अंतरिक्ष यात्रियों को बचाने चला रूस
अंतरिक्ष यात्रियों को बचाने चला रूसAkash Dewani - RE

यूक्रेन से युद्ध के बीच रूस चला अपने अंतरिक्ष यात्रियों को बचाने, NASA के साथ संयुक्त अभियान

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में रूस के अंतरिक्ष यान में कूलेंट लीक होने की घटना हुई थी। रूस अंतरिक्ष यात्रियों को निकालने के लिए Soyuz MS-23 अंतरिक्ष यान को 20 फरवरी को इंटरनेशन स्पेस स्टेशन भेजेगा।

राज एक्सप्रेस। रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच रूस अब अंतरिक्ष में फंसे हुए एस्ट्रोनॉट्स को बचाने का प्रयास करता हुआ दिखाई दे रहा है। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में रूस के अंतरिक्ष यान में कूलेंट लीक होने की घटना हुई थी। रूस की स्पेस एजेंसी रोसकोसमोस ने बताया कि इस लीक के कारण स्पेस स्टेशन से उसे अपने अंतरिक्ष यात्रियों को निकालने के लिए Soyuz MS-23 अंतरिक्ष यान को 20 फरवरी को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजेगा। यह अंतरिक्ष यान एक खाली यान होगा जो पिछले अंतरिक्ष यान Soyuz MS-22 को रिप्लेस करेगा और डैमेज्ड विमान को वापिस धरती पर लाएगा। यह ऑपरेशन भी NASA और रूसी अंतरिक्ष एजेंसी Roscosmos द्वारा एक ज्वाइंट ऑपरेशन होगा। 15 दिसंबर को Soyuz MS-22 में लीक का पता चला था।

क्या है Soyuz विमान?

सोयुज रॉकेट परिवार ओकेबी-1 द्वारा विकसित और प्रोग्रेस राज्य अनुसंधान और उत्पादन रॉकेट अंतरिक्ष केंद्र, समेरा, रूस में निर्मित उपभोजित लांच सिस्टम का एक परिवार है। सोयुज प्रक्षेपण यान सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया गया और दुनिया में सबसे विश्वसनीय प्रक्षेपण यान है। आपातकाल की स्थिति में बचाव यान के रूप में उपयोग के लिए कम से कम एक सोयुज अंतरिक्ष यान हर समय आईएसएस के लिए डॉक किया जाता है।

सोयूज रॉकेट, अंतरिक्ष यान को पहले कॉस्मोनॉट्स को सैल्यूट से मीर सोवियत स्टेशन तक ले जाने और वापिस लाने का कार्य किया करता थारॉकेट लेकिन अब यह इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की तरफ परिवहन और इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से परिवहन दोनो में उपयोग होता हैं।

कब लॉन्च हुआ Soyuz MS–22 :

सोयुज श्रृंखला का 22वां अंतरिक्ष यान पिछले साल 21 सितंबर को कजाखस्तान के बैकोनुर कॉस्मोड्रोम से लॉन्च किया गया था। इस स्पेस स्टेशन को कजाखस्तान ने रूस को साल 2050 तक लीज़ पर दिया हुआ है। इस यान में नासा के अंतरिक्ष यात्री फ्रैंक रुबियो और रोस्कोस्मोस कॉस्मोनॉट्स सर्गेई प्रोकोपयेव और दिमित्री पेटेलिन शामिल हैं, जो कि अभी इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के पास फंसा हुए हैं। प्रोकोपयेव, पेटेलिन और रुबियो के साथ, चार अन्य सदस्य वर्तमान में अंतरिक्ष चौकी पर हैं: नासा के अंतरिक्ष यात्री निकोल मान और जोश कसाडा, जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी की कोइची वाकाटा और रोस्कोस्मोस की अन्ना किकिना।

क्या खराबी हुई Soyuz MS–22 में?

