दिवालिया होने की कगार पर पाकिस्तान
दिवालिया होने की कगार पर पाकिस्तानSyed Dabeer Hussain - RE

दस हजार का गैस सिलेंडर, आटा 150 रुपए किलो, दिवालिया होने की कगार पर है पाकिस्तान

इस समय पाकिस्तान में एक किलो आटे की कीमत 150 रूपए किलो तक पहुंच गई है। इसके अलावा चीनी, घी सहित अन्य चीजों की कीमतों में भी बेतहाशा वृद्धि देखी जा रही है।

राज एक्सप्रेस। श्रीलंका के बाद भारत का एक और पड़ोसी मुल्क दिवालिया होने की कगार पर पहुंच चुका है। दरअसल हम पाकिस्तान की बात कर रहे हैं। पाकिस्तान इस समय भयंकर आर्थिक बदहाली से गुजर रहा है। उसका विदेशी मुद्रा भंडार 5.5 अरब डॉलर पर पहुंच गया है, जो पिछले 8 वर्षों में सबसे कम है। इसके अलावा महंगाई और बिजली संकट से भी लोग बुरी तरह से परेशान हो चुके हैं। ऐसे में आज हम जानेंगे कि पाकिस्तान में हालात कितनी बुरी स्थिति में पहुंच चुके हैं।

दस हजार का गैस सिलेंडर :

पाकिस्तान में महंगाई का आलम यह है कि वहां कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 10,000 पाकिस्तानी रूपए तक पहुंच गई है। ऐसे में वहां के लोगों के पास गैस का सिलेंडर खरीदने के पैसे नहीं है। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में प्लास्टिक की थैलियों में रसोई गैस भरकर बेची जा रही है।

बिजली संकट :

पाकिस्तान इस समय भारी बिजली संकट से गुजर रहा है। इसको देखते हुए देश भर में सभी सरकारी मीटिंग्स दिन में ही करने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा बाजारों को रात 8 बजे जबकि मैरिज हॉल को रात 10 बजे तक बंद करने का फैसला लिया गया है। साथ ही इलेक्ट्रिक पंखों और बल्ब का उत्पादन भी फिलहाल बंद कर दिया गया है।

सैलरी के पैसे नहीं :

पाकिस्तान के पास इस समय अपने कर्मचारियों की सैलरी देने के लिए भी पैसे नहीं है। रेलवे अपने रिटायर हुए अधिकारियों को ग्रेच्युटी भी नहीं दे पा रहा है। सरकार, सरकारी कर्मचारियों को अपनी सैलरी समय पर नहीं दे पा रही है।

आसमान छू रहे खाद्य चीजों के दाम :

पाकिस्तान में खाने की चीजें बहुत महंगी हो गई हैं। इस समय पाकिस्तान में एक किलो आटे की कीमत 150 रूपए तक पहुंच गई है। इसके अलावा चीनी, घी सहित अन्य चीजों की कीमतों में भी बेतहाशा वृद्धि देखी जा रही है। वहां खाद्य मुद्रास्फीति साल-दर-साल 35.5 प्रतिशत बढ़ी है।

विदेशी मुद्रा भंडार :

पाकिस्तान के सामने सबसे बड़ी समस्या उसका विदेशी मुद्रा भंडार भी है। इस समय पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार आठ साल के निचले स्तर 5.5 अरब डॉलर तक पहुंच गया है। खास बात यह है कि इसमें भी एक बड़ा हिस्सा सऊदी अरब, यूएई और चीन ने बतौर सिक्योरिटी डिपॉजिट दिया हुआ है। यानी पाकिस्तानी सरकार इस पैसे को खर्च नहीं कर सकती और इन देशों द्वारा मांगने पर 36 घंटों के अंदर यह पैसा लौटाना होगा। साथ ही चीन ने भी पाकिस्तान में अपना निवेश कम कर दिया है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co