अमेरिका-मैक्सिको की सीमा पर सिख धर्म के लोगों से उतरवाई गई पगड़ी, अमेरिका ने शुरू की जांच

अमेरिका-मैक्सिको की सीमा पर सिख धर्म के लोगों को पगड़ी हटाने का बोला गया। जिससे सिख समुदाय के लोगों की भावना आहत हुई हैं। इस मामले की जांच अमेरिका द्वारा की जाएगी।
अमेरिका-मैक्सिको की सीमा पर सिख धर्म के लोगों से उतरवाई गई पगड़ी
अमेरिका-मैक्सिको की सीमा पर सिख धर्म के लोगों से उतरवाई गई पगड़ीSocial Media

अमेरिका-मैक्सिको, दुनिया। हर धर्म की अलग-अलग मान्यता होती है और हर चीज का अलग महत्व होता है। अन्य धर्मो की तरह ही सिख धर्म में पगड़ी या पग का महत्व बहुत ज्यादा होता है। सिख धर्म में पगड़ी को अनिवार्य माना जाता है। वह कहीं भी जाते है तो, पगड़ी को अपनी धार्मिक पहचान के तौर पर पहनकर जाते हैं। अगर कोई उन्हें पगड़ी हटाने को बोले तो यह उन्हें किसी भी हाल में नामंजूर होता है, लेकिन अमेरिका-मैक्सिको की सीमा पर सिख धर्म के लोगों को पगड़ी हटाने को बोला गया। जिससे सिख समुदाय के लोगों की भावना आहत हुई है। इस मामले की जांच अमेरिका द्वारा की जाएगी।

सिक्खों से उतरवाई गई पगड़ी :

दरअसल, अमेरिका-मैक्सिको की सीमा से एक मामला सामने आया है। इस मामले के तहत सिख समुदाय के कुछ लोगों से उनकी पगड़ी उतारने को कहा गया। हालांकि, ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि, अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर रिकॉर्ड संख्या के दौरान कुछ भारतीय प्रवासी पकड़े गए थे। इन लोगों में ज्यातर लोग भारत के पंजाब राज्य के बताए जा रहे थे और यह सिख धर्म के थे। यहां अधिकारीयों ने जांच के नाम पर इनमे से कम से कम 50 लोगों की पगड़ियां उतरवाई। जिसकी शिकायत पंजाबी लोगों ने की है। हालांकि, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 'इस बात को लेकर कोई स्पष्टीकरण सामने नहीं आया है कि, सिखों की पगड़ी पहनने से किसी की सुरक्षा भंग हो रही थी या यह नियमों के खिलाफ था।'

अमेरिकी अधिकारीयों का कहना :

इस मामले में अमेरिकी अधिकारीयों का कहना है कि, 'मैक्सिको सीमा पर हिरासत में लिए गए सिखों की पगड़ी ज़ब्त करने से जुड़े आरोपों की जांच कर रहे हैं। अमेरिकन सिविल लिबर्टीज़ यूनियन (ACLU) ने सीमा पर सिख समुदाय से जुड़े लोगों की पगड़ी ज़ब्त किए जाने को क़ानून का गंभीर उल्लंघन बताया है। ACLU की वकील वैनेसा पिनेडा ने एक एजेंसी को जानकारी देते हुए बताया है कि, ‘ये सीमा पर मौजूदा हालात का हिस्सा है, जहां पर प्रवासियों के सामान को ज़ब्त कर लिया जाता है और बिना वजह बताए उसे फेंक देते हैं।'

CBP के अधिकारी का बयान :

CBP के अधिकारी मैग्नस के बयान में कहा है कि, 'बॉर्डर एजेंसी अपने सभी कर्मियों से उम्मीद करती है कि वो सभी प्रवासियों के साथ सम्मानजनक व्यवहार करें। अब इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co