया है। ज्यादातर बच्चे सांबोल के साथ चावल लाते हैं। कुछ बच्चे त्रिपोशा की एक गेंद लेकर आते हैं। मैंने शायद ही बच्चों को मांस, मछली या अंडा लाते हुए देखा है। ”

उन्होंने कहा कि मध्यम वर्गीय परिवारों के बच्चे भी बहुत कम पोषण वाला खाना लाते हैं। बड़ी संख्या में बच्चे फीस नहीं दे पा रहे हैं और पढ़ाई छोड़ रहे हैं। एक अन्य शिक्षिका ने कहा,“ हम भी मुसीबत में हैं क्योंकि फीस देने वाले बच्चों को ढूंढना बहुत कठिन हो रहा है। राज्य द्वारा संचालित प्रीस्कूलों में काम करने वाले शिक्षकों को सरकार से 2,500 रुपये प्राप्त होते हैं,लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। सरकार को चाहिए कि वह बच्चों के विकास पर ज्यादा ध्यान केंद्रीत करे। ”

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co