पाक का नया नक्शा-'जम्मू कश्मीर-लद्दाख-जूनागढ़' हिस्से को बताया अपना

पाकिस्तान ने आर्टिकल 370 की सालगिरह के ठीक एक दिन पहले नए राजनीतिक नक़्शे को मंज़ूरी देकर लद्दाख, जम्मू-कश्मीर के सियाचिन समेत गुजरात के जूनागढ़ तक को अपने कब्जे में बताया है।
पाक का नया नक्शा-'जम्मू कश्मीर-लद्दाख-जूनागढ़' हिस्से को बताया अपना
पाक का नया नक्शा-'जम्मू कश्मीर-लद्दाख-जूनागढ़' हिस्से को बताया अपना Social Media

पाकिस्तान : भारत सरकार द्वारा जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने को कल 5 अगस्त को पूरा एक साल होने वाला है और भारत के इस कदम से पाकिस्तान में अभी तक बौखलाहट है, क्योंकि आर्टिकल 370 की सालगिरह के ठीक एक दिन पहले यानि आज 4 अगस्त को पाकिस्तान ने भी नेपाल की राह पर नया विवादित नक्शा जारी किया है।

भारत के इन इलाकों पर पाक ने ठोका अपना दावा :

जी हां, आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बैठक के दौरान देश का नया नक्शा जारी कर भारत के इन इलाकों पर अपना दावा ठोका है, जो इस प्रकार है- दरअसल, पाकिस्तान ने अपने इस नए नक़्शे में लद्दाख, जम्मू-कश्मीर के सियाचिन समेत गुजरात के जूनागढ़ तक को अपना बताया हैं और इस बारे में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने ख़ुद इसकी जानकारी दी।

नए राजनीतिक नक़्शे पर पाकिस्तान का कहना :

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने मंगलवार को कहा कि, कैबिनेट के फ़ैसले का तमाम विपक्षी पार्टियों और कश्मीरी नेतृत्व ने स्वागत किया है। पाकिस्तान का नया राजनीतिक नक़्शा पाकिस्तान जनता की उमंगों का प्रतिनिधित्व करता है, पाकिस्तान और कश्मीर के लोगों की सैंद्धांतिक विचारधारा का समर्थन करता है। साथ ही उन्होंने आगे यह भी कहा, भारत ने पिछले साल पाँच अगस्त को कश्मीर में जो ग़ैर-क़ानूनी क़दम उठाया था, ये राजनीतिक नक़्शा उसको नकारता है। अब से पाकिस्तान के स्कूल, कॉलेज और सभी दफ़्तरों में पाकिस्तान का वही आधिकारिक नक़्शा होगा, जिसे पाकिस्तानी कैबिनेट ने मंज़ूर किया है।

पाकिस्तानी विदेश मंत्री का दावा :

तो वहीं, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने यह दावा किया है कि, भारत ने यहां अवैध तरीके से निर्माण करा रखा है। यही नहीं, यह मानते हुए कि, सर क्रीक में भारत के साथ उसका विवाद है, पाकिस्तान ने साफ कह दिया है कि ,उसने इस इलाके को अपने नक्शे में शामिल कर लिया है।

बता दें कि, पाकिस्तान जैसा कारनामा पहले नेपाल ने भी किया है, उसने भी 20 मई को अपने देश का नया विवादित नक्शे को जारी कर भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को अपने कब्जे में बताया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co