G20 के 14 सदस्य देशों से पाकिस्तान को मिली आर्थिक राहत
Pakistan gets Financial relief from 14 member countries of g20Syed Dabeer Hussain - RE

G20 के 14 सदस्य देशों से पाकिस्तान को मिली आर्थिक राहत

काफी समय से आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को कुछ आर्थिक राहत मिलने की खबर सामने आई है। यह आर्थिक मदद पाक को G20 के 14 सदस्य देशों द्वारा प्राप्त हुई है।

पाकिस्तान। काफी समय से आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को कुछ आर्थिक राहत मिलने की खबर सामने आई है। यह आर्थिक मदद पाक को G20 के 14 सदस्य देशों द्वारा प्राप्त हुई है। इस बारे में जानकारी एक मीडिया रिपोर्ट के द्वारा सामने आई है।

G20 के देशों से मिली पाकिस्तान को मदद :

दरअसल, पाकिस्तान की मुश्किलें अब कुछ कम होती नजर आरही हैं ,क्योंकि, G20 के 14 सदस्य देशों द्वारा पाकिस्तान को 80 करोड़ अमेरिकी डॉलर की आर्थिक मदद दी गई है। जबकि, पाक को अभी सऊदी अरब और जापान सहित समूह के छह अन्य देशों से भी आर्थिक राहत मिलने की उम्मीद है। बताते चलें, दुनिया के 20 सबसे अमीर देशों के समूह (G20) से पाकिस्तान को इस साल अगस्त तक 25.4 अरब डॉलर की मदद मिली थी।

G20 देशों द्वारा लगाई गई रोक :

बताते चलें, इसी साल 2020 के 15 अप्रैल को G20 देशों द्वारा पाकिस्तान के साथ ही अन्य 76 देशों के लोन के पुनर्भुगतान के लिए मई से दिसंबर 2020 तक के लिए रोक लगाने का ऐलान कर दिया गया था। हालांकि, इसके लिए हर देश द्वारा औपचारिक अनुरोध करने की शर्त लगाई गई। खबरों के अनुसार, पिछले सात महीनों के दौरान 14 देशों ने पाकिस्तान के साथ अपने समझौतों की पुष्टि की, जिससे फिलहाल इस्लामाबाद को 80 करोड़ डालर की लोन राहत मिली है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक :

जारी हुई इस मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, G20 के इन 14 देशों के अलावा दो अन्य देशों द्वारा भी पाकिस्तान को लोन देकर आर्थिक राहत देने हेतु संपर्क किया था। आधिकारिक दस्तावेजों के मुताबिक, पाकिस्तान ने फिलहाल जापान, रूस, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यूनाइटेड किंगडम के साथ लोन पुनर्गठन के नियमों को अंतिम रूप नहीं दिया है।

मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया :

आर्थिक मामलों को देखने वाले मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि, इन छह देशों ने अभी तक लोन संबंधी समझौतों की पुष्टि नहीं की है, लेकिन इन देशों के साथ अगले महीने के अंत तक समझौता पूरा होने की उम्मीद है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co