रानिल विक्रमसिंघे इस महीने करेंगे भारत का दौरा
रानिल विक्रमसिंघे इस महीने करेंगे भारत का दौराSocial Media

रानिल विक्रमसिंघे इस महीने करेंगे भारत का दौरा

श्रीलंका के नवनियुक्त प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के इस महीने भारत आने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की उम्मीद है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

कोलंबो। श्रीलंका के नवनियुक्त प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के इस महीने भारत आने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की उम्मीद है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। 'न्यूज कटर' ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री के करीबी सूत्र के हवाले से कहा,'' इस यात्रा के दौरान श्री विक्रमसिंघे के भारतीय प्रधानमंत्री और अन्य उच्च स्तरीय गणमान्य लोगों से भी मिलने की उम्मीद है।"

दोनों नेताओं के बीच मुलाकात में अभूतपूर्व आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका को वित्तीय सहायता के संबंध में चर्चा होगी। भारत द्वारा जून में श्रीलंका को एक और 50 करोड़ अमेरिकी डॉलर की लाइन ऑफ क्रेडिट ट्रांसफर करने की भी उम्मीद है। इसका उपयोग आवश्यक ईंधन और आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए किया जाएगा। शुक्रवार को भारतीय उच्चायुक्त गोपाल बागले ने नए प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे से मुलाकात की थी, जिस दौरान दोनों पक्षों ने चर्चा की।

श्री विक्रमसिंघे ने कहा है कि नई सरकार के तहत श्रीलंका और भारत के बीच संबंध काफी बेहतर होंगे। अपनी नियुक्ति के बाद भारत-श्रीलंका संबंधों पर एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ''यह बहुत बेहतर हो जाएगा।" उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने द्वीप राष्ट्र की संकटग्रस्त अर्थव्यवस्था के उत्थान की चुनौती ली है। उन्होंने कहा, ''मैंने अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने की चुनौती ली है और मुझे इसे पूरा करना होगा।"

यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के नेता विक्रमसिंघे को गुरुवार को कोलंबो में राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई। उन्होंने पहले पांच मौकों पर श्रीलंका के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया था। प्रधानमंत्री के रूप में अपने पिछले कार्यकाल के दौरान श्री विक्रमसिंघे ने चार अवसरों - अक्टूबर 2016, अप्रैल 2017, नवंबर 2017 और अक्टूबर 2018 में भारत का दौरा किया था।

श्री महिंदा राजपक्षे के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद, भारत ने कहा कि वह श्रीलंका के लोकतंत्र, स्थिरता और आर्थिक सुधार का 'पूरी तरह से समर्थन' करता है। भारत ने इस वर्ष श्रीलंका के लोगों को उनकी वर्तमान कठिनाइयों को दूर करने में मदद करने के लिए 3.5 अरब अमेरिकी डालर से अधिक की सहायता प्रदान की है। साथ ही, भोजन और दवा जैसी आवश्यक वस्तुओं की कमी को कम करने के लिए सहायता भी प्रदान की है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.