अमेरिका: ट्रंप के फैसले से भारतीयों को बड़ा झटका-H-1B वीजा निलंबित
अमेरिका: ट्रंप के फैसले से भारतीयों को बड़ा झटका-H-1B वीजा निलंबित|Priyanka Sahu -RE
दुनिया

अमेरिका: ट्रंप के फैसले से भारतीयों को बड़ा झटका-H-1B वीजा निलंबित

अमेरिका के राष्‍ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्‍प ने H1-B वीजा निलंबित करने की घोषणा कर भारत समेत दुनिया के आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका दिया है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

अमेरिका। दुनियाभर के देशों में कोरोना वायरस का प्रकोप है और इस वायरस ने सबसे अधिक तबाही अमेरिका में मचा रखी है। इसी बीच अमेरिकी राष्‍ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्‍प ने H1-B वीजा निलंबित करने की घोषणा कर भारत समेत दुनिया के आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका दिया हैं।

अमेरिकी श्रमिकों के हित में ट्रम्‍प का फैसला :

ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक, ये फैसला अमेरिकी श्रमिकों के हित के लिए लिया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्‍प ने अपनी सरकार को एच-1बी वीजा सिस्टम में सुधार करने और योग्यता आधारित आव्रजन की दिशा में आगे बढ़ने का निर्देश दिया है। डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि, यह कदम उन अमेरिकियों की मदद करने के लिए आवश्यक था, जिन्होंने मौजूदा आर्थिक संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी है। नवंबर में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनावों से पहले ये ऐलान करते हुए ट्रंप ने विभिन्न व्यापारिक संगठनों, कानूनविदों और मानवाधिकार निकायों द्वारा आदेश के बढ़ते विरोध की अनदेखी की है। ये निलंबन 24 जून से लागू होगा।

वहीं, ट्रम्प प्रशासन मंगलवार को एच-1 बी वीजा के साथ ही एच-4, एच-2बी, जे और एल वीजा जारी करने पर भी प्रतिबंध लगा सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि, ऐसे वीजा के लिए लॉटरी सिस्टम को तुरंत बंद किया जाए। वीजा से जुड़ी नई पाबंदियों से इस साल के अंत तक 5 लाख 25 हजार नौकरियों पर असर होगा। अमेरिका में संक्रमण फैलने से अब तक 30 लाख से ज्यादा लोगों की नौकरियां गई हैं।

भारतीय आईटी पेशेवर होंगे प्रभावित :

बताते चलें कि, H1 बी वीजा रद्द होने से प्रभावित देशों में सबसे आगे भारत है, क्‍योंकि भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी पेशेवर इस वीजा की सबसे अधिक मांग करते हैं और यह वीजा अमेरिकी कंपनियों को विदेशियों की नियुक्‍ति का मंजूरी देता है। अब ट्रम्‍प के इस फैसले से बड़ी संख्या में भारतीय आईटी पेशेवरों के प्रभावित होने की संभावना है।

H-1B वीजा क्‍या ?

दरअसल, H-1B वीजा एक गैर-आव्रजन वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को विदेशी कर्मचारियों की नियुक्ति करने की सुविधा देता है और विशेषकर प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता वाले कामों में। बताया गया है कि, वर्ष के अंत तक एच -1 बी, एल -1 और अन्य अस्थायी कार्य वीजा निलंबित करने के आदेश पर राष्ट्रपति ट्रम्प के हस्ताक्षर करने की उम्मीद है, हालांकि इस नए आदेश से US में पहले से काम करने वालों को प्रभावित करने की संभावना नहीं है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co