पाक गृह मंत्री का अफगानिस्तान में शांति के लिए इस्लामाबाद की भूमिका का दावा
पाक गृह मंत्री का अफगानिस्तान में शांति के लिए इस्लामाबाद की भूमिका का दावाSocial Media

पाक गृह मंत्री का अफगानिस्तान में शांति के लिए इस्लामाबाद की भूमिका का दावा

पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद ने एक बयान साझा किया है। जिसमें वह अफगानिस्तान में शांति सुनिश्चित करने में इस्लामाबाद की भूमिका होने का दावा करते नजर आरहे हैं।

इस्लामाबाद, पाकिस्तान। पिछले दिनों अफगानिस्तान में जो हुआ, उसका असर कई अन्य देशों में पर भी नजर आरहा है। वहीं, अब इस मामले में पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद ने एक बयान साझा किया है। जिसमें वह अफगानिस्तान में शांति सुनिश्चित करने में इस्लामाबाद की भूमिका होने का दावा करते नजर आरहे हैं।

पाकिस्तान के गृह मंत्री का बयान :

दरअसल, अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्ज़ा होने के बाद कई देशों में खलबली मच गई है। इसी बीच पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद ने बुधवार को एक बड़ा दवा करते हुए कहा है कि, 'अफगानिस्तान में शांति सुनिश्चित करने में इस्लामाबाद की महत्वपूर्ण भूमिका है। कोई भी देश पाकिस्तान को ‘‘अनदेखा’’ नहीं कर सकता क्योंकि उसने अफगान तालिबान को अमेरिका के साथ बातचीत करने के लिए तैयार किया। अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया के लिए पाकिस्तान के प्रयासों को लंबे समय तक याद रखा जाएगा।'

द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट :

‘द न्यूज इंटरनेशनल’ द्वारा राशिद अहमद के हवाले से जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि, 'कोई भी देश पाकिस्तान को नजरअंदाज नहीं कर सकता क्योंकि उसने अमेरिका और तालिबान को बातचीत की मेज पर लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी को भी तालिबान से बातचीत के लिए मनाने की कोशिश की थी लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं थे। काबुल में किसी भी संभावित तालिबान सरकार को मान्यता देने का निर्णय प्रधानमंत्री इमरान खान और उनका मंत्रिमंडल करेगा। पाकिस्तान शांति की वकालत करता है और शांतिपूर्ण और स्थिर अफगानिस्तान देश के हित में है।'

वीजा के पैकेज की पेशकश :

पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद ने वीजा के पैकेज की जानकारी देते हुए कहा कि, 'प्रधानमंत्री खान के निर्देश पर पाकिस्तान ने अफगान राजनयिकों और वरिष्ठ अधिकारियों के इस्लामाबाद पहुंचने पर उन्हें ट्रांजिट वीजा के विशेष पैकेज की पेशकश की है। पाक सरकार ने काबुल से आने वाले विदेशी राजनयिकों, पत्रकारों और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), विश्व बैंक आदि के वरिष्ठ अधिकारियों के लिए सभी पाकिस्तानी हवाई अड्डों को चौबीस घंटे खुला रखने का फैसला किया है। अफगानिस्तान से लगी तोरखम और चमन सीमा पर तनाव की मीडिया में आयी खबरों को खारिज करते हुए मंत्री ने स्पष्ट करते हुए कहा कि, 'वहां कोई अफगान शरणार्थी मौजूद नहीं था। इन दोनों सीमाओं पर स्थिति शांतिपूर्ण बनी हुई है। मार्ग व्यापार और पारगमन के लिए खुला था। 14 अगस्त से अब तक 613 पाकिस्तानियों को अफगानिस्तान से वापस लाया गया है।'

विदेश मंत्री का संबोधन :

‘डॉन’ समाचारपत्र में छपी खबर के मुताबिक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को मुल्तान में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि, 'तालिबान के खिलाफ अशरफ गनी की अपदस्थ सरकार द्वारा प्रचार झूठा साबित हुआ क्योंकि तालिबान ने एक आम माफी की घोषणा की है और वह लड़कियों की शिक्षा पर रोक नहीं लगा रहा है। पूरी दुनिया जानती है कि अफगानिस्तान में एक भ्रष्ट व्यवस्था थी। उन्होंने दावा करते हुए आगे कहा कि, 'दुनिया पाकिस्तान को एक जिम्मेदार देश मानते हुए अफगानिस्तान मुद्दे के समाधान के लिए संपर्क कर रही है। प्रधानमंत्री खान के निर्देश पर वह अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा करने के लिए उज्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान, अजरबैजान और ईरान की यात्रा करने जा रहे हैं।'

गौरतलब है कि, पाकिस्तान ने अफगानिस्तान से लगभग 900 राजनयिकों और विदेशी पत्रकारों को भी निकाला है। उधर, अमेरिका और भारत जैसे देश अपने अफगानिस्तान में फंसे नागरिकों को वहां से निकाल कर अपने देश सुरक्षित पहुंचाने में लगे हुए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co