भारत, दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों को चीन से खतरा
भारत, दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों को चीन से खतरा|Priyanka Sahu -RE
दुनिया

भारत, दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों को चीन से खतरा-US करेगा सेना की तैनाती

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने ऐलान किया है कि, भारत और दक्षिण-पूर्व एशिया को चीन से खतरा है, इसी कारण उनका देश यूरोप से अपनी सेनाएं कम करके एशिया में तैनात करेगा।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

अमेरिका। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। इसी बीच दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका ने एक अहम रणनीतिक और सैन्य फैसले के तहत यूरोप में अपनी सेनाएं घटाकर एशिया में तैनात करने जा रहा है।

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा :

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा है कि, भारत और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के लिए खतरा उत्पन्न कर रहे चीन के कारण उनका देश यूरोप से अपनी सेनाएं कम करके अन्य जगहों पर तैनात कर रहा है।

पोम्पियो से पूछा सवाल :

ब्रसेल्स फोरम में माइक पोम्पियो से जब ये पूछा गया कि, अमेरिका जर्मनी से अपनी सेनाएं क्यों हटा रहा है? तो इस पर उनका जवाब ये रहा कि, जर्मनी में अमेरिका की सेनाएं नहीं हैं, क्योंकि उन्हें दूसरे जगहों पर भेजा जा रहा है।

चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यों के कारण भारत, वियतनाम, मलेशिया, इंडोनेशिया और दक्षिण चीन सागर के इर्द-गिर्द खतरा उत्पन्न हो गया है। हम सुनिश्चित करेंगे कि, अमेरिकी सेना इन चुनौतियों का सामना करने के लिए सही जगह तैनात हो।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो

ट्रम्प के निर्देश पर सैनिकों की तैनाती :

अमेरिकी विदेश ने कहा कि, राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प के निर्देश पर सैनिकों की तैनाती की समीक्षा की जा रही है और इसी योजना के तहत अमेरिका, जर्मनी में अपने सैनिकों की संख्या करीब 52 हजार से घटा कर 25 हजार कर रहा है।

वहीं, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बताया कि, ट्रम्प प्रशासन ने दो साल पहले अमेरिकी सेना की दुनियाभर में तैनाती की समीक्षा की थी। इस दौरान यह पता चला था कि, उसे खुफिया, सैन्य और साइबर विभाग का इस्तेमाल कहां करना चाहिए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co