भारत-बांग्लादेश के रिश्ते हो रहे मजबूत, अगले 25 साल महत्वपूर्ण: PM मोदी
भारत-बांग्लादेश के रिश्ते हो रहे मजबूत, अगले 25 साल महत्वपूर्ण: PM मोदी Twitter

भारत-बांग्लादेश के रिश्ते हो रहे मजबूत, अगले 25 साल महत्वपूर्ण: PM मोदी

बांग्लादेश आजादी की 50वीं वर्षगांठ का मना रहा जश्न, राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर PM मोदी ने हिस्सा लिया और दोनों देशों के रिश्ते को लेकर ये बात कही...

बांग्लादेश। बांग्लादेश आजादी की 50वीं वर्षगांठ का जश्न मना रहा है और जश्‍न में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बांग्लादेश के दौरे पर है। इस दौरान PM मोदी ढाका के नेशनल परेड ग्राउंड में पहुंचे। यहां उन्‍‍‍‍‍‍‍‍होंने राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर हिस्सा लिया और इस दौरान अपने विचार साझा किए।

बांग्लादेश में राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- हम भारत-बांग्लादेश की दोस्ती के 50 साल पूरे कर रहे हैं। यह वर्ष दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत कर रहा है। मैं सभी भारतीयों को शुभकामनाएं देता हूं और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

भारतीय सेना के वीर जवानों को किया नमन :

ढाका में PM मोदी ने कहा- मैं आज यहां याद कर रहा हूं बांग्लादेश के उन लाखों बेटे-बेटियों को जिन्होंने अपने देश, आपनी भाषा और संस्कृति के लिए अनगिनत अत्याचार सहे, अपनी जिंदगी दांव पर लगा दी। मैं आज भारतीय सेना के उन वीर जवानों को भी नमन करता हूं जो मुक्तिजुद्धो में बांग्लादेश के भाइयों-बहनों के साथ खड़े हुए। जिन्होंने मुक्तिजुद्धो में अपना लहू दिया, अपना बलिदान दिया, और आज़ाद बांग्लादेश के सपने को साकार करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई।

राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, प्रधानमंत्री शेख हसीना और बांग्लादेश के नागरिकों का मैं आभार प्रकट करता हूं। आपने अपने इन गौरवशाली क्षणों में इस उत्सव में भागीदार बनने के लिए भारत को सप्रेम निमंत्रण दिया। मैं सभी भारतीयों की तरफ से आप सभी को, बांग्लादेश के सभी नागरिकों को हार्दिक बधाई देता हूँ। मैं बॉन्गोबौन्धु शेख मुजिबूर रॉहमान जी को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्होंने बांग्लादेश और यहाँ के लोगों के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया।

बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना, मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था। मेरी उम्र 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था। बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना, मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

अगले 25 साल भारत और बांग्लादेश के लिए महत्वपूर्ण :

PM मोदी ने बताया- 6 दिसंबर 1971 को अटल जी ने कहा था - हम सिर्फ उन लोगों के साथ नहीं लड़ रहे हैं जो लिबरेशन वॉर में अपना जीवन बिता रहे हैं, लेकिन हम इतिहास को एक नई दिशा देने की। अगले 25 साल भारत और बांग्लादेश दोनों के लिए महत्वपूर्ण हैं। हमारी विरासत साझा है, हमारी वृद्धि साझा है, हमारे लक्ष्य और अवसर भी साझा हैं, जबकि व्यापार और उद्योग में समान अवसर हैं, आतंकवाद में भी समान चुनौतियां हैं।

ये एक सुखद संयोग है कि बांग्लादेश के आजादी के 50 वर्ष और भारत की आजादी के 75 वर्ष का पड़ाव, एक साथ ही आया है। हम दोनों ही देशों के लिए 21वीं सदी में अगले 25 वर्षों की यात्रा बहुत ही महत्वपूर्ण है। हमारी विरासत भी साझी है, हमारा विकास भी साझा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

PM मोदी ने कहा- आज भारत और बांग्लादेश दोनों ही देशों की सरकारें इस संवेदनशीलता को समझकर, इस दिशा में सार्थक प्रयास कर रही हैं। हमने दिखा दिया है कि आपसी विश्वास और सहयोग से हर एक समाधान हो सकता है। हमारा Land Boundary Agreement भी इसी का गवाह है। COVID के दौरान भी, दोनों देशों ने मिलकर काम किया है। हमने सार्क COVID फंड विकसित करने और मानव संसाधन के प्रशिक्षण में मदद की। भारत खुश है कि 'मेड इन इंडिया' टीके बांग्लादेश के लोगों का इलाज कर रहे हैं।

PM मोदी ने कहा कि, ''भारत-बांग्लादेश साझेदारी के 50 साल पूरे होने पर मैं बांग्लादेश के 50 उद्यमियों को आमंत्रित करना चाहता हूं। उन्हें हमारे नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र के साथ जुड़ना चाहिए और उद्यम पूंजीपतियों से मिलना चाहिए। हम उनसे सीखेंगे और वे हमसे भी सीखेंगे।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co