Flashback 2020 January: ऑस्ट्रेलियाई आग का सितम, UK का EU से रिश्ता खत्म
@rajexpresshindiSyed Dabeer Hussain - RE

Flashback 2020 January: ऑस्ट्रेलियाई आग का सितम, UK का EU से रिश्ता खत्म

पिछले साल जनवरी की वो अहम घटनाएं जिनके जिक्र के बिना इतिहास अधूरा है। वो घटनाएं जिनसे पृथ्वी की संरचना से लेकर लोगों की दिनचर्या तक बदल गई।

हाइलाइट्स –

  • सुलग रही थी आग

  • चिंगारी बना वायरस

  • दिग्गज हो गया विदा

  • अलग हो गए दो दोस्त

राज एक्सप्रेस। कोविड-19 ग्रसित साल 2020 से समाप्त हुआ दशक दुनिया के लिए कई मायनों में अहम सीख देने वाला रहा। अब 2021 से प्रारंभ नए दशक में मानव को अपना खास फोकस अनुसंधान और विकास पर करना होगा।

फ्लैशबैक 2020 (Flashback 2020) में जानें पिछले साल जनवरी की वो अहम घटनाएं जिनके जिक्र के बिना इतिहास अधूरा है। वो घटनाएं जिनने पृथ्वी की संरचना से लेकर लोगों की दिनचर्या तक को बदल डाला। प्राकृतिक आपदाओं से लेकर मानवीय संबंधों के इतिहास की नई इबारत लिखी गई पिछले साल।

प्राकृतिक आपदाओँ का आगाज -

2019–20 समर ऑस्ट्रेलियाई बुशफ़ायर सीज़न ब्लैक समर के रूप में जाना गया। इस दौरान ऑस्ट्रेलिया के कई जंगली-पहाड़ी हिस्सों में असामान्य रूप से जंगली पेड़ों-झाड़ियों में लगी रौद्र आग (Australia Bushfires Break Out) ने तांडव दिखाया।

आम तौर पर अगस्त में शुरू होने वाला बुशफायर सीज़न जून में ही तेवर दिखाने लगा था। ऑस्ट्रेलिया में गर्मियों के दौरान, सैकड़ों दफा आग लगी। मुख्य रूप से देश के दक्षिण-पूर्व में। दिसंबर-जनवरी के दौरान आग यहां चरम पर रही।

रिपोर्ट्स के अनुसार 9 मार्च 2020 तक अनुमानित तौर पर 18.6 मिलियन हेक्टेयर जमीन, 5,900 इमारतें आग में भस्म हो गईं। अधिकृत रूप से कम से कम 34 लोगों की मौतों की पुष्टि हुई।

इस अग्नि त्रासदी में लुप्त प्राय वनस्पति, जीव संपदा का बड़ा नुकसान हुआ। कहना गलत नहीं होगा कि कई जीव अब हमें देखने के लिए न मिल पाएं।ऑस्ट्रेलिया के लिए 103 बिलियन ऑस्ट्रेलियाई डॉलर महंगी आग आज तक की सबसे महंगी प्राकृतिक आपदा है।

इससे तकरीबन 80 प्रतिशत आस्ट्रेलियाई तो प्रभावित हुए ही, धुआं दक्षिण प्रशांत महासागर में चिली और अर्जेंटीना तक कहर बरपाता रहा। नासा के अनुमान के अनुसार 2 जनवरी 2020 तक CO2 (कार्बन डाय ऑक्साइड) का 306 मिलियन टन उत्सर्जन हुआ।

तेहरान में यूक्रेन यात्री विमान हादसा

(Ukrainian plane crash in Tehran) -

यूक्रेन का यात्री विमान बुधवार 8 जनवरी 2020 को तेहरान एयरपोर्ट के पास संदिग्ध रूप से दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस विमान हादसे (Ukrainian plane crash in Tehran) में सभी 176 यात्रियों की मौत से देशों के बीच संबंध प्रभावित होते दिखे।

