US President Trump again Angry on China
US President Trump again Angry on China|Social Media
दुनिया

कोरोना को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप एक बार फिर चाइना पर भड़कते दिखे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस को चाइना का वायरस बोलते हुए कभी भी चाइना पर हमला बोल देते हैं। वहीं, ट्रंप ने एक बार फिर चाइना के खिलाफ कोविड-19 को लेकर विवादित बयान दिया है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। अमेरिका और चाइना के बीच पिछले कुछ समय से लगातार खींचतान चल रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस को चाइना का वायरस बोलते हुए कभी भी चाइना पर हमला बोल देते है। वहीं, ट्रंप एक बार फिर चाइना के खिलाफ भड़कते दिखे। साथ ही उन्होंने कोविड-19 को लेकर चाइना के खिलाफ विवादित बयान भी दिया।

अमेरिकी राष्ट्रपति का विवादित बयान :

दरअसल, गुरूवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी पुरानी कही हुई बात को एक बार फिर दोहराते हुए कोरोना जैसा खतरनाक वायरस चीनी वायरस बताया। है ट्रंप का कहना है कि, यह जानलेवा वायरस चाइना से ही आया है। अमेरिका इससे बिलकुल भी खुश नहीं है। हमने हाल ही में कुछ बड़ी बिजनेस डील साइन की थीं। जिसकी इंक अभी सूखी भी नहीं और चाइना के कारण हालात खराब होते जा रहे हैं। ट्रंप ने आगे कहा, अमेरिका इसे हलके में न लेते हुए बहुत ही गंभीरता से लेगा। बता दें, इस बार ट्रंप ने यह बात मिशिगन में अफ्रीकी-अमेरिकी नेताओं के एक मीटिंग के दौरान कही।

पहले भी लगाए चाइना पर आरोप :

बताते चलें कि, अमेरिका इससे पहले भी कई बार चाइना पर कोरोना को लेकर तरह-तरह के इल्जाम लगा चुका है। पिछले बीते कुछ दिनों पहले अमेरिका ने चाइना पर वैक्सीन रिसर्च से सम्बंधित जानकारी को चुराने का आरोप भी लगाया था। वहीं, गुरूवार को हुई इस मीटिंग में अमेरिका ने कोरोना वैक्सीन से सम्बंधित दस्तावेजों के चोरी होने से बचाने से जुड़े कोविड-19 वैक्सीन प्रोटेक्शन एक्ट (COVID-19 Vaccine Protection Act) के बारे में बताया। वहीं, इस मीटिंग में मौजूद अमेरिकी अधिकारी सीनेटर टेड क्रूज़ ने इस बारे में जानकारी साझा की।

अमेरिकी अधिकारियों का कहना :

कोविड-19 वैक्सीन प्रोटेक्शन एक्ट के बारे में जानकारी देते हुए अमेरिका के एक अधिकारी सीनेटर टेड क्रूज़ ने बताया है कि, 'हम चाइना को अमेरिका में तैयार की जा रही कोरोना की वैक्सीन से जुड़ी रिसर्च की जानकारी नहीं चुराने देंगे।' वहीं इसी मामले में अमेरिका के अन्य अधिकारी स्कॉट का कहना है कि, 'कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के लिए कम्युनिस्ट पार्टी जिम्मेदार है। उनके गलत और भ्रम पैदा करने वाली जानकारी देने के कारण ही अमेरिका में इतने लोगों का जीवन बर्बाद हुआ है। हम कम्युनिस्ट पार्टी चाइना को किसी भी हाल में कोरोनावायरस की वैक्सीन से जुड़ी अमेरिकी रिसर्च की जानकारी चोरी करने नहीं देते हैं।'

गौरतलब है कि, अमेरिका में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। वहां, कोरोना से संक्रमितों की संख्या अब तक कुल 16.1 लाख तक पहुंच गई हैं। जिसमें मरने वालों की संख्या 95,087 पहुंच गई है। हालांकि, अमेरिका में लगभग 3.08 लाख लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co