US Scientists Invent Coronavirus Vaccine
US Scientists Invent Coronavirus Vaccine|Priyanka Sahu -RE
दुनिया

US वैज्ञानिकों ने खोज निकाली वैश्विक महामारी 'कोरोना' की वैक्सीन?

कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के चलते अमेरिकी वैज्ञानिकों द्वारा एक वैक्सीन तैयार की गई, जिसके 4 देशों से जबरदस्‍त परिणाम आए हैं एवं अमेरिकी सरकार भी इस वैक्सीन की मंजूरी दे सकती है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। चीन से शुरू हुआ घातक 'कोरोना वायरस' ने इन दिनों पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है, जिससे लोग काफी डरें-सहमें और परेशान हैं, क्‍योंकि इसका कोई इलाज नहीं है। इसी बीच एक अच्छी खबर येे सामने आई है कि, वैज्ञानिकों द्वारा 'कोरोना वायरस' का टीका यानी वैक्सीन तैयार किया गया है।

कोरोना खत्म करने में सफलता की उम्‍मीद :

दरअसल, अमेरिका में 'कोरोना वायरस' को लेकर जो वैक्सीन तैयार हुई है, इससे महामारी कोरोना को खत्म करने में सफलता हासिल की उम्‍मीद है, क्‍योंकि इस वैक्सीन का चार अन्‍य देशों क्लिनिकल ट्रायल किया गया, जिसके जबरदस्‍त परिणाम मिले हैं। अब बहुत जल्‍द ही अमेरिकी सरकार इस वैक्सीन को तैयार करने की मंजूरी दे सकती है।

पिछले महीने से ट्रायल जारी :

बताया जा रहा है कि, पिछले एक महीने से इस वैक्सीन को लेकर इन चार देशों 'चीन, दक्षिण कोरिया, फ्रांस और अमेरिका' में ट्रायल किया गया है, जो सफल रहा। इस बात की भी पुष्टि हुई है कि, इस वैक्सीन के जरिए जिन मरीजों का इलाज हुआ, उनमें काफी प्रभावी नतीजे सामने आए हैं।

वहीं, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेशन (CDC) के अनुसार, अमेरिका के वैज्ञानिकों ने क्लोरोक्वीन और हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन इन दोनों को मिलाकर एक वैक्सीन बनाई है।

भारत भी कर सकेगा इस वैक्सीन का उपयोग :

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा ये भी बताया गया है कि, अगर किसी वैक्सीन को अमेरिका के FDA से मंजूरी मिल जाती है, तो हम बिना देरी किए तुरंत भारत में भी इसका उपयोग कर सकते हैं।

जानकारी के लिए बताते चलें कि वैसे भारत में अभी तक किसी भी नई दवा को इलाज में लाने से पहले उसकी पूरी व लंबी प्रोसेस चलती है, जिसमें लगभग 2-3 महीनें का समय लगता है, लेकिन इस कोरोना की महामारी को देखते हुए इस वैक्सीन को बिना किसी देरी व प्रोसेस के मंजूरी मिलेगी।

वैक्सीन पर FDA की मंजूरी :

इस वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल को अमेरिका की फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने मंजूरी दे दी है। इसके अलावा अमेरिकी वैज्ञानिकों ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया में ये बात कही है।

कोरोना वायरस को खत्म करने में इस नए टीके ने सफलता हासिल की है, हालांकि FDA किसी भी टीके को मंजूरी देने में काफी लंबा समय लगाता है, लेकिन वैश्विक चुनौती और हालात देखते हुए अगले कुछ दिनों में इसे इलाज के लिए हरी झंडी मिलने की उम्मीद है।
अमेरिकन साइंटिस्ट

साथ ही वैज्ञानिकों का ये कहना भी है कि, ''सार्स को खत्म करने में इस दवा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, इस बार इस टीके में कोरोना वायरस के जेनेटिकल कोड के हिसाब से बदलाव किए गए हैं। कोरोना वायरस से लड़ने में इस वैक्सीन के नतीजे काफी आशाजनक हैं। कोरोना वायरस सार्स का ही बिगड़ा रूप है।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co