Raj Express
www.rajexpress.co
श्रीलंका और पाकिस्तान के बीच होने जा रही है वनडे और टी20 सीरीज़
श्रीलंका और पाकिस्तान के बीच होने जा रही है वनडे और टी20 सीरीज़|Syed Dabeer Hussain - RE
दुनिया

पाक-भारत सम्बन्धों की अग्निपरीक्षा है श्रीलंका का पाकिस्तान दौरा

भारत-पाकिस्तान के रिश्तों को लेकर श्रीलंका का ये दौरा पाकिस्तान के लिए अहम होगा। यदि सीरीज़ सफल होती है तो पाक के पास देश के अमन-चैन की बातों को दुनिया के सामने पेश करने के लिए काफी कुछ होगा...

Neelesh Singh Thakur

हमले की खबरों के बावजूद श्रीलंकाई टीम क्रिकेट मैच खेलने ना-नुकुर के बाद आखिरकार पाकिस्तान पहुंच गई। ओल्ड कराची हवाई अड्डे पर पाकिस्तान की ज़मीन पर कदम रखने के बाद स्वागत रस्म पूरी कर मेजबान मुल्क ने मेहमान श्रीलंकाई खिलाड़ियों को बुलेटप्रूफ गाड़ियों में बैठाकर सीधे होटल पहुंचा दिया।

कराची, लाहौर में प्रस्तावित तीन-तीन वनडे और टी20 मैचों की सीरीज़ के दौरान श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर खेल के अलावा साल 2009 की लाहौर के आतंकी हमले वाली घटना का मनोवैज्ञानिक दबाव पहले से ही रहेगा। जबकि होम ग्राउंड में लंबे समय के बाद किसी इंटरनेशनल टीम के खिलाफ खेलने का मौका मिलने से पाकिस्तानी खिलाड़ियों के हौसले बुलंद रहेंगे।

इतने दिन के लिए घिरी लंका-

श्रीलंकाई खिलाड़ियों को पाकिस्तान में सुरक्षा के साये में 13 दिन गुजारना होंगे। इतने दिन स्पेशल सिक्युरिटी स्कवॉड की चौकस निगरानी में श्रीलंकाई खिलाड़ी घिरे रहेंगे ताकि हमले वाली पुरानी चूक फिर से न हो। कार्यक्रम के अनुसार टीम श्रीलंका पहले कराची में एक दिवसीय 3 मैचों की श्रंखला खेलेगी। उसके बाद लाहौर में टी20 के 3 मैचों की सीरीज़ में पाकिस्तान की चुनौती का सामना करने मैदान में उतरेगी।

पाकिस्तान के लिए बेहद अहम सीरीज़

आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक मामलों में लगातार पिछड़ रहे पाकिस्तान में क्रिकेट और क्रिकेटर्स के भी बुरे दिन चल रहे हैं। खुद कभी पाकिस्तान को वनडे क्रिकेट वर्ल्ड कप जिताने वाले हरफन मौला कप्तान और मौजूदा प्रधानमंत्री इमरान खान का देश की साख में चांद-सितारे जड़ने का हर दांव इस समय नाकाम है।

मुल्क की मेजबानी में श्रीलंका का दौरा सफल होने की उम्मीद पाकिस्तान में लोग कर रहे हैं। इस दौरे पर मेजबान पाकिस्तान की साख भी टिकी हुई है। यदि सीरीज़ की हैप्पी एंडिंग होगी तो पड़ोसी मुल्क में क्रिकेट खेलने को लेकर दूसरी टीमों के लिए भी रास्ता साफ हो सकेगा।

ये फायदा होगा-

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को विदेशी टीमों के पाकिस्तान आकर खेलने के बारे में मना करने से बीते कई सालों से बहुत नुकसान उठाना पड़ा है। मेहमान टीमों के साथ पाकिस्तान को अपने कोटे के मैच यूनाइटेड अरब अमीरात में कराने पड़े। इस कारण मैचों से होने वाली पीसीबी की कमाई का बड़ा हिस्सा विदेशों के होटल्स, स्टेडियम बगैरह-बगैरह का किराया जमा करने में ही खर्च हो गया।

घटते दर्शक हैं चिंता का विषय-

विदेशों में मैच कराने के कारण पाकिस्तान के मैचों में समर्थक दर्शकों का भी टोटा रहा। विदेशों में हुई पाकिस्तान की सीरीज़ के कई मैचों के दौरान दर्शक दीर्घा में सन्नाटा पसरा रहा। उम्मीद जताई जा रही है कि कराची और लाहौर के मैचों के बाद पाकिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में भी क्रिकेट फैंस की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच लोग शाबाशी की आवाज़ फिर सुन सकेंगे जो धमाके के बाद से खामोश है।

लाहौर धमाके की गूंज

पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट टीमों के न खेलने का निर्णय भी श्रीलंका के दौरे से ही जुड़ा है। दरअसल पिछली दफा श्रीलंकाई टीम जब 2009 में क्रिकेट खेलने लाहौर पहुंची थी तब आतंकियों के हमले में छह खिलाड़ी घायल हो गए थे। इस हमले में पाकिस्तान के छह पुलिस कर्मी और दो नागरिकों को भी प्राण गंवाने पड़े थे।