15 दिसंबर को, कूलिंग तरल पदार्थ के कैप्सूल के रेडिएटर में 0.8 मिलीमीटर का छेद देखा गया। सोयुज कैप्सूल के इस तरल पदार्थ के खाली हो जाने से रेडिएटर ज़्यादा गरम हो जाएगा।कैप्सूल को ठंडा करने के लिए रेडिएटर स्टेशन से हवा पर निर्भर करता है, लेकिन इसके हैच को बंद करने से अंदर का तापमान 104 डिग्री फॉरेन्हाइट तक बढ़ जाएगा। ऐसा कहा जा रहा है कि रिसाव के दिन अंतरिक्ष स्टेशन के पास से एक उल्का बौछार (Meteor Shower) गुजरी थी जिसकी वजह से कैप्सूल के रेडिएटर में छेद हो गया था।

हालांकि, बताया जा रहा है की उल्का बौछार की दिशा सोयुज में छेद के उन्मुखीकरण से मेल नहीं खाती है। रूसी मैकेनिकल इंजीनियर क्रिकेलेव ने कहा कि यह अभी भी थोड़ा अनिश्चित है कि रिसाव का कारण अंतरिक्ष प्रभाव या यांत्रिक समस्या थी या नहीं। बाद में कैमरे के द्वारा सोयुज में रेडिएटर लाइन में छोटे छेद के ऊपर लगभग 4 मिलीमीटर के बाहरी छेद को दिखाया गया था। ऐसा छेद करने वाला एक माइक्रोमीटराइट ट्रैक करने के लिए बहुत छोटा होगा और स्टेशन प्रबंधकों को चेतावनी देगा कि यह आ रहा है।

रूस भेजेगा दूसरा अंतरिक्ष यान :

रूस की Roscosmos और अमेरिका की NASA ने ज्वाइंट प्रेस ब्रीफ में बताया कि वे 20 फरवरी को एक खाली सोयूज एमएस-23 यान को खराब हुए यान को रिप्लेस करने के लिए इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजेंगे। उन्होंने बताया कि खराब हुए यान में मौजूद सभी एस्ट्रोनॉट्स और एस्ट्रो इंजीनियर्स सुरक्षित है। रूसी स्पेस एजेंसी कर्मचारी ने बताया की सुयोज एमएस-23 को मार्च में लॉन्च किया जाना था लेकिन अब इमरजेंसी के वक्त उसे 1 महीना पहले बचावयान की तरह इंटरनेशनल स्पेस स्टेटन भेजा जाएगा। मोंटलबानों ने बताया कि खराब हुए यान को वापस धरती में लाया जाएगा।

एलोन मस्क (Elon Musk) की स्पेस कम्पनी भी कर सकती है मदद :

NASA आईएसएस कार्यक्रम प्रबंधक जोएल मोंटालबानो ने बताया कि अगर किसी कारण वर्ष सूयोज एमएस-23 में कोई दिक्कत आती है, तो फिर इस स्थिति में अरबपति उद्योगपति एलोन मस्क की स्पेस रिसर्च कंपनी स्पेसएक्स (SpaceX) के अंतरिक्ष यान क्रू ड्रैगन (Crew Dragon) का इस्तेमाल किया जाएगा, ताकि इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में फंसे अंतरिक्ष यात्रियों को वापिस लाया जा सके। जोएल मोंटालबानो ने बताया कि उनकी लगातार एलोन मस्क की स्पेसएक्स कंपनी से बात चल रही है।

लेकिन रूसी स्पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस ने अपने देश की अंतरिक्ष यात्री रूबियो को ड्रैगन अंतरिक्ष यान पर वापस लाने की योजना से इंकार किया है, जबकि कॉस्मोनॉट्स बाद की तारीख में सोयुज एमएस -23 कैप्सूल को मंजूरी दे दी गई थी। रूस ने अभी तक एलन मस्क की स्पेस कंपनी स्पेसएक्स से मदद या बात करने की पुष्टि नहीं की है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co