विश्व हिंदी दिवस
विश्व हिंदी दिवसSocial Media

World Hindi Day 2023 : जानिए 10 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस? क्या है इसका महत्व?

भारत में 50 करोड़ से भी अधिक लोग हिंदी भाषा बोलते हैं। वहीं दुनियाभर की बात करें तो पूरी दुनिया में 60 करोड़ से भी अधिक लोग हिंदी भाषा बोलते हैं।

राज एक्सप्रेस। हर साल 10 जनवरी को पूरी दुनिया में ‘विश्व हिंदी दिवस’ यानी World Hindi Day मनाया जाता है। इस दिन दुनियाभर में हिंदी भाषा को लेकर जागरूकता फैलाने और तमाम हिंदी बोलने वालों को एक सूत्र में बांधने के प्रयास किए जाते हैं। इस तरह हिंदी निबंध प्रतियोगिताओं सहित कई तरह के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। हर साल ‘विश्व हिंदी दिवस’ मनाने के लिए एक थीम भी जारी की जाती है। इस साल की थीम है - 'हिंदी को जनमत की भाषा बनाना, बगैर उनकी मातृभाषा की महत्वता को भूले।'

विश्व हिंदी दिवस का इतिहास :

दरअसल 10 जनवरी 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नागपुर में ‘विश्व हिंदी सम्मेलन’ का आयोजन किया था। इस सम्मलेन में 30 देशों के 122 प्रतिनिधि शामिल हुए थे। इसके बाद साल 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस मनाने का ऐलान किया था। इसके बाद अन्य देशों में भी ‘विश्व हिंदी दिवस’ मनाया जाने लगा।

कैसे मिला नाम?

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हिंदी भाषा को उसका नाम फारसी भाषा से मिला है। दरअसल फारसी भाषा में सिंधु नदी की भूमि को हिंद और यहां रहने वाले लोगों को हिन्दू कहा जाता था। ऐसे में यहां के लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा को हिंदी कहा जाने लगा।

दुनिया में हिंदी :

भारत में 50 करोड़ से भी अधिक लोग हिंदी भाषा बोलते है। वहीं दुनियाभर की बात करें तो पूरी दुनिया में 60 करोड़ से भी अधिक लोग हिंदी भाषा बोलते हैं। इस विशाल संख्या के कारण ही हिंदी को दुनिया की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा माना जाता है।

भारत के बाहर हिंदी :

भारत के अलावा कई ऐसे देश हैं, जहां हिंदी बोलना आम है। जैसे फिजी में हिंदी एक आधिकारिक भाषा है। इसके अलावा सूरीनाम, गुयाना, मॉरीशस और त्रिनिदाद में हिंदी भाषा को क्षेत्रीय भाषा के रूप में मान्यता दी जा चुकी है। साथ ही श्रीलंका, संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, न्यूजीलैंड और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे अन्य देशों में भी व्यापक रूप से हिंदी भाषा बोली जाती है।

राष्ट्रीय नहीं राजकीय भाषा :

कई लोग यह मानते हैं कि हिंदी भारत की राष्ट्रीय भाषा है, लेकिन असल में यह राष्ट्रीय नहीं बल्कि राजकीय भाषा है। 26 जनवरी 1950 को संविधान के अनुच्छेद 343 में हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दी गई थी। साथ ही राज्यों को अपनी आधिकारिक भाषा को छूट देने की मान्यता है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co