खिलाड़ी नहीं राष्ट्राध्यक्ष कहें जनाब

ज़ाहिर हालातों के बावजूद पाकिस्तान जाने का निर्णय लेकर श्रीलंकाई चीतों ने वर्ल्ड मीडिया को आकृष्ट किया है। श्रीलंका के मेहमान खिलाड़ियों को पाकिस्तान में राष्ट्राध्यक्ष स्तर की सुरक्षा यह बोलकर मुहैया कराई गई है कि पाकिस्तान में सब कुछ ऑल इज़ वेल है। श्रीलंकाई खिलाड़ियों के हर पल-हर पग सुरक्षा की निगरानी सुरक्षा विशेषज्ञों की टीम कर रही है।

श्रीलंका से बड़े नाम गायब-

श्रीलंकाई टीम में बड़े खिलाड़ियों के तौर पर खिलाड़ियों का टोटा साफ नज़र आ रहा है। बल्लेबाज लाहिरू थिरिमने वनडे जबकि बैटिंग ऑलराउंडर दासुन शनाका टी20 क्रिकेट मैचों में श्रीलंकाई टीम के कप्तान रहेंगे। श्रीलंका के लसिथ मलिंगा और एंजेलो मैथ्यूज़ का करिश्माई खेल पाकिस्तान और दुनिया भर के क्रिकेट फैंस को देखने नहीं मिलेगा क्योंकि वो दौरे पर नहीं पहुंचे। गौरतलब है कि प्रस्तावित दौरे पर जाने के लिए श्रीलंका के दस शीर्ष खिलाड़ियों ने हमले की आशंका से कारण दौरे से हटने का फैसला किया था।

अब आगे कब क्या होगा?

श्रीलंका इस दौरे पर पाकिस्तान को 27, 29 सितंबर और 2 अक्टूबर को वनडे में टक्कर देगा। ये तीनों ही मैच कराची में होंगे। इसके बाद लाहौर में टी20 सीरीज़ के 3 मैच होने हैं जो 5, 7 और 9 अक्टूबर को होंगे।

किसने क्या कहा?

देश के रक्षा मंत्रालय से हरी झंडी मिलने के बाद पाकिस्तान रवाना होने से पहले श्रीलंकाई वनडे टीम कप्तान लाहिरू थिरिमने ने कहा ‘उन्होंने पाकिस्तान में बहुत उच्च स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था का भरोसा दिया है।’

टीम को निशाना बनाए जाने की खबरों के बीच पाकिस्तान पहुंची श्रीलंकाई टी20 टीम कप्तान दासुन शनाका ने कहा “मैं हमारे लिए किए गए सुरक्षा इंतज़ामों से संतुष्ट हूं और पाकिस्तान में टीम की कप्तानी करने की मुझे खुशी भी है। हम बहुत मजबूत प्रतिद्वंदी को कड़ी टक्कर देने की आशा के साथ पाकिस्तान आए हैं।”

मंगलवार 24 सितंबर से श्रीलंकाई चीतों ने पाकिस्तान में डेरा डाल रखा है। सौभाग्य से अब तक आतंकियों की ओर से किसी कायराना हरकत की खबर नहीं आई है। श्रीलंकाई टीम पर हमले के बाद से यह पहला मौका होगा जब कोई अंतर राष्ट्रीय क्रिकेट टीम पाकिस्तान में 2 हफ्ते से ज्यादा वक्त के लिए रुकेगी।

दोनों सीरीज़ के लिए श्रीलंका-

  • वनडे- लाहिरू थिरिमने (c), अविष्का फर्नांडो, ओशदा फर्नांडो, दानुष्का गुनाथिलका, शेहन जयासूर्या, दासुन शनाका, एंजेलो परेरा, इसुरु उदाना, सदीरा समाराविक्रमा (wk), मिनोद भानुका (wk), वानिडु हसारंगा, एल. संदाकन, नुवान प्रदीप, कासुन रजिथा, लाहिरु कुमारा।

  • टी20 टीम- अविष्का फर्नांडो, ओशदा फर्नांडो, भानुका राजपक्षा, दासुन शनाका (c), दनुष्का गुनाथिलका, शेहन जयासूर्या, एंजेलो परेरा, लाहिरू मदुशनाका, इसुरु उदाना, सदीरा समाराविक्रमा (wk), मिनोद भानुका, वानिडु हसारंगा, लक्षण संदाकन, नुवान प्रदीप, कासुन रजिथा, लाहिरु कुमारा।

पाकिस्तान के संभावित खिलाड़ी-

बाबर आज़म, आबिद अली, आसिफ अली, फख़र ज़मान, इमाम-उल-हक, हैरिस सोहेल, इफ़्तिख़ार अहमद, मोहम्मद नवाज़, शादाब खान, सरफराज़ अहमद (c & wc), मोहम्मद रिज़वान, मोहम्मद हसनैन, मोहम्मद आमिर, उस्मान शिनवारी, वहाब रियाज़।

खेल के जरिए कूटनीति!

एशियाई आर्थिक, राजनीतिक मामलों पर नज़र रखने वाली एक पड़ताल में इस बात पर खास तवज़्जो दी गई है कि भारत-पाकिस्तान के आपसी रिश्तों को लेकर भी श्रीलंका का दौरा पाकिस्तान के लिए काफी अहम होगा। यदि सीरीज़ सफल रहती है तो पाकिस्तान के पास देश के अमन-चैन की बातों को दुनिया के सामने पेश करने के लिए काफी कुछ होगा, वरना तो अंज़ाम जग ज़ाहिर है ही। क्या राय है आपकी इस बारे में?