श्रीलंका ने ईंधन शिपमेंट के लिए एक करोड़ डॉलर का विलंब शुल्क दिया
श्रीलंका ने ईंधन शिपमेंट के लिए एक करोड़ डॉलर का विलंब शुल्क दियाSocial Media

श्रीलंका ने ईंधन शिपमेंट के लिए एक करोड़ डॉलर का विलंब शुल्क दिया

डॉलर की कमी और आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका ने ईंधन की शिपमेंट के लिए पिछले छह महीने में एक करोड़ डॉलर के विलंब शुल्क का भुगतान किया है।

कोलंबो। डॉलर की कमी और आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका ने ईंधन की शिपमेंट के लिए पिछले छह महीने में एक करोड़ डॉलर के विलंब शुल्क का भुगतान किया है। यह जानकारी डेली मिरर ने शुक्रवार को दी है। डेली मिरर के अनुसार, विदेशी मुद्रा संकट के कारण सरकार ने अब तक ईंधन को कार्गो से नहीं उतारा है और जब तक वह शिपिंग कंपनियों को अमेरिकी डॉलर से भुगतान नहीं करता है वह कार्गो में ही रहेगा, जिसके कारण उसे विलंब शुल्क का भुगतान देना पड़ रहा है।

विद्युत और ऊर्जा राज्य मंत्री डीवी चनाका ने इस बात की पुष्टि की है कि पिछले छह महीनो से एक करोड़ डॉलर के विलंब शुल्क का भुगतान किया गया है और सरकार भविष्य में इससे बचने की एक पद्धति अपनाएगी। मंत्री ने कहा कि इस पद्धति को लागू करने की मंजूरी के लिए एक कैबिनेट पेपर प्रस्तुत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एक बार यह प्रणाली लागू हो जाएगी तब हम उन आपूर्तिकर्ताओं से निविदाएं मांगेंगे जो भुगतान से पहले हमारी सुविधाओं तक उस ईंधन को पहुंचाने के लिए इच्छुक हैं और एक बार भुगतान करने के बाद हम इसका उपयोग करना शुरू कर देंगे।

वर्तमान में श्रीलंका ने पर्याप्त रूप से स्टॉक आयात करने के लिए विदेशी मुद्रा की कमी के कारण क्यूआर कोड प्रणाली के अंतर्गत ईंधन वितरण को तर्कसंगत बनाया है। क्यूआर कोड प्रणाली के अंतर्गत वितरण करने के लिए प्रति माह 120,000 टन डीजल और 100,000 टन पेट्रोल का आयात करता है। ईंधन खरीद के लिए विदेशी ऋण सुविधाओं के बारे में मंत्री ने कहा कि बहुत सारे अनुरोध किए गए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co