यूक्रेन की इंटरनेशनल एयरलाइंस फ्लाइट पीएस 752 में ईरान के 82, यूक्रेन के 11 और कनाडा के 63 यात्री यात्रा कर रहे थे। विमान में स्वीडन, ब्रिटेन, अफ़ग़ानिस्तान और जर्मनी के भी यात्री सवार थे।

विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने की ख़बर, इराक़ स्थित अमरीकी सैन्य ठिकानों पर ईरान के मिसाइल हमले के कुछ देर बाद आने से विमान पर हमले जैसी तमाम आशंकाएं प्रबल हुईं। ईरान ने अटैक के दावे को खारिज किया और जांच में हर संभव मदद का भरोसा दिया।

कोबी ब्रायंट की मौत

(Kobe Bryant died)

नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (एनबीए) के दिग्गज खिलाड़ी कोबी ब्रायंट और उनकी 13 वर्षीय बेटी गियाना सहित नौ लोगों की रविवार 26 जनवरी को हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गयी।

हेलीकॉप्टर लांस एंजिलिस के उप-नगर कैलाबासास में धुंध वाले मौसम में दुर्घटना का शिकार हुआ। एनबीए से संन्यास ले चुके 41 वर्षीय ब्रायंट अपने चार बच्चों में से एक गियाना के साथ एक मैच में शामिल होने जा रहे थे।

वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल

(Global Health Emergency) -

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नोवल कोरोनोवायरस (Coronavirus) महामारी (कोविड-19/Covid-19) प्रकोप के मद्देनजर वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल (Global Health Emergency) घोषित किया। वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी ऑफ इंटरनेशनल कंसर्न (PHEIC) भी कहा जाता है।

किसी बीमारी के अंतर राष्ट्रीय स्तर पर कहर बरपाने का खतरा होने की स्थिति में इसे घोषित किया जाता है। विश्व में 200 से ज्यादा देशों में फैल चुकी कोरोना वायरस महामारी से करोड़ों लोग संक्रमित हुए हैं।

WHO की इमरजेंसी ऑफ इंटरनैशनल कंसर्न का इतिहास चीन में 2005 के SARS के प्रकोप से जुड़ा है। बाद में यह अन्य 6 बार लागू किया गया। कोरोना वायरस महामारी (COVID-19) के बढ़ते विनाशकारी प्रभाव के बाद 30 जनवरी, 2020 को WHO ने कोविड-19 को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी ऑफ इंटरनेशनल कंसर्न (PHEIC) घोषित किया।

BREXIT: यूरोपीय संघ से अलग हुआ ब्रिटेन

(UK officially leaves the EU)

पूरे 47 सालों का नाता खत्म कर ब्रिटेन यूरोपीय संघ से आधिकारिक तौर पर अलग हो गया। ब्रिटिश मतदाताओं ने यूरोपीय संघ से अलग होने का जो जनादेश दिया था इसे ब्रेग्ज़िट (BREXIT) कहा गया।

शर्तों के अनुसार 31 जनवरी 2020 को ब्रिटेन की घड़ी में रात के 12 बजते ही ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के बीच नए संबंधों की शुरुआत हुई। मामले पर साल 2016 में ब्रेग्ज़िट के तहत फैसला लेने के लिए जनमत संग्रह कराया गया था।

इसमें यूरोपीय संघ से अलग होने का 51.9 प्रतिशत लोगों ने समर्थन किया था। ईयू से अलग होने का समर्थन करने वालों को चिंता सता रही थी कि; ब्रिटेन की आर्थिक स्थिति खराब होगी, बेरोजगारी बढ़ेगी और ब्रिटेन अलग-थलग पड़ जाएगा।

साल 2020 में जनवरी में प्राकृतिक आपदाओं की आफत के बाद के महीनों में क्या हुआ यह जानने के लिये फ्लैशबैक 2020 (Flashback 2020) पर क्लिक करें।

डिस्क्लेमर आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co