WHO प्रमुख ग्रेबेसियस ने दिखाया कोरोना महामारी के खत्म होने का सपना
WHO chief Grabesius gives relief news about CoronaSyed Dabeer Hussain - RE

WHO प्रमुख ग्रेबेसियस ने दिखाया कोरोना महामारी के खत्म होने का सपना

कोरोना वायरस से बने हालातों के बीच अब पूरी दुनिया के लिए एक राहत की खबर सामने आई है। जो कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने दिलासा देते हुए दी है।

राज एक्सप्रेस। चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस से पूरी दुनिया परेशान है। आज शायद ही कोई ऐसा देश होगा जो कोरोना संकट का सामना न कर रहा हो। ऐसे हालातों के बीच अब पूरी दुनिया के लिए एक राहत की खबर सामने आई है। जो कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने दिलासा देते हुए दी है।

WHO प्रमुख ने दी जानकारी :

दरअसल, पूरी दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन तैयार की जा रही है। कुछ देशों की वैक्सीन के काफी सकारात्मक परिणाम भी सामने आये हैं। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने इन परिणामों को मद्देनजर रखते हुए पूरी दुनिया को राहत देते वाला बयान जारी किया है। हालांकि, उन्होंने कोरोना को लेकर चेतावनी भी जारी की है। उन्होंने कहा है कि,

'कोरोना वैक्सीन के परीक्षणों के सकारात्मक परिणामों का अर्थ यह है कि, अब हम महामारी के खत्म होने का सपना देख सकते हैं। यह वैश्विक सार्वजनिक वस्तुओं के तौर पर हर किसी को समान रूप से बांटी जाएगी ना कि निजी वस्तुओं के रूप में गिनी-चुने लोगों की दी जाएगी। वैक्सीन को एक समान तरीके से सभी लोगों को दिया जाएगा ताकि कोई भी व्यक्ति पीछे ना रह जाए।'

टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस, WHO प्रमुख

WHO के प्रमुख की चेतावनी :

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने चेतावनी देते हुए आगे ये भी कहा कि, 'बस अमीर और ताकतवर देश वैक्सीन को लेकर गरीबों को हाशिए पर ना रखें। महामारी पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के पहले उच्च-स्तरीय सत्र को संबोधित करते हुए टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने कहा कि भले ही रास्ते में आगे धोखा मिल सकता है। महामारी ने अच्छे और बुरे दोनों के लिए इंसानियत दिखाई है। वैक्सीन किसी की कमजोरी को संबोधित नहीं करेगा, जो इसकी जड़ में निहित है। एक बार महामारी खत्म होने के बाद गरीबी, भूख, असमानता और जलवायु परिवर्तन का निपटारा किया जाएगा।'

महामारी के लिए तैयार नहीं थे कई देश :

प्रमुख टेड्रोस ने बताया कि, 'कई सालों तक चेतावनी देने के बाद भी कई देश महामारी के लिए तैयार नहीं थे और इस अनुमान में रह रहे थे कि उनकी स्वास्थ्य प्रणाली लोगों को इस महामारी से बचा लेगी। महामारी ने वायरस के नमूने साझा करने के लिए एक वैश्विक प्रणाली की आवश्यकता को दर्शाया है। हमें महामारी को ध्यान में रखते हुए दोबारा से तार्किक तरीके से सोचने की जरुरत है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co