अमेरिकी राष्ट्रपति की धमकी पर ईरान का पलटवार
अमेरिकी राष्ट्रपति की धमकी पर ईरान का पलटवार|Social Media
दुनिया

अमेरिकी राष्ट्रपति की धमकी पर ईरान का पलटवार

अमेरिकी राष्ट्रपति के ट्वीट का जवाब ईरान की तरफ से आ चुका है। ईरान सरकार ने कहा देश के खिलाफ दी गई धमकियों का सामना करने के लिए तैयार है ईरान। जानिए क्या है मामला...

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस। ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनी ने इराक पर अमेरिका के घातक हवाई हमलों की कड़ी निंदा करते हुए बुधवार को चेतावनी दी कि, वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा उनके देश के खिलाफ दी गई धमकियों का सामना करने के लिए तैयार हैं। अयातुल्ला अली खामेनी ने सरकारी टेलिविजन पर प्रसारित एक भाषण में कहा कि वह, सरकार और ईरान राष्ट्र इस अमेरिकी अपराध की निंदा करते हैं। सप्ताहांत के हमले के बाद खामेनी की यह पहली टिप्पणी है। खामेनी ने रविवार (29 दिसंबर) को हशद अल-शाबी के उग्रवादियों पर हुए अमेरिका के भीषण हमलों का हवाला देते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया कि ईरान सरकार, राष्ट्र तथा वह अमेरिकी कार्रवाई की कड़ी निंदा करते हैं।

अमेरिकी हवाई हमलों में कताइब हिजबुल्लाह (हिजबुल्ला ब्रिगेड) के कट्टरपंथी गुट के कम से कम 25 लड़ाके मारे गए थे। अमेरिका ने इस गुट पर अमेरिकी ठेकेदार की हत्या का आरोप लगाया है।

क्या कहा था अमेरिकी राष्ट्रपति ने

इससे पहले ट्रंप ने ईरान को चेतावनी दी थी। उन्होंने ट्वीट किया था, ''हमारे किसी भी प्रतिष्ठान में किसी की भी जान जाने या किसी भी प्रकार की क्षति के लिए ईरान पूरी तरह जिम्मेदार होगा।"ट्रम्प ने कहा, ''उन्हें इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी। यह धमकी नहीं है, खतरा है।" खामेनी ने अपने टेलीविजन संबोधन में कहा, “पहली बात ये है कि आप आक्षेप नहीं लगा सकते हैं। इसका ईरान से कोई लेना-देना नहीं है।” उन्होंने कहा, “दूसरी बात ये है कि तार्किक रूप से... इस क्षेत्र के लोग अमेरिका से नफरत करते हैं। अमेरिकी इस बात को समझते क्यों नहीं?” उन्होंने कहा, “तुम अमेरिकियों ने इराक में अपराध किया है। तुमने अफगानिस्तान में अपराध किया है। तुमने लोगों को मारा है।”

इसके जवाब में खामेनी ने कहा कि ईरान किसी भी धमकी के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, “अगर इस्लामी गणतंत्र ने किसी देश के खिलाफ विरोध या लड़ाई का फैसला किया है, तो वह ऐसा खुलकर करेगा।” उन्होंने कहा कि वह युद्ध नहीं चाहते लेकिन अगर कोई इसे थोपेगा तो उनका देश पूरी ताकत के साथ मुकाबला करेगा। अमेरिका और ईरान के बीच अगर युद्ध होता है तो इसका प्रभाव भारत समेत अन्य देशों पर भी पड़ सकता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co