बंगलादेश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन कभी भी लगाया जा सकता है: फरहाद हुसैन
बंगलादेश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन कभी भी लगाया जा सकता है: फरहाद हुसैनSocial Media

बंगलादेश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन कभी भी लगाया जा सकता है: फरहाद हुसैन

बंगलादेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लगातार बिगड़ती स्थिति को देखते हुए सरकार ने कहा है कि इससे निपटने के लिए दो हफ्ते का लॉकडाउन कभी भी लगाया जा सकता है।

राज एक्सप्रेस। बंगलादेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लगातार बिगड़ती स्थिति को देखते हुए सरकार ने कहा है कि इससे निपटने के लिए दो हफ्ते का लॉकडाउन कभी भी लगाया जा सकता है। लोक प्रशासन राज्य मंत्री फरहाद हुसैन के मुताबिक कोरोना संक्रमण से हालात काफी गंभीर होते जा रहे हैं और सरकार पूरी तरह दो हफ्ते का लाकडाउन लगाने के लिए तैयार है। इस आशय की घोषणा कभी भी की जा सकती है और पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार के प्रतिबंध काफी कड़े होंगे।

गौरतलब है कि गुरुवार को राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समिति (एनटीएसी) ने दो सप्ताह के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की सिफारिश की थी। एनटीएसी के अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ शहीदुल्लाह ने बताया कि यह काफी सख्त लॉकडाउन होगा जिसमें आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी कार्यालय बंद रहेंगे और लोगों की आवाजाही भी बंद रहेगी। विशेषज्ञों का मानना है कि जिस तरह की स्थितियां बनती जा रही हैं, उसे राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बगैर नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि ढाका के समीप और आसपास के सात जिलों में पहले ही लॉकडाउन लगाया जा चुका है लेकिन अब जो स्थितियां बनती जा रही है, उसे देखते हुए हमने सभी आवश्यक उपाय कर दिए हैं और सरकार इस आशय के निर्णय पर कभी भी पहुंच सकती है। फिलहाल कोरोना की स्थिति पर नजर रखी जा रही है और इस बार का लॉकडाउन पहले की तुलना में काफी सख्त होगा। बंगलादेश में इस समय कोरोना वायरस संक्रमण काफी बढ़ रहा है और विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार देश के 43 जिलों में हालात काफी गंभीर हैं तथा ढाका समेत 15 अन्य जिलों में स्थिति बहुत ही खराब है।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.