मस्जिद-ए-नबवी मामले में इमरान हो सकते हैं गिरफ्तार
मस्जिद-ए-नबवी मामले में इमरान हो सकते हैं गिरफ्तारSyed Dabeer Hussain - RE

मस्जिद-ए-नबवी मामले में इमरान हो सकते हैं गिरफ्तार

राणा सनाउल्लाह ने कहा कि यदि सबूतों ने मस्जिद-ए-नबवी में नारेबाजी में उनकी संलिप्तता की ओर इशारा किया, तो पीटीआई के अध्यक्ष खान और पूर्व गृह मंत्री रशीद दोनों को गिरफ्तार किया जा सकता है।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के नवनिर्वाचित गृह मंत्री राणा सनाउल्लाह ने रविवार को कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और पूर्व गृह मंत्री शेख रशीद अहमद को मस्जिद-ए-नबवी घटना में शामिल होने के सबूत मिलने पर गिरफ्तार किया जा सकता है। एआरवाई न्यूज के अनुसार श्री सनाउल्लाह ने कहा कि यदि सबूतों ने मस्जिद-ए-नबवी (एसएडब्ल्यू) में नारेबाजी में उनकी संलिप्तता की ओर इशारा किया, तो पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष खान और पूर्व गृह मंत्री रशीद दोनों को गिरफ्तार किया जा सकता है।

श्री सनाउल्लाह ने कहा, ''इस मामले में किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा और कानून अपना काम करेगा।" उन्होंने कहा कि श्री शेख रशीद के भतीजे राशिद शफीक को भी नजरबंद किया जाएगा। एआरवाई के अनुसार उन्होंने कहा कि अगर श्री रशीद को पूरे प्रकरण में शामिल पाया गया तो वे उसे गिरफ्तार भी करेंगे। श्री सनाउल्लाह ने कहा, ''हमने सऊदी अधिकारियों से उन लोगों को निर्वासित करने के लिए कहा है जो मस्जिद- ए- नबवी में नारेबाजी में शामिल थे।"

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और उनके प्रतिनिधिमंडल की सऊदी अरब की यात्रा के दौरान उनके खिलाफ इस्लाम धर्म के दूसरे सबसे पवित्र स्थल मस्जिद-ए-नबवी में नारेबाजी की गई थी। इसी सिलसिले में श्री खान और पिछली सरकार के अन्य शीर्ष नेताओं पर मामला दर्ज किया गया है। श्री मोहम्मद नईम द्वारा पंजाब प्रांत के फैसलाबाद में शनिवार को दर्ज प्राथमिकी में सर्वश्री इमरान खान, फवाद चौधरी, कासिम सूरी और शेख राशिद अहमद सहित पीटीआई के प्रमुख नेताओं के नाम शामिल हैं।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को श्री खान ने मस्जिद-ए-नबवी में नारेबाजी करने वाले तीर्थयात्रियों से दूरी बना ली थी। पूर्व प्रधानमंत्री खान ने कहा कि वह इस तरह के पवित्र स्थान पर किसी से नारे लगाने के लिए कहने की 'कल्पना भी नहीं कर सकते' और पवित्र मस्जिद में जो कुछ भी हुआ वह लोगों की अपनी प्रतिक्रिया थी।

प्राथमिकी के अनुसार, मस्जिद-ए-नबवी की घटना को एक 'नियोजित और सोची-समझी योजना' के तहत अंजाम दिया गया था। डॉन की रिपोर्ट के अनुसार श्री मोहम्मद नईम ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया पर साझा किए जा रहे वीडियो के साथ-साथ पीटीआई के कुछ नेताओं द्वारा दिए गए भाषण भी उनके दावों का समर्थन करते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.