उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और कंबोडिया के PM हुन सेन के बीच हुई बैठक
उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और कंबोडिया के PM हुन सेन के बीच हुई बैठकSocial Media

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और कंबोडिया के PM हुन सेन के बीच हुई बैठक, चार समझौता ज्ञापनों का हुआ आदान-प्रदान

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) तीन दिनों के लिए कंबोडिया पहुंचे हैं। ऐसे में आज जगदीप धनखड़ और कंबोडिया के पीएम हुन सेन के बीच बैठक हुई।

कंबोडिया, विदेश। उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) तीन दिनों के लिए कंबोडिया पहुंचे है, जहां उन्होंने आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लिया। बता दें, कंबोडिया दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संघ (आसियान) के मौजूदा अध्यक्ष के तौर पर इन शिखर सम्मेलनों की मेजबानी कर रहा है। उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने यहां कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन से द्विपक्षीय मुलाकात की, साथ ही उन्होंने कई अन्य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की।

जगदीप धनखड़ और पीएम हुन सेन के बीच हुई बैठक:

बता दें कि, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ कंबोडिया पहुंचे हैं, जहां जगदीप धनखड़ और कंबोडिया के पीएम हुन सेन के बीच बैठक हुई है। इस दौरान मानव संसाधन, डी-माइनिंग और विकास परियोजनाओं सहित द्विपक्षीय संबंधों पर व्यापक चर्चा की गयी। नेताओं ने संस्कृति, वन्य जीवन और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में 4 समझौता ज्ञापनों/समझौतों का आदान-प्रदान देखा है। इसकी जानकारी विदेश मंत्रालय की तरफ से दी गयी है।

जगदीप धनखड़ ने कही यह बात:

नोम पेन्ह में आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा कि, अनादि काल से भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के बीच मौजूद सांस्कृतिक, आर्थिक और सभ्यतागत संबंधों ने आधुनिक समय में हमारी साझेदारी बनाने के लिए एक मजबूत आधार प्रदान किया है।"

नोम पेन्ह में आसियान-भारत स्मारक शिखर सम्मेलन में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने इस दौरान आगे कहा कि, "आज के अनिश्चित भू-राजनीतिक परिदृश्य में हमें अपने सहयोग का विस्तार करने और अपने सामरिक विश्वास को गहरा करने की आवश्यकता है। हमारी व्यापक रणनीतिक साझेदारी को इसके लिए एक रास्ता प्रदान करना होगा।"

कल 17वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में लेंगे भाग:

जानकारी के लिए बता दें कि, कल यानी 13 नवंबर को उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ 17वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे, जिसमें आसियान के 10 सदस्य देश ब्रूनेई दारुसलाम, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओ पीडीआर, मलेशिया, म्यांमा, सिंगापुर, थाईलैंड, फिलीपीन और वियतनाम शामिल हैं। इसके अलावा इसमें आठ संवाद साझेदार भारत, चीन, जापान, कोरिया गणराज्य, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूस शामिल हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co