डेनमार्क PM के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में PM मोदी की टिप्‍पणी
डेनमार्क PM के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में PM मोदी की टिप्‍पणीSocial Media

डेनमार्क PM के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में PM मोदी की टिप्‍पणी

डेनमार्क के प्रधानमंत्री के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- हमारे दोनों देश लोकतंत्र, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, और कानून के शासन जैसे मूल्यों को तो साझा करते ही हैं।

डेनमार्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज डेनमार्क में है, इस दौरान उनकी इस देश की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिकसन से बातचीत हुई, इस दौरान डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन ने अपने आवास में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी पिछली भारत यात्रा के दौरान उनके द्वारा उपहार में दी गई पेंटिंग भी दिखाई। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदीे ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में टिप्पणी दी।

हम दोनों की कई complementary strengths हैं :

डेनमार्क के प्रधानमंत्री के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- हमारे दोनों देश लोकतंत्र, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, और कानून के शासन जैसे मूल्यों को तो साझा करते ही हैं। साथ में हम दोनों की कई complementary strengths भी हैं। 200 से अधिक डेनिश कंपनियां भारत में विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही हैं– जैसे पवन ऊर्जा, शिपिंग, कंसल्टेंसी, food processing, इंजीनियरिंग आदि। इन्हें भारत में बढ़ते ‘Ease of doing business’ और हमारे व्यापक आर्थिक reforms का लाभ मिल रहा है।

भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर और ग्रीन इंडस्ट्रीज में डेनिश कम्पनीज और Danish Pension Funds के लिए निवेश के बहुत अवसर हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • आज हमने भारत-EU रिश्तों, Indo-Pacific और Ukraine सहित कई क्षेत्रीय तथा वैश्विक मुद्दों पर भी बातचीत की। हम आशा करते हैं कि, India-EU Free Trade Agreement पर negotiations यथाशीघ्र संपन्न होंगे।

  • हमने एक Free, Open, Inclusive और Rules-based इंडो-पसिफ़िक क्षेत्र को सुनिश्चित करने पर जोर दिया। हमने यूक्रेन में तत्काल युद्धविराम और समस्या के समाधान के लिए बातचीत और कूटनीति का रास्ता अपनाने की अपील की।

तो वहीं, डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन ने डेनमार्क और पूरे यूरोपीय संघ ने यूक्रेन पर रूस के गैरकानूनी और अकारण आक्रमण की कड़ी निंदा की और कहा- मेरा संदेश बहुत स्पष्ट है- पुतिन को इस युद्ध को रोकना है और हत्याओं को समाप्त करना है। मुझे उम्मीद है कि, भारत इस चर्चा में रूस को भी प्रभावित करेगा। हमने यूक्रेन में नागरिकों के खिलाफ किए गए भयानक अपराधों और गंभीर मानवीय संकट के परिणामों पर चर्चा की। बुचा में नागरिकों की हत्या की खबरें बेहद चौंकाने वाली हैं। हमने इन हत्याओं की निंदा की है और हम एक स्वतंत्र जांच की आवश्यकता पर बल देते हैं।

हम कई मूल्य साझा करते हैं। हम दो लोकतांत्रिक राष्ट्र हैं, हम दोनों एक नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था में विश्वास करते हैं। ऐसे समय में हमें अपने बीच और भी मजबूत पुल बनाने की जरूरत है। करीबी साझेदार के रूप में, हमने यूक्रेन में युद्ध पर भी चर्चा की। मैं भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन 2022 में हम दोनों के बीच कल भी अपने नॉर्डिक सहयोगियों के साथ चर्चा जारी रखने के लिए उत्सुक हूं।

डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन

लेटर ऑफ इंटेंट और MoUs का आदान-प्रदान :

इसके अलावा भारत और डेनमार्क ने कोपेनहेगन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन की उपस्थिति में लेटर ऑफ इंटेंट और MoUs का आदान-प्रदान किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.