Raj Express
www.rajexpress.co
अमेरिका-चीन की हुई दोस्ती, ट्रेड डील बनी जरिया
अमेरिका-चीन की हुई दोस्ती, ट्रेड डील बनी जरिया|Social Media
दुनिया

अमेरिका-चीन की हुई दोस्ती, ट्रेड डील बनी जरिया

अमेरिका और चीन के बीच लंबे समय से चल रहे ट्रेड वॉर में कुछ शांति नज़र आ रही है। अब दुश्मन दोस्त बनने जा रहे हैं, क्या है पूरा मामला जानिए इस रिपोर्ट में...

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस। अमेरिका-चीन के बीच चल रहा ट्रेड वॉर अब खत्म होते हुए दिख रहा है। इस दिशा में दोनों देशों की तरफ से पहला कदम रखा जा चुका है। ट्रेड डील के पहले फेज पर दोनों देशों ने दस्तखत कर दिए हैं। बता दें कि दिसंबर के महीने में दोनों देशों ने ट्रेड डील की दिशा में आगे बढ़ने का फैसला किया था। डील के पहले चरण के तहत अमेरिका ने चीन से आयात होने वाले सामान पर लगाए गए कुछ नए टैरिफ को वापस लेने की घोषणा की है। बदले में चीन अमेरिका से ज्यादा ऐग्री प्रॉडक्ट खरीदेगा। चीन अगले दो सालों में 200 अरब डॉलर से अधिक अमेरिकी सामान का आयात करेगा। इसमें 50 अरब डॉलर का ऐग्री प्रॉडक्ट, 75 अरब डॉलर का मैन्युफैक्चरिंग प्रॉडक्ट और 50 अरब डॉलर का एनर्जी सेक्टर से होगा।

इस समझौते के बाद MSCI का वर्ल्ड स्टॉक इंडेक्स शुरुआती कारोबार में ही 0.04 फीसदी चढ़ गया। जापान सहित एश‍िया-प्रशांत देशों के शेयर भी 0.21 फीसदी चढ़ गए। जापान का निक्केई भी 0.14 फीसदी चढ़ गया। भारतीय शेयर बाजार की बात करें तो गुरुवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्‍स 130 अंक तक मजबूत होकर 42 हजार के मनोवैज्ञानिक स्‍तर को पार कर लिया है।

व्हाइट हाउस में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने कहा कि, चीन के साथ दूसरे चरण की बातचीत भी जल्द शुरू होगी। पहले चरण की बातचीत पर अमल में आते ही दोनों देश दूसरे चरण की तरफ आगे बढ़ेगा। हालांकि, तब तक सैकड़ों अरब डॉलर के चाइनीज आयात पर टैरिफ पहले की तरह लगता रहेगा ट्रंप ने कहा कि, दूसरे फेज के लिए सहमति जैसे ही बन जाती है, हम एक्स्ट्रा टैरिफ वापस ले लेंगे।

बता दें कि अमेरिका ने साल 2018 में चीन के 250 अरब डालर के सामान के आयात पर आयात शुल्क 25 प्रतिशत तक बढ़ा दिया था। इसके जवाब में चीन ने भी 110 अरब डालर के अमेरिकी सामान के आयात पर शुल्क बढ़ा दिया। अमेरिका, चीन का सबसे बड़ा व्यापार भागीदार है। इसके बाद दोनों देशों के बीच एक तरह का ट्रेड वॉर शुरू हो गया, जिससे पